बीकानेर जिले में जिसे पहली बार मिला ताज, जानिए उसने क्या छोड़ी छाप

बीकानेर जिले में जिसे पहली बार मिला ताज, जानिए उसने क्या छोड़ी छाप

dinesh swami | Publish: Sep, 07 2018 12:46:25 PM (IST) Bikaner, Rajasthan, India

भाजपा व कांग्रेस ने पिछले विधानसभा चुनाव में नए लोगों को टिकट दिया और जनता ने भी इन्हें सदन में पहुंचा दिया।

बीकानेर/अरविंद सिंह शक्तावत/जयपुर. भाजपा व कांग्रेस ने पिछले विधानसभा चुनाव में नए लोगों को टिकट दिया और जनता ने भी इन्हें सदन में पहुंचा दिया। १४ वीं विधानसभा में इस बार करीब ४२ प्र्रतिशत प्रत्याशी पहली बार चुनकर पहुंचे। ८४ एेसे विधायक हैं, जो जो पहली बार चुन कर आए हैं। ५० साल से कम के ५७ विधायक चुन कर आए।

 

इन नेताओं में नया जोश भी दिखा और जनता और राजनीतिक दलों में भी इनसे उम्मीदें काफी बढ़ गईं, लेकिन जैसे-जैसे साल गुजरे, वैसे-वैसे यह उम्मीदें नकारात्मकता में बदल गईं। आज हालत यह है कि संगठन हो या जनता, सबसे यही आवाज आ रही है कि नए विधायकों से जो उम्मीदे थी, वह पूरी नहीं हो सकींं। भाजपा हो या कांग्रेस, एेसे नए विधायकों की संख्या कम ही रही, जिन्होंने अपनी पहचान बनाई।

 

जिनकी पकड़, मात्र १०-१५ फीसदी
१०-१५ प्रतिशत विधायक ही एेसे हैं, जिनकी अपनी क्षेत्र में अच्छी पकड़ है और वे सदन में भी सक्रिय रहे। कांग्रेस को विपक्ष में रहने का फायदा मिला। इसके करीब ३० प्रतिशत नए विधायकों की सदन में अच्छी सक्रियता दिखी। सभी नए विधायकों की बात की जाए तो १२-१५ प्रतिशत नए विधायक ही एेसे रहे हैं, जिन्होंने सदन व क्षेत्र में छाप छोड़ी है।

 

 


सत्ता में मिली भागीदारी
अरुण चतुर्वेदी पहली बार विधायक बने और कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया। धनसिंह रावत को पंचायतीराज राज्य मंत्री का दर्जा मिला। सुरेश रावत, शत्रुघन गौतम, जितेन्द्र गोठवाल, लादूराम विश्नोई, नरेन्द्र नागर, भीमा भाई,आेम प्रकाश हुड़ला, कैलाश वर्मा और भैरा राम चौधरी को सरकार ने संसदीय सचिव बना दिया।

 


कांग्रेस ने दी संगठन में जिम्मेदारी
शकुंतला रावत महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव हैं। धीरज गुर्जर व घनश्याम प्रदेश महासचिव हैं। अशोक चांदना यूथ कांग्रेस अध्यक्ष, राजेन्द्र यादव जयपुर देहात अध्यक्ष हैं। सुखराम विश्नोई, दर्शन सिंह को भी पार्टी ने प्रदेश टीम में ले रखा है।

 

 

पहली बार १५ महिलाएं बनीं विधायक
इस विधानसभा में पहली बार जीत कर आई महिलाओं की संख्या १५ है। १२ महिलाएं भाजपा, २ जमींदारा और एक कांग्रेस के चुनाव चिन्ह पर जीत कर विधानसभा में पहुंची हैं।

 

 

भंवर सिंह भाटी

भाजपा के दिग्गज नेता देवी सिंह भाटी को हराकर कोलायत सीट से जीत दर्ज की। जीत का अंतर तो ज्यादा बड़ा नहीं रहा, लेकिन जीत दर्ज करने के बाद से ही यह क्षेत्र में सक्रिय बने रहे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned