scriptResearch on OTT | ओटीटी के रास्ते अश्लीलता का बैकडोर प्रवेश | Patrika News

ओटीटी के रास्ते अश्लीलता का बैकडोर प्रवेश

ओटीटी के प्रति लगातार बढ़ते रुझान से पडऩे वाले असर को लेकर इंजीनियरिंग कॉलेज बीकानेर के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. गौरव बिस्सा व असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. नवीन शर्मा ने 500 से अधिक लोगों पर शोध कर अपनी रिपोर्ट तैयार की है, जिसे वे सेंसर बोर्ड, केंद्र सरकार और इंटरनेशनल जर्नल को भी भेजने वाले हैं। शोध के आंकड़ें चौकाते हैं। इसलिए कि इसमें जो तथ्य निकल कर आए हैं, वे सॉफ्ट पोर्न इंडस्ट्री के भी चुपके से मनोरंजन क्षेत्र में प्रवेश का रास्ता बनाते दिख रहे हैं।

बीकानेर

Published: April 28, 2022 09:48:46 pm

बीकानेर. मनोरंजन जगत में पिछले दो साल का समय 360 डिग्री परिवर्तन का दौर कहा जा सकता है। कोरोना काल में जब दुनिया घरों के अंदर सिमटी बैठी थी, तो मनोरंजन की जिस विधा ने घरों के जरिये इस दुनिया में धमाकेदार एंट्री मारी, उसे हम आज ओटीटी प्लेटफार्म के तौर पर जानते हैं। अब आलम यह है कि ओटीटी के कंटेंट, प्रस्तुतिकरण, बेलौस अंदाज और कसे हुए निर्देशन ने बॉलीवुड जैसी इंडस्ट्री को भी झकझोर दिया है। प्रचलित तथ्य है कि हर नए आविष्कार के साथ कुछ दुश्वारियां और साथ में बुराइयां भी आती हैं। ओटीटी प्लेटफार्म के साथ भी ऐसा ही है, जहां कुछ अच्छी और मनोरंजक फिल्मों और सीरीज के साथ ही अपशब्दों, गालियों, हिंसा की भरमार जैसे कंटेंट ने समाज के लिए भी चिंताजनक स्थिति पैदा कर दी है।
ओटीटी के रास्ते अश्लीलता का बैकडोर प्रवेश
ओटीटी के रास्ते अश्लीलता का बैकडोर प्रवेश
ओटीटी कंटेंट को सेंसर करने की आवश्यकता
नवम्बर 2021 में सरकार ने ओटीटी कंटेंट रेगुलेशन के लिए गजट नोटिफिकेशन जारी कर देश में डिजिटल कंटेंट की निगरानी हेतु कानून या संस्था बनाना आवश्यक बताया। ओटीटी प्लेटफॉम्र्स पर मनोरंजक, साहित्यिक और सूचनापरक सामग्री उपलब्ध है लेकिन उनकी विजिबिलिटी अपेक्षाकृत कम है। सर्वे में शामिल 88 फीसदी लोग मानते हैं कि जनमानस ने ओटीटी को हिंसा, महिला अत्याचार और अश्लीलता से ही जोड़ दिया है जबकि यह अर्धसत्य है। ओटीटी पर प्रसारित कई ज्ञानवर्धक वेबसीरीज ने दर्शकों का मन मोहा है। अत: आवश्यकता ओटीटी के कंटेंट को सेंसर किये जाने की है। 88 फीसदी प्रतिभागियों के अनुसार ओटीटी के कंटेंट को रेगुलेट करना अत्यंत आवश्यक है।
क्या तथ्य निकल कर आए
2२.४ फीसदी व्यक्ति एडल्ट या इरोटिक फिल्में, 1४.४ फीसदी व्यक्ति म्यूजिक वीडियो और लगभग 6३.२ फीसदी व्यक्ति ऑनलाइन वेब सीरीज देखना पसंद करते हैं।
अधिकांश दर्शक ओटीटी को एडल्ट फिल्म और ङ्क्षहसा से संबधित कंटेंट का ही प्लेटफार्म मानते हैं।
भारत में औसतन एक वयस्क एक दिन में साढ़े तीन घंटे मोबाइल स्क्रीन या इंटरनेट पर बिता रहा है। इस कारण वह इसका सदुपयोग करने के स्थान पर दुरूपयोग करते हुए अश्लील सामग्री का भण्डारण कर रहा है। क्योंकि इंटरनेट से डाउनलोड होने वाला 40 फीसदी कंटेंट अश्लील है। लगभग 84 फीसदी लोगों का मानना है कि इसके कारण महिला सम्मान में भी कमी आई है।
89 फीसदी लोग ओटीटी कंटेट में ङ्क्षहसा, घृणा, लुगदी साहित्य, एडल्ट कंटेंट की वेब सीरीज, गाली गलौच और अपशब्दों की भरमार को अपराधों के बढऩे का एक कारक भी मानते हैं।
युवाओं में सेल्फ स्टडी की प्रवृत्ति में गिरावट दिखी, क्योंकि अब मनोरंजन-रक्त रंजित ङ्क्षहसा और इरोटिक कंटेंट में तलाशा जा रहा है। बाल साहित्य के प्रकाशन में कमी आना, युवाओं द्वारा अखबार न पढ़े जाने के पीछे भी वाहियात ओटीटी कंटेंट अपनी भूमिका निभा रहा है। ऐसा 87 फीसदी लोगों का मत है।

ऐसे किया शोध

347 पुरुषों व 184 महिलाओं को लेकर किये शोध में प्रतिभागियों से गत तीन महीनों के दौरान ब्लेंडेड मोड में प्रश्नवलियां भरवाई गईं, जिसमे 49 ऑफलाइन और 482 ऑनलाइन मोड में भरवाई गई। इसके बाद प्राप्त आंकड़ों के सांख्यिकी टेस्ट किए गए। फीडबैक देने वाले प्रतिभागियों में राजस्थान, तमिलनाडु, हरियाणा, उत्तरप्रदेश, केरल इत्यादि राज्यों के प्रतिभागी
शामिल हुए।
केंद्र सरकार और अंतरराष्ट्रीय जर्नल को भेजेंगे
अश्लीलता और हिंसा परोसते ओटीटी प्लेटफॉम्र्स पर सरकारी नकेल आवश्यक है। युवाओं का समय कीमती है, इसलिये ज्ञानवर्धक व नैतिकता सिखाते कंटेंट ओटीटी प्लेटफॉम्र्स को दिखाने चाहिए। यह शोध हम भारत सरकार के सूचना और प्रसारण मंत्रालय के अलावा सेंसर बोर्ड और अंतरराष्ट्रीय जर्नल को भी भेज रहे हैं।
-डॉ. नवीन शर्मा, असिस्टेंट प्रोफेसर, इंजीनियरिंग कॉलेज बीकानेर
पर्यवेक्षण जरूरी है
शुद्ध अच्छे कंटेंट््स में मनोरंजन ढूंढने के स्थान पर ओटीटी प्लेटफॉम्र्स पर हिंसा, षड्यंत्र और सामाजिक बुराइयों में मनोरंजन खोजा जाना क्रिमिनल मेंटेलिटी को बढ़ाता है। इसका पर्यवेक्षण जरूरी है।
- डॉ. गौरव बिस्सा, एसोसिएट प्रोफेसर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Gyanvapi Masjid Case: ज्ञानवापी में शिवलिंग के दावे के बीच आज सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई, वाराणसी सिविल कोर्ट में 23 मई कोExclusive: ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट मेंGood News: AIIMS दिल्ली में अब 300 रुपए तक के टेस्ट होंगे मुफ्तIPL 2022, RCB vs GT: Virat Kohli का तूफान, RCB ने जीता मुकाबला, प्लेऑफ की उम्मीदों को लगे पंखBRICS Summit: ब्रिक्स देशों के शिखर सम्मेलन में शामिल हुए भारत के विदेश मंत्री जयशंकर ने उठाया आतंकवाद का मुद्दाअफगानिस्तान में तालिबान का नया फरमान- महिला टीवी एंकर चेहरा ढककर पढ़ें खबरअमेरिकी राष्ट्रपति Biden के लिए महाराष्ट्र और आंध्र से गिफ्ट में जाएंगे आमसीएम मान ने अमित शाह से मुलाकात के बाद कहा-पंजाब में तैनात होंगे 2,000 और सुरक्षाकर्मी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.