scriptreturned home and started research on plastic management | जर्मनी छोड़ स्वदेश लौटे और देश के लिए प्लास्टिक मैनेजमेंट पर रूड़की में शुरू की रिसर्च | Patrika News

जर्मनी छोड़ स्वदेश लौटे और देश के लिए प्लास्टिक मैनेजमेंट पर रूड़की में शुरू की रिसर्च

#बीकानेरवाले : आइआइटी रूड़की से बीटेक डॉ. सम्पत सिंह ने पांच साल जर्मनी में वैज्ञानिक के रूप में काम किया

बीकानेर

Published: March 26, 2022 11:39:46 am

-दिनेश कुमार स्वामी-

बीकानेर. नोखा तहसील के गांव सिंधु निवासी डॉ. सम्पत सिंह भाटी उन युवाओं के लिए मिसाल हैं, जो देश के लिए कुछ कर गुजरने का जज्बा रखते हैं। आइआइटी रूड़की से बीटेक करने के बाद साल 2013 में पीएचडी करने जर्मनी गए। पढ़ाई के बाद जर्मनी में ही वैज्ञानिक के रूप में नौकरी करनी शुरू कर दी। फिर लॉकडाउन में मानवता पर आए संकट के दौरान अपने वतन और माटी के लिए कुछ कर गुजरने का भाव मन में पैदा हुआ।
जर्मनी छोड़ स्वदेश लौटे और देश के लिए प्लास्टिक मैनेजमेंट पर रूड़की में शुरू की रिसर्च
जर्मनी छोड़ स्वदेश लौटे और देश के लिए प्लास्टिक मैनेजमेंट पर रूड़की में शुरू की रिसर्च
विदेश में प्लास्टिक पैकेजिंग रीसाइकल मैनेजमेंट पर ज्ञान प्राप्त किया। वह देश के काम आए, इसी मंशा से जर्मनी से भारत लौट आए और आइआइटी रूड़की में प्रोफेसर के रूप में ज्वाइन किया। अब रूड़की में प्लास्टिंग पैकेजिंग रीसाइक्लिंग पर रिसर्च कर रहे हैं। वे राजस्थान और पूरे देश में लागू कर प्लास्टिक के जहर से मुक्ति की ओर कदम बढ़ाने का लक्ष्य लेकर चल रहे हैं।
ब्रेन ड्रेन की जगह ब्रेन गेन

डॉ. भाटी के अनुसार विदेश में अर्जित ज्ञान देश के छात्रों को देकर ब्रेन ड्रेन की जगह ब्रेन गेन कर रहे हैं। देश में प्लास्टिक प्रदूषण की समस्या को कैसे कम करें, इस पर रिसर्च कर रहे हैं। भाटी का मानना है कि प्लास्टिक, पेपर, मेटल और ग्लास पैकिंग को छांटकर रीसाइकल करने की शिक्षा बच्चों को स्कूल के शुरुआती दिनों से देनी शुरू करनी होगी, जिससे बच्चे घर जाकर अपने परिवार और समाज को यह बात सिखाएंगे। सरकार और देश के उच्च शिक्षा संस्थानों जैसे आइआइटी, आइआइएम को रीसाइक्लिंग विषय पर स्कूली शिक्षकों के लिए बुनियादी ट्रेनिंग प्रोग्राम बनाने चाहिए। उच्च शिक्षा संस्थानों में वेस्ट रीसाइक्लिंग पर तेजी से शोध कार्य आगे बढ़ाने होंगे।
सोशल सर्विस में भी सक्रिय


ऋषिकेश में योग टीचर ट्रेनिंग 2019 में की। इसके बाद जर्मन, ब्राजिलियंस, अमेरिकन को ऑनलाइन और ऑफ लाइन योग करवाते थे। कोविड काल में सोशल सर्विस के तहत लोगों को स्वस्थ रहने के लिए योगासन करवाया। कोविडकाल में एनजीओ चित्ता और वुमनसर से जुड़कर राजस्थान के खासकर ग्रामीण अंचल के लोगों को मदद पहुंचाई। इसके लिए एनआरआइ से फंड जुटाया और भारत में जरूरतमंद लोगों तक सहायता पहुंचाई।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

सेना का 'मिनी डिफेंस एक्सपो' कोलकाता में 6 से 9 जुलाई के बीचGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'Women's T20 Challenge: वेलोसिटी ने सुपरनोवास को 7 विकेट से हरायानवजोत सिंह सिद्धू को जेल में मिलेगा स्पेशल खाना, कोर्ट ने दी अनुमतिSSC घोटाले के बाद अब बंगाल में नर्सों की नियुक्ति में धांधली, विरोध प्रदर्शन के बीच पुलिस और स्टूडेंट्स में हुई झड़प
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.