scriptPeople Who Expect To Be Confirmed Till 25 Years | अंतहीन इंतजार: 25 साल से नियमित होने की आस में इतने सारे लोग | Patrika News

अंतहीन इंतजार: 25 साल से नियमित होने की आस में इतने सारे लोग

1992 में शुरू की गई लोक जुंबिश परियोजना में लगे 494 लोकजुंबिश कर्मियों का नियमित होने का इंतजार अब 25 साल से भी ज्यादा का हो गया है।

बीकानेर

Published: April 07, 2022 11:28:55 am

बीकानेर. शिक्षा की अलख गांव-गांव जगाने के लिए 1992 में शुरू की गई लोक जुंबिश परियोजना में लगे 494 लोकजुंबिश कर्मियों का नियमित होने का इंतजार अब 25 साल से भी ज्यादा का हो गया है। हालांकि सरकार ने निजी स्कूलों तथा तिलम संघ के कर्मचारियों का तो समायोजन कर दिया लेकिन लोकजुंबिश कर्मियों के बारे में अभी भी कोई निर्णय नहीं लिया है।

अंतहीन इंतजार: 25 साल से नियमित होने की आस में इतने सारे लोग
अंतहीन इंतजार: 25 साल से नियमित होने की आस में इतने सारे लोग

सेवा नियम बनने से लेकर फिक्स मानदेय तक की कहानी

वर्ष 1993 में वित्त विभाग ने इनके लिए लोक जुंबिश कर्मचारी सेवा नियम बनाए। 2004 में इस परियोजना के सर्व शिक्षा अभियान में समायोजित होने तक उन्हीं नियमों के तहत वेतन भत्ते अवकाश आदि भी मिलते रहे लेकिन बाद में इन्हें फिक्स मानदेय पर पहले सर्व शिक्षा अभियान और जब सर्व शिक्षा अभियान समाप्त हुआ, तो समग्र शिक्षा अभियान में समायोजित कर दिया गया। वेतन का नाम भी बदल कर फिक्स मानदेय, वह भी अनुबंध आधारित हो गया। प्रतिवर्ष अनुबंध पत्र पर हस्ताक्षर होते हैं। प्रतिवर्ष 10 प्रतिशत मानदेय वृद्धि के अलावा कुछ नही मिलता। वर्तमान में 494 लोक जुंबिश कर्मी पिछले 18 सालों से फिक्स मानदेय पर अपने परिवार का गुजारा करने को विवश हैं। वर्ष 1992 से 1995 की अवधि में लगे ये कार्मिक नियमित होने की आस में अपनी अधिकतम आयु सीमा भी पार कर चुके हैं।

हमसे ही भेदभाव क्यों

जब 2004 मे लोक जुंबिश को समाप्त किया, उस समय 948 कर्मचारी थे, जिनमे से 225 बीएसटीसी, बीएड को प्रबोधक के पदों पर लगाया और अब उन्हें वरिष्ठ प्रबोधक पदों पर पदोन्नति की प्रक्रिया में शामिल कर लिया है, जबकि उनके साथ ही सेवा में आए ये 494 लोक जुंबिश कार्मिक आज अनुबंधित कर्मचारी होने का दंश झेल रहे हैं।

प्रस्ताव ही नहीं भेजे

अखिल राजस्थान सर्व शिक्षा अभियान कर्मचारी संघ के उपाध्यक्ष ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने भी उमा देवी बनाम मध्य प्रदेश सरकार में 10 अप्रेल 2006 में दिए निर्णय में ये प्रतिपादित किया कि जिन अनुबंध कार्मिकों ने 10 साल की सेवा पूरी कर ली हो, उन्हें नियमित किया जाए। लेकिन तत्कालीन राजस्थान प्रारंभिक शिक्षा परिषद ने इन लोक जुंबिश कर्मचारियों के लिए कोई प्रस्ताव सरकार को नहीं भेजे जिससे कि इन्हें नियमित या अन्य विभागों में समायोजित किया जा सकता। लोक जुंबिश कर्मी तो बाकायदा वित्त विभाग द्वारा बनाए गए सेवा नियमों से संचालित हो रहे थे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में बोले राहुल गांधी, भारत में ठीक नहीं हालात, BJP ने चारों तरफ केरोसिन छिड़क रखा हैकर्नाटक में बड़ा हादसाः बारातियों से भरी गाड़ी पेड़ से टकराई, 7 की मौत, 10 जख्मीजल्द ही कमर्शियल फ्लाइट्स शुरू करेगा जेट एयरवेज, DGCA ने दी मंजूरीअब तक 11 देशों में मंकीपॉक्स : 21 मई को WHO की इमरजेंसी मीटिंग, भारत में अलर्ट, अफ्रीकी वैज्ञानिक हैरानफिर महंगी हुई CNG: राजस्थान में दाम सबसे अधिक, Diesel - CNG के दाम में अब मात्र 12 रुपए का अंतर'मैं क्रिकेट खेलना छोड़ दूंगा'- Virat Kohli ने रिटायरमेंट का संकेत देकर चौंकायाअकाली दल के दिग्गज नेता व पंजाब के पूर्व मंत्री तोता सिंह का निधन, सरपंच से पार्टी प्रेसिडेंट तक ऐसा था सफरभीषण सडक़ हादसा: पूर्व सांसद के भतीजे समेत 4 की मौत, गैसकटर से काटकर निकाले गए शव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.