12 सितंबर तक सामूहिक अवकाश पर रहेंगे लैब टेक्नीशियन

चार दिन से लैब टेक्निशियन चिकित्सालयों में काम नहीं कर रहे हैं, जिससे चिकित्सा व्यवस्था चरमरा गई है।

By: अनुश्री जोशी

Published: 11 Sep 2017, 09:20 AM IST

लैब टेक्निशियनों का सामूहिक अवकाश और आंदोलन व्यापक रूप लेता नजर आ रहा है। सरकार के रेस्मा लागू करने से कर्मचारी आक्रोशित हैं, वहीं दूसरे संगठन भी लैब टेक्निशियनों के आंदोलन को समर्थन दे रहे हैं। चार दिन से लैब टेक्निशियन चिकित्सालयों में काम नहीं कर रहे हैं, जिससे चिकित्सा व्यवस्था चरमरा गई है। रेस्मा लागू करने के बाद से लैब टेक्निशियन भूमिगत हो गए हैं। उन्हें काम पर लौटने के नोटिस जारी गए हैं, लेकिन वे जिद पर अड़े हुए हैं।

 

पीबीएम चिकित्सालयों प्रशासन ने कलक्टर व एसपी को आंदोलनकारी 39 कर्मचारियों की सूची सौंपी है। एसपी मेडिकल कॉलेज एवं पीबीएम चिकित्सालयों में करीब ११३ लैब टेक्निशियन कार्यरत हैं। सभी के सामूहिक अवकाश पर जाने से प्रोबेशन वाले कुछ कर्मचारियों से काम चलाया जा रहा है। लैब टेक्निशियनों के अवकाश से मरीज परेशान हो रहे हैं। दूर-दराज के लोगों को निजी लैबों में जांचें करानी पड़ रही है। लैब टेक्निशियन 12 सितंबर तक सामूहिक अवकाश पर रहेंगे।

 

सख्ती से निपटें
तीन दिन से बुखार है। हाथ-पैरों में दर्द है। पीबीएम में चिकित्सक से चैकअप कराने आई। चिकित्सक ने सीबीसी, यूरिन सहित अन्य जांचें कराने की सलाह दी, लेकिन हड़ताल के चलते जांचें नहीं हो पाई। निजी लैब से जांचें कराई तो छह सौ रुपए लगे। सरकार हड़ताल करने वाले कर्मचारियों के खिलाफ सख्ती से निबटे।
- सरस्वती देवी, मरीज

 

सरकार को बता चुके
कलक्टर व एसपी को 39 लैब टेक्निशियनों की सूची सौंप दी है। सरकार ने रेस्मा लागू कर दिया है। लैब टेक्निशियनों के सामूहिक हड़ताल के चलते इमरजेंसी सभी जांचें हो रही हैं, लेकिन रुटीन काम पूरी तरह प्रभावित हैं। सरकार को बता चुके हैं।
डॉ. पीके बैरवाल, अधीक्षक, पीबीएम चिकित्सालय

 

चिकित्सकों व कर्मचारी संगठनों का समर्थन
लैब टेक्निशियनों के आंदोलन को अखिल राजस्थान सेवारत संघ एवं अखिल राजस्थान राज्य संयुक्त कर्मचारी महासंघ (एकीकृत) ने समर्थन दिया है। सेवारत संघ के डॉ. राहुल हर्ष एवं डॉ. अबरार पंवार ने कहा कि अरिस्डा ने सरकार की ओर से लैब टेक्निशियनों की हड़ताल में दमनकारी नीति का विरोध किया है। सरकार कर्मचारियों से वार्ता कर समाधान करे।

 

महांसघ के प्रदेश उपाध्यक्ष व बीकानेर जिलाध्यक्ष भंवर पुरोहित ने कहा कि रेस्मा लागू करना अनुचित है। पुरोहित ने प्रदेशाघ्यक्ष महेन्द्र सिंह चौधरी से वार्ता कर सरकार और लैब टेक्निशयन के बीच मध्यस्ता का आग्रह किया। चौधरी से चिकित्सा मंत्री से वार्ता की। सोमवार को चिकित्सा मंत्री की लैब टेक्निशियन कर्मचारियों से वार्ता होगी।

Show More
अनुश्री जोशी
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned