अवैध हथियार रखने वालों की अब आएगी शामत

एक जनवरी से चलेगा विशेष अभियान, सीआइडी एडीजीपी ने जारी किए आदेश

By: dinesh swami

Published: 30 Dec 2018, 12:37 AM IST

 

बीकानेर. प्रदेश में पुलिस एवं एटीएस की तमाम कोशिशों के बावजूद अवैध हथियारों की तस्करी और अपराधिक वारदातों में अवैध हथियारों का उपयोग बड़े पैमाने पर हो रहा है।

 

पुलिस लाइसेंसी हथियारों पर निगरानी रखती है तो बदमाश अवैध हथियारों से वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। इनसे निबटने के लिए पुलिस मुख्यालय ने अवैध हथियारों की धरपकड़ के लिए एक जनवरी से 31 जनवरी तक विशेष अभियान चलाने के आदेश जारी किए है। इसके लिए सीआइडी (सीबी) अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस भगवानलाल सोनी ने विस्तृत कार्ययोजना जारी की है।

 

पुराना रेकॉर्ड खंगालेंगे

एडीजीपी ने आदेश में कहा है कि अवैध हथियारों का निर्माण करने वाली पुरानी गैंग और अवैध हथियारों की तस्करी में पकड़े गए बदमाशों की निशादेही पर दबिश की कार्रवाई की जाए। पहले जिन ठिकानों पर हथियार बनाने या रखने के मामले सामने आए वहां संबंधित थानाधिकारी एवं वृत्ताधिकारी स्वयं जाकर जांच करें।

 

इस कारोबार से जुड़े रहे पुराने अपराधियों की वर्तमान गतिविधियों की निगरानी रखी जाए। राज्य के सीमावर्ती जिले मेंअवैध हथियारों की बरामदगी की कार्रवाई करें। पुलिस अधीक्षक, रेंज महानिरीक्षक स्वयं पड़ोसी राज्यों के पुलिस अधिकारियों से समन्वय स्थापित कर काम करें। साथ ही पिस्तौल, बंदूक व अन्य आम्र्स का उपयोग वाल मामलों का प्राथमिकता से निस्तारण और आरोपियों की गिरफ्तारी की जाए।

 

सालभर में 97 प्रकरण

अवैध हथियारों की सप्लाई पर अंकुश नहीं लगने से बीकानेर जिला अब अंतरराज्जीय तस्करों का गढ़ बन गया है। जिलेभर में पुलिस वर्ष 2018 में अवैध हथियारों के 97 प्रकरण दर्ज किए। इनमें 95 तस्करों को पकड़ा और 107 हथियार बरामद किए।

 

 

अवैध हथियारों की धरपकड़ के लिए एक जनवरी से विशेष अभियान चलाया जाएगा। फर्जी हथियार लाइसेंस के आधार पर रखे गए अवैध हथियारों की भी बरामदगी की जाएगी। अभियान के लिए थानास्तर पर दो-दो टीमें बनाई गई है।

सवाईसिंह गोदारा, पुलिस अधीक्षक बीकानेर

dinesh swami Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned