भक्ति संगीत संध्या : श्याम सलोने मुरली वाले तेरे कितने नाम...

भक्ति संगीत संध्या : श्याम सलोने मुरली वाले तेरे कितने नाम...

dinesh swami | Publish: Sep, 03 2018 10:53:05 AM (IST) Bikaner, Rajasthan, India

बीकानेर. लक्ष्मीनाथजी मंदिर में रविवार को कृष्णजन्मोत्सव मनाया गया। इस अवसर पर दर्शनार्थियों का तांता लगा रहा। श्री लक्ष्मीनाथ मंदिर विकास एवं पर्यावरण समिति की ओर से रविवार को श्री लक्ष्मीनाथ मंदिर परिसर में नगर विकास न्यास, नगर निगम, एसबीआइ एवं राजस्थान संगीत अकादमी संयुक्त तत्वावधान में भक्ति संगीत संध्या आयोजित की गई।


बीकानेर. लक्ष्मीनाथजी मंदिर में रविवार को कृष्णजन्मोत्सव मनाया गया। इस अवसर पर दर्शनार्थियों का तांता लगा रहा। श्री लक्ष्मीनाथ मंदिर विकास एवं पर्यावरण समिति की ओर से रविवार को श्री लक्ष्मीनाथ मंदिर परिसर में नगर विकास न्यास, नगर निगम, एसबीआइ एवं राजस्थान संगीत अकादमी संयुक्त तत्वावधान में भक्ति संगीत संध्या आयोजित की गई।

कार्यक्रम का आगाज मनोज रंगा ने गणेश वंदना से किया। जोधपुर से आए दिलीप गावैया एंड पार्टी ने 'दीवाना तेरा आया, महाराणा प्रताप कठै, श्याम सालोने मुरली वाले तेरे कितने नाम...'सरीखे भजन सुनाकर श्रोताओं को झूमने को मजबूर कर दिया। शाम साढ़े सात बजे बाद शुरू हुए कार्यक्रम का बड़ी संख्या में श्रोताओं ने देर रात लुत्फ उठाया।

 

नृत्य लीलाओं से किया मोहित
कार्यक्रम में डीग भरतपुर के बृजलोक कला मंच की विष्णुशर्मा एण्ड पार्टी ने माखन चोरी, मयूर रास, श्री कृष्ण विवाह लीला एवं बधाई उत्सव की नृत्य प्रस्तुतियोंं से सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। कलाकारों ने नृत्य के पात्रों को साकार कर दिया।

 

ये रहे मौजूद
इस मौके पर जिला कलक्टर डॉ. एनके गुप्ता, पश्चिम विधायक डॉ. गोपाल कृष्ण जोशी, महापौर नारायण चौपड़ा, नगर विकास न्यास अध्यक्ष महावीर रांका, भाजपा जिलाध्यक्ष सत्य प्रकाश आचार्य, कांग्रेसी नेता जनार्दन कल्ला, शहर कांग्रेस अध्यक्ष यशपाल गहलोत, भाजपा महासचिव मोहन सुराणा, हिन्दू जागरण मंच के प्रदेशाध्यक्ष जेठानंद व्यास, विजय आचार्य, डॉ. पिन्टू नाहटा, युधिष्ठिर सिंह भाटी, व्यापार मण्डल अध्यक्ष जुगल किशोर राठी अतिथि के रूप शामिल हुए।

 

इनकी रही भागीदारी
संगीत संध्या के आयोजन को लेकर पूनमचंद पालीवाल, सीताराम कच्छावा, श्रीरतन तम्बोली, अशोक सोनी, हरिप्रकाश सोनी, शशि दरगड़, महेन्द्र सोनी, विनोद महात्मा सहित समिति के सदस्यों ने भागीदारी निभाई।

 

संस्कारों का जागरण महत्वपूर्ण
बीकानेर. ज्ञानशाला बालक-बालिकाओं की संस्कार निर्माण की कार्यशाला है। बचपन में बोए गए संस्कारों के ये बीज पल्लवित होकर एक कुशल व्यक्तित्व का निर्माण करती है।Ó ये उद्गार मुनि मुनिव्रत ने ज्ञानशाला दिवस पर आयोजित मुख्य कार्यक्रम में व्यक्त किए। मुनि गिरीशकुमार ने वर्तमान समय में संस्कारों के जागरण को अति महत्त्वपूर्ण बताया। ज्ञानशाला दिवस के अवसर पर ज्ञानशाला रैली का आयोजन किया गया। शांतिनिकेतन में साध्वी मधुरेखा के मंगलपाठ के बाद तेरापंथी सभा के मंत्री अमरचन्द सोनी ने झंडी दिखाकर रैली को रवाना किया। मुख्य कार्यक्रम का शुभारम्भ प्रशिक्षिकाओं ने प्रस्तुत मंगलाचरण के बाद बच्चों ने गीत प्रस्तुत किया। ज्ञानार्थियों द्वारा प्रस्तुत आधुनिक सामायिक नाट्य सबके आकर्षण का केन्द्र रहा। ज्ञानार्थियों ने नौ तत्व पर संवाद प्रस्तुत किया। देवेन्द्र डागा, मंजू आंचलिया, डॉ. पीसी तातेड़, तृप्ति चोरडिय़ा, सुनीता पुगलिया ने अपने विचार रखे। आचार्य तुलसी शांति प्रतिष्ठान के अध्यक्ष लूणकरण छाजेड़, महामंत्री जतनलाल दूगड़ ने प्रशिक्षिकाओं व कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned