पीबीएम अस्पताल में 37 डीडीसी में से 11 बंद, दवा के लिए मरीज-परिजन हो रहे परेशान

वितरण केन्द्र पर दवा व वार्ड में फ्लूड नहीं

By: अनुश्री जोशी

Published: 25 Apr 2018, 09:17 AM IST

मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा योजना अब धीरे-धीरे दम तोड़ रही है। पीबीएम अस्पताल में दवा और फ्लूड के लिए मरीजों के परिजन इधर-उधर भटक रहे हैं। अस्पताल प्रशासन पर्याप्त दवा होने का दावा कर रहा है जबकि हकीकत कुछ और है। डीडीसी पर पर्याप्त दवाइयां नहीं है वहीं वार्डों में फ्लूड नहीं है।

 

वर्तमान में भाजपा सरकार अस्पतालों में पर्याप्त दवा होने का दावा कर रही है लेकिन तस्वीर का दूसरा पहलू यह कि दवाएं लंबे समय से मांग के आधार पर उपलब्ध नहीं हो रही है। मरीज अधिकांश दवाएं बाजार से खरीदने को विवश हैं। योजना के अन्तर्गत अस्पताल अधिकांश दवा नहीं है। इसके चलते लोग परेशान है। अस्पताल में दवा की अनुपलब्धता लंबे समय से बनी हुई है।

 

लाइन में खड़े रहने के बाद भी नि:शुल्क दवा केन्द्रों पर दवा नहीं मिल रही। जब रोगी पुन: चिकित्सकों के पास पहुंचकर दवा नहीं मिलने की जानकारी देता है तो चिकित्सक भी असमर्थता जताते हुए दूसरी दवा लिखकर दे रहे हैं। हालात यह है कि फिर से लिखी दवा में भी अधिकांश दवा नि:शुल्क केन्द्रों पर उपलब्ध नहीं है। ऐसे में चिकित्सक भी पेशोपेश की स्थिति में हैं कि कौनसी दवा लिखें और कौनसी नहीं।

 

मजबूर हैं हम
पीबीएम अस्पताल के चिकित्सक खुद स्वीकार करते हैं कि दवा की उपलब्ध नहीं हो रही लेकिन वह बाहर से दवा खरीद करने की सलाह भी नहीं दे सकते। राज्य सरकार ने चिकित्सकों को यह आदेश दे रखे हैं कि मरीज को दवा अस्पताल से ही दी जाए।

 

यह दवाइयां नहीं
एस्प्रिन, पेंटाप्राजॉल, डोमपेरिडोन, सेप्ट्राजॉन इंजेक्शन सहित अनेक दवाइयां नहीं है।

 

दवा केन्द्रों पर नहीं लगे बोर्ड
पीबीएम अस्पताल में दवा वितरण केन्द्रों पर कहीं पर भी दवाओं की सूची व फार्मासिस्ट के मोबाइल नंबर व नोडल अधिकारी के नंबर नहीं लिखे हुए हैं। कौन-कौन सी दवाएं उपलब्ध है या नहीं इसकी भी कोई सूचना नहीं है। आंख, नाक, कान, चर्म रोग, कैंसर, ओपीडी, बच्चा अस्पताल की डीडीसी में घंटों लाइन में लगने के बावजूद पूरी दवाइयां नहीं मिलती।

 

पीबीएम में यह स्थिति
सूची में दवाइयां 640
उपलब्ध 4 9 6
जांच में दवाइयां 42
शॉर्ट दवाइयां 22
कुल डीडीडी 37
डीडीसी चालू 26
डीडीसी बंद 11

 

किल्लत बनी हुई

कुछ दवाइयां शॉर्ट है। सेप्ट्राजॉन इंजेक्शन की लोकल खरीद कर रहे हैं। वार्डों में फ्लूड सप्लाई गाड़ी खराब होने के कारण नहीं किया जा रहा है, जिससे किल्लत बनी हुई है। एक-दो दिन में सभी दवाइयां व फ्लूड पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध करवा दिया जाएगा।
डॉ. गौरीशंकर जोशी, प्रभारी ड्रग वेयर हाउस पीबीएम अस्पताल

 

जानकारी ली जाएगी

फ्लूड पर्याप्त मात्रा में है। वार्डों में क्यों नहीं है। इस बारे में जानकारी ली जाएगी। कोई समस्या है तो उसे शीघ्र दूर किया जाएगा।
डॉ. पीके बैरवाल, अधीक्षक पीबीएम अस्पताल

Show More
अनुश्री जोशी
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned