क्रॉस वोटिंग से घबराए दोनों दल, प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी

rajasthan nikay chunav -नगर निगम में पार्षद पद के लिए मतदान के बाद भाजपा ने 19 नवम्बर को नतीजे आने तक अपने प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी की है।

भाजपा ने प्रत्याशियों को देशनोक की धर्मशाला में रखा, निर्दलीयों के साथ की उम्मीद पर सवार पार्टी

बीकानेर. नगर निगम में पार्षद पद के लिए मतदान के बाद भाजपा ने 19 नवम्बर को नतीजे आने तक अपने प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी की है। एेसा जीतने वाले पार्षदों को दूसरे पाले में जाने से रोकने के लिए किया गया है। साथ ही पार्टी की आंतरिक रिपोर्ट में महापौर बनाने के लिए बहुमत का आवश्यक आंकड़ा नहीं मिल रहा होने से भी एेसा किया गया है। पार्टी अभी निर्दलीयों का समर्थन मिलने की उम्मीद पर सवार है। भाजपा के प्रदेश मंत्री काशीराम गोदारा और चुनाव समिति प्रभारी सुरेन्द्रपाल सिंह टीटी ने महापौर के चुनाव के लिए मोर्चा संभाला है। उन्होंने पार्टी टिकट पर चुनाव लडऩे वाले ७९ प्रत्याशियों को अपने कब्जे में रखने के लिए रविवार को देशनोक स्थित एक धर्मशाला में ठहराया है। दोनों नेता भी वही डेरा डाले हुए हैं। भाजपा जिलाध्यक्ष सत्यप्रकाश आचार्य, अखिलेश प्रताप सिंह, मोहन सुराणा, दाऊलाल हर्ष, अशोक प्रजापत आदि प्रत्याशियों को वहां पहुंचाने में लगे हुए हैं। देर रात तक ५२ प्रत्याशियों को देशनोक में पहुंचा दिया गया था।

तैयारी में जुटी पार्टी
सूत्रों के मुताबिक पार्टी की आंतरिक रिपोर्ट में पार्टी के ३५ से ३८ पार्षद जीतने का अनुमान लगाया गया है। एेसे में पांच से सात निर्दलीयों का साथ भी लेना पड़ सकता है। इसी सोच के साथ चुनाव समिति कुछ निर्दलीयों से भी सम्पर्क में है। अभी १९ नवम्बर को मतगणना होगी। महापौर का चुनाव २६ नवम्बर को है। इस बीच एक सप्ताह का रखा गया लम्बा समय सत्ताधारी दल के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।एेसे में पार्टी की रणनीति है कि पहले से पूरी तैयारी करके रखी जाए।

कांग्रेस प्रत्याशियों को बाइपास पर दो जगह ठहराया,अब मतगणना के दिन ही बाहर लाए जाएंगे
बीकानेर. नगर निगम चुनाव में मतदान के एक दिन बाद रविवार को कांग्रेस ने अपने वार्ड प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी कर दी। करीब 70 से अधिक वार्डों के प्रत्याशियों को जोधपुर बाइपास स्थित एक ढाणी में ठहराया गया है। हालांकि इसमें कुछ पार्षद प्रत्याशियों के शामिल नहीं होने की जानकारी भी मिली है।कांग्रेस का बोर्ड बनाने की मंशा के चलते पार्टी पदाधिकारियों ने रविवार सुबह से ही प्रत्याशियों को अपने कपड़ों के साथ बुला लिया था। रात करीब दस बजे तक चालीस से अधिक प्रत्याशियों को पार्टी पदाधिकारियों ने अपनी निगरानी में कर लिया। प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी के दौरान कांग्रेस के नारायण झंवर, प्रदेश सचिव जिया उर रहमान, प्रदेश सचिव राजकुमार किराडू, महेन्द्र कल्ला, मकसूद अहमद आदि की मौजूदगी रही।

महापौर पर मंथन आज
कांग्रेस प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी का मुख्य उद्देश्य महापौर के नाम को लेकर किए जाने वाले मंथन से भी जोड़ा जा रहा है। पार्टी का मानना है कि जिसे भी महापौर बनाया जाए, उसे लेकर सभी कांग्रेस प्रत्याशियों की एकराय हो।बताया जाता है कि महापौरके नाम को लेकर सभी प्रत्याशियों से सोमवार को राय ली जाएगी, ताकि पद को लेकर किसी के विरोध का सामना नहीं करना पड़े।


मतगणना में रहेगी मौजूदगी
बाड़ेबंदी में शामिल कांग्रेस प्रत्याशी अब 19 नवम्बर को मतगणना के दिन दिखाई देंगे। कांग्रेस से बागी होकर चुनाव मैदान में ताल ठोकने वाले प्रत्याशी दिखाई नहीं दिए। हालांकि कांग्रेस पार्टी के पदाधिकारी देर रात तक कांग्रेस से बागी हुए प्रत्याशियों की मान-मनुहार करने मेंं जुटे हुए थे। पार्टी सूत्रों का मानना है कि बहुमत का आंकड़ा प्राप्त नहीं होने पर निर्दलीय जीते प्रत्याशियों को पार्टी के साथ लाया जाएगा। अंदरूनी रिपोर्ट में भी कांग्रेस से बागी कई प्रत्याशी मजबूत स्थिति में हैं।

Show More
Atul Acharya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned