मंदिरों में सन्नाटा, घर-घर हो रही देवी की आराधना

चैत्र नवरात्रा - पुजारी कर रहे पूजा-अर्चना और महाआरती

 

By: Vimal

Published: 20 Apr 2021, 03:26 PM IST

बीकानेर. शक्ति की उपासना का पर्व नवरात्र व्रत-अनुष्ठान और पूजा-अर्चना के साथ मनाया जा रहा है। कोरोना महामारी के कारण जहां कई मंदिरों में दर्शनार्थियों का प्रवेश निषेध किया हुआ है वहीं जो मंदिर खुले है उनमें भी कोरोना एडवाईजरी की सख्ती से पालना करवाई जा रही है। वीकेंड कफर््यू के दौरान नवरात्रा के बावजूद दर्शनार्थियों की मंदिरों से दूरी बनी हुई है। लोग घरों में ही देवी की पूजा-अर्चना कर व्रत -अनुष्ठान कर रहे है। कई देवी मंदिर खुले होने के बावजूद दशनार्थियों के निज मंदिर में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया हुआ है। मंदिरों के गेट और दीवारों पर मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंस रखने और कोरोना से बचाव के संदेश चस्पा किए हुए है। श्रद्धालु मंदिरों के बाहर से ही दर्शन और ध्वजा को वंदन कर रहे है।


न जयकारे, ना कतारें
कोरोना के कारण इस बार देवी मंदिरों में हर साल रहने वाली रौनक नहीं है। सुबह से शाम तक रूक-रूक कर लगने वाले देवी मां के जयकारों की गूंज भी सुनाई नहीं दे रही है। दर्शनों के लिए श्रद्धालुओं को लंबी कतार में लगकर दर्शन करने पड़ते थे। कोरोना के कारण हालात यह है कि लोग मंदिरों से कही अधिक घरों पर ही देवी की उपासना अधिक कर रहे है। नागणेचेजी मंदिर में दर्शनार्थियों के प्रवेश पर रोक लगी हुई है। एलईडी के माध्यम से देवी मां के दर्शन करवाए जा रहे है। देशनोक करणी माता मंदिर में भी 21 अप्रेल तक दर्शनार्थियों का प्रवेश बंद है।

 

कोरोना महामारी से छुटकारे की कामना
देवी मंदिरों में पहुंच रहे कुछ श्रद्धालु मंदिरों में रूकने की बजाय केवल दर्शन कर लौट रहे है। इस दौरान मां भगवती के चरणों में धोक लगाकर कोरोना महामारी से विश्व को मुक्ति दिलवाने की कामना कर रहे है। शनिवार को मूंधड़ा चौक स्थित माताजी मंदिर, करमीसर रोड स्थित राजराजेश्वरी त्रिपुरा बाला सुंदरी मंदिर, गायत्री भवन, उष्ट्रवाहिनी मंदिर, आशापुरा मंदिर, सच्चियाय ओसिया माताजी मंदिर सहित विभिन्न देवी मंदिरों में पुजारियों की ओर से पूजन कर आरती की गई। वीकेंड कफर््यू के कारण महज कुछ दर्शनार्थी ही मंदिरों में पहुंच रहे है।

 

घरों में चल रहे पूजन-अनुष्ठान
चैत्र नवरात्र में प्रतिपदा से चल रहा पूजन -अनुष्ठान परवान पर है। घर-परिवार के सदस्य मां भगवती की पूजा-अर्चना, व्रत-अनुष्ठान और महाआरती कर रहे है। मां भगवती के पाठ और मंत्रों का जाप चल रहा है। नवरात्र पूजन अनुष्ठान में २० अप्रेल को दुर्गा अष्टमी व्रत-पूजन होगा। आठ दिनों का नवरात्र पूजन अनुष्ठान करने वाले श्रद्धालु नवरात्र पूजन की पूर्णाहुति करेंगे। २१ नवम्बर को रामनवमी व्रत-पूजन होगा। नवरात्रा पूजन-अनुष्ठान की पूर्णाहुति पर हवन में आहुतियां दी जाएगी व देवी स्वरूप कन्याओं का पूजन किया जाएगा।

Show More
Vimal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned