मातमी माहौल में नम आंखों से ताजियों को दी विदाई

मोहर्रम - दिन भर चला इबादत का दौर, आशुरा का रोजा रखा
नहीं निकले जुलूस- हलीम, छबील और खीर का वितरण

By: Vimal

Published: 21 Aug 2021, 10:26 PM IST

बीकानेर. हजरत इमाम हुसैन की याद में शुक्रवार की शाम मातमी माहौल में शहर की विभिन्न कर्बलाओं में ताजियों को ठण्डा कर दिया गया। अकीदतमंदों ने नम आंखों से ताजियों को विदा किया। अलग-अलग मोहल्लों से ताजियादारों ने दिन भर जियारत के बाद शाम को अपने स्तर पर सादगी से ताजियों को रवाना किया। कोविड गाइडलाइन की पालना के तहत इस बार ताजियों का जुलूस नहीं निकाला गया।

शुक्रवार को मोहर्रम की १०वीं तारीख पर आशुरा का रोजा रखा गया तथा घरों में नवाफिल पढ़े गए। हलीम, छबील, खीर का वितरण किया गया। दिनभर ताजियों की जियारत का दौर चला तथा अकीदतमंदों ने मन्नतें मांगी। सालभर निरोग रहने की भावना से छोटे बच्चों को ताजियों के नीचे से निकाला गया। अकीदतमंदों ने ताजियों पर खोपरे, सूखे मेवे, पताशे और हलवा-पूरी चढ़ाए। हजरत इमाम हुसैन की याद में मर्सिया भी पढ़ी गई।

सोनगिरी कुआ क्षेत्र का ताजिया मकामी स्थान पर ही ठण्डा कर दिया गया। मोहल्ला उस्तान का ताजिया सलाम, नोहा, शाम ए गरीबा पढऩे के बाद इमाम बाडे में ही रख दिया गया। मोहल्ला चूनगरान के हरियल ताजिये कर्बला में ठण्डे कर दिए गए। मोहर्रम पर मोहल्ला चूनगरान में महफिले मिलाद का आयोजन किया गया।

Show More
Vimal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned