scriptRajasthan News : इस विश्वविद्यालय में है हाइटेक लाइब्रेरी, ATM से होती हैं बुक्स जमा- तो बिना इश्यू बुक ले जाने पर बजता है अलार्म | Patrika News
बीकानेर

Rajasthan News : इस विश्वविद्यालय में है हाइटेक लाइब्रेरी, ATM से होती हैं बुक्स जमा- तो बिना इश्यू बुक ले जाने पर बजता है अलार्म

पुस्तकालय में दो एटीएम जैसी मशीनें रखी गई हैं। पुस्तक जमा करने के लिए इन्हें मशीन में रखना होगा। मशीन एक रिसिप्ट भी देगी, जो प्रमाण होगी कि विद्यार्थी ने फलां तारीख को कि ताब जमा करा दी है।

बीकानेरMay 24, 2024 / 02:49 pm

जमील खान

अतुल आचार्य
Bikaner News : बीकानेर. पढऩे के शौकीनों के लिए अच्छी खबर है। खासतौर से महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं के लिए। अब विद्यार्थियों को पढऩे के लिए लाइब्रेरी से किताब इश्यू और जमा कराने के लिए लाइब्रेरियन के न होने की स्थिति में परेशान नहीं होना पड़ेगा। छात्र-छात्राओं को किताबें इश्यू भी होंगी और जमा भी। इतना ही नहीं, किताबें भले ही वे कॉलेज समय में इश्यू कराएं, लेकिन जमा कराने के लिए उनके पास समय की भी पाबंदी नहीं होगी। 24 घंटे में किसी भी समय पुस्तकें जमा कर सकते हैं।
इसके लिए उन्हें एटीएम मशीन जैसे उपकरण का सहारा लेना होगा, जो पुस्तकालय परिसर में लगी है। इतना ही नहीं, पुस्तकालय से किताब इश्यू करवाए बिना बाहर ले जाने की कोशिश करते ही एक अलार्म भी बजने लगेगा। साथ ही संबंधित के पास मोबाइल पर मैसेज आ जाएगा कि कौन सी किताब बिना इश्यू हुए परिसर से बाहर गई है। ऐसी ही हाइटेक तकनीक का इस्तेमाल बीकानेर के महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय (Maharaja Ganga Singh University) में स्थित केंद्रीय पुस्तकालय में किया गया है। इससे किताबों के चोरी होने की समस्या से भी निजात मिल सकेगी।
आरएफआइडी तकनीक का उपयोग
पुस्तकालयध्यक्ष उमेश शर्मा ने बताया कि आरएफआइडी तकनीक का उपयोग किया गया है। यह तकनीक रेडियोफ्रीक्वेंसी पर कार्य करती है। इसकी सहायता से कोई बिना इश्यू किए हुए पुस्तक को बाहर ले जाने की कोशिश करता है, तो अलार्म बजता है। हर पुस्तक में आरएफ चिप लगी है।
पीएचडी थीसिस का डिजिटलाइजेशन
यहां पिछले पांच वर्ष के प्रश्नपत्रों को डिजिटल लाइब्रेरी सॉफ्टवेयर के माध्यम से विद्यार्थियों तक पहुंचाया जा रहा है। पुस्तकालय प्रबंधन सॉफ्टवेयर सोल 3.0 भी क्रय किया गया है। पुस्तकालय में रखी पीएचडी थीसिस का डिजिटलीकरण कर उन्हें यूजीसी की शोध गंगा पोर्टल पर भी अपलोड किया जा चुका है। विवि के केन्द्रीय पुस्तकालय में तकनीकी सुविधाओं का विस्तार किया जा रहा है। यहां उपलब्ध ई-रिसोर्सेज को एक्सेस करने की सुविधाएं प्रदान करने की योजना पर भी कार्य चल रहा है। ताकि, दूर-दराज में रहने वाला विद्यार्थी भी आसानी से अध्ययन कर सके। आचार्य मनोज दीक्षित, कुलपति, महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय (Maharaja Ganga Singh University Bikaner)
एटीएम जैसी मशीनों का उपयोग
पुस्तकालय में दो एटीएम जैसी मशीनें रखी गई हैं। पुस्तक जमा करने के लिए इन्हें मशीन में रखना होगा। मशीन एक रिसिप्ट भी देगी, जो प्रमाण होगी कि विद्यार्थी ने फलां तारीख को कि ताब जमा करा दी है। पुस्तकालय में विभिन्न विषयों की ई-बुक्स भी हैं। जिनका उपयोग पाठक कभी भी अपने मोबाइल एवं लैपटॉप पर कर सकते हैं।

Hindi News/ Bikaner / Rajasthan News : इस विश्वविद्यालय में है हाइटेक लाइब्रेरी, ATM से होती हैं बुक्स जमा- तो बिना इश्यू बुक ले जाने पर बजता है अलार्म

ट्रेंडिंग वीडियो