पहले पर्ची का झंझट, फिर खाली सिलेण्डर का जुगाड, मरीजों के लिए एक-एक पल हो रहा भारी

ऑक्सीजन सिलेण्डर वितरण व्यवस्था से आमजन परेशान

By: Vimal

Published: 07 May 2021, 08:41 PM IST

बीकानेर. कोरोना संक्रमितों की लगातार बढ़ रही संख्या के कारण शहर में ऑक्सीजन गैस सिलेण्डर की मांग भी बढ़ रही है। वे मरीज जो होम आइसोलेट है अथवा निजी चिकित्सालयों में स्वास्थ्य लाभ ले रहे है उनके परिजनों को ऑक्सीजन गैस की व्यवस्था करना मुश्किल साबित हो रहा है। जिला प्रशासन की ओर से ओर से निर्धारित की गई व्यवस्था से ऑक्सीजन गैस सिलेण्डर घंटो बाद मिल रहा है। ऐसे में मरीजों के लिए एक-एक पल भारी साबित हो रहा है। ऑक्सीजन गैस सिलेण्डर प्राप्ति के लिए चार अधिकारियों से वैरिफाई होने के बाद रिफलिंग सेंटर से सिलेण्डर प्राप्त करने में ही मरीजों के परिजनों को घंटो लग रहे है। शहरी क्षेत्र से दूर प्राप्त हो रहे सिलेण्डर मरीजों के परिजनों के लिए पसीने छुड़ाने वाली व्यवस्था बनी हुई है।

 

खाली सिलेण्डर के लिए भटक रहे
कोरोना संक्रमित मरीजों के परिवारजन खाली सिलेण्डरों के लिए भटक रहे है। चिकित्सक की ओर से ऑक्सीजन गैस की व्यवस्था करने के लिए कहने के बाद से ही परिजन पर्ची प्राप्त करने, वैरिफाई करवाने के बाद खाली सिलेण्डर प्राप्त करने की जुगत में लग रहे है। हर किसी के पास ऑक्सीजन गैस के सिलेण्डर नहीं होने की स्थिति में मरीजों के परिजन सिलेण्डर के लिए अपने-अपने स्तर पर जुगत बिठाने में जुटे रहते है। खाली सिलेण्डर किसी प्रकार मिल जाने पर रिफलिंग सेंटर पहुंचकर प्राप्त करना भी मुश्किल बना हुआ है।


रात के समय सिलेण्डर प्राप्त करना मुश्किल
कोरोना मरीज के लिए किसी भी समय ऑक्सीजन की जरुरत पड़ सकती है। शहर में विशेषकर रात के समय ऑक्सीजन गैस सिलेण्डर की व्यवस्था करना वर्तमान व्यवस्था के अनुसार संभव नहीं लग रहा है। हालांकि प्रशासन की ओर से होम आइसोलेट और निजी चिकित्सालयों में भर्ती कोरोना संक्रमितों के लिए ऑक्सीजन गैस सिलेण्डर वितरण के लिए अधिकारियों की ड्यूटी लगा रखी है, लेकिन रात के समय इन अधिकारियों से सम्पर्क करना, पर्ची को वैरिफाई करवाना, रिफलिंग सेंटर से सिलेण्डर प्राप्त करना मुश्किल बना हुआ है। मरीजों के परिजनों को रात के समय भी ऑक्सीजन सिलेण्डर मिल सके, पुख्ता व्यवस्था की आवश्यकता है।

 

शहरी क्षेत्र में हो व्यवस्था
कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए ऑक्सीजन गैस सिलेण्डर की वितरण व्यवस्था शहरी क्षेत्र में होने का लाभ हर किसी को मिलेगा। गुरुवार को करणी नगर स्थित रिफलिंग सेंटर पहुंचे कई कोरोना संक्रमितों के परिजनों ने बताया कि शहर से इतनी दूर आकर सिलेण्डर प्राप्त करना और भरा हुआ लेकर जाना मुश्किल कार्य है। इस व्यवस्था में सुधार होना चाहिए। प्रशासन को चाहिए कि वह शहरी क्षेत्र में किसी उचित स्थान पर भरे हुए सिलेण्डरों के वितरण की व्यवस्था सुनिश्चित करें। इससे समय बचेगा और सिलेण्डर को लाने-ले जाने के लिए टैक्सी पर होने वाला खर्च भी बचेगा।

 

संस्थाओं के सिलेण्डर हो रिफल
बीकानेर व्यापार उद्योग मंडल की गुरुवार को हुई बैठक में कोरोना संक्रमितो के समक्ष ऑक्सीजन गैस की हो रही दिक्कत पर चर्चा की गई। बैठक में मंडल पदाधिकारियों ने सरकार से मांग रखी कि जो स्वयंसेवी संस्थाए, ट्रस्ट जरुरतमंद मरीजों के लिए ऑक्सीजन गैस सिलेण्डर उपलब्ध करवाते है, उनके सिलेण्डरों में गैस भरी जाए। ताकि जरुरतमंद मरीज के जीवन को बचाया जा सके। व्यापारियों ने कहा कि गत वर्ष कोरोना काल के दौरान स्वयं सेवी संस्थाओं, ट्रस्ट आदि का कार्य उल्लेखनीय रहा था। सरकार और प्रशासन को चाहिए कि वे सेवाभावी संस्थाओं, ट्रस्ट के सिलेण्डरों की रिफलिंग करें। इस दौरान पदाधिकारी रघुराज सिंह राठौड़, अनिल सोनी, वेदप्रकाश अग्रवाल, हेतराम गौड, मनोज सोलंकी, ईश्वर चंद बोथरा, मक्खन लाल अग्रवाल, सोनूराज आसूदानी, रमेश चंद्र पुरोहित, विनोद भोजक, महावी सिंह चारण, दीपक पारीक, सुशील शर्मा, विपिन मुर्शरफ आदि ने वर्चुअल चर्चा की।

Vimal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned