मलमास 16 से शुरू होगा, एक माह तक नहीं होंगे मांगलिक कार्य

इस बार 15 जनवरी को रहेगी मकर संक्रांति

 

बीकानेर. मलमास इस बार 16 दिसंबर से शुरू होंगे। इस दौरान एक माह तक मांगलिक कार्य वर्जित रहेंगे। ज्योषि शास्त्र के अनुसार सूर्य जब धनु राशि में होता है, तो उस समय को मलमास कहते है। इस बार 16 दिसंबर से 14 जनवरी तक मलमास रहेगा। वहीं मकर सक्रांति भी इस बार 15 जनवरी को होगी। सूर्य मेषादि बारह राशियों में भ्रमण करते हुए इस बार 16 दिसंबर को दोपहर 3:26 बजे धनुराशि में प्रवेश करेगा।

पंचागकर्ता पंडित राजेन्द्र किराड़ू के अनुसार १४ जनवरी को सूर्य रात्रि २:०६ बजे मकर राशि में प्रवेश करेगा। इसका पुण्य काल अगले दिन १५ जनवरी को सुबह से आरंभ होगा। मलमास को लेकर शहर में कई स्थानों पर मिठाई की अस्थायी दुकानें सजने लगी है जिनमें घेवर व फीणी तैयार तो रहे है।


शुभ कार्य रहेंगे निषेध
मलमास की अवधि में विवाह, यज्ञोपवित संस्कार, वास्तु पूजन, नींव पूजा, घर प्रवेश, नए व्यापारिक प्रतिष्ठानों के मुहूर्त आदि कई तरह के शुभ कार्य वर्जित माने गए है। वहीं नामकरण संस्कार एवं नक्षत्र शांति पूजा कर सकेंगे। मलमास अवधि में भगवान विष्णु की अराधना करने से विशेष फल की प्राप्त होती है। मकर सक्रांति के दिन तिल से निर्मित वस्तुओं के दान का खास महत्व बताया गया है। मुख्यरूप से अन्नदान, गुड़ व तिल दान करना चाहिए। मकर राशि में सूर्य के प्रवेश करने के बाद से दिन की अवधि बड़ी व रात छोटी हो जाएगी।

Atul Acharya Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned