नहरबंदी के दौरान पूर्ण सतर्कता से कार्य करें सभी अधिकारी

जिला कलक्टर ने वीडियो कांफ्रेंसिग से की समीक्षा

By: dinesh swami

Published: 17 Mar 2021, 06:52 PM IST

बीकानेर. जिला कलक्टर नमित मेहता ने बुधवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जिले भर के अधिकारियों के साथ विभिन्न योजनाओं और कार्यक्रमों की समीक्षा की।
मेहता ने कहा कि नहरबंदी के दौरान सभी अधिकारी सतर्क रहें और पेयजल वितरण व्यवस्था पर नजर रखी जाए। आमजन को पानी के सदुपयोग के लिए जागरुक करें। किसी भी स्थिति में पानी की चोरी नहीं हो, यह सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने बताया कि उपखण्ड स्तर पर संबंधित उपखण्ड अधिकारी, तहसीलदार, विकास अधिकारी, उपाधीक्षक पुलिस तथा सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अधिकारियों की कमेटियां गठित की गई हैं। सभी अधिकारी पेयजल वितरण व्यवस्था पर निगरानी रखेंगे तथा इसकी दैनिक समीक्षा करेंगे।


जिला कलक्टर ने कहा कि पूर्ण नहर बंदी से पहले बीछवाल और शोभासर रिजर्व वायर सहित जिले भर के सभी जल स्त्रोतों में पेयजल भंडारण कर दिया जाए। शेड्यूल के अनुसार नहर से मिलने वाले पानी का समुचित उपयोग हो। कानून व्यवस्था संधारण के लिए पुलिस द्वारा आरएसी से जवानों की तैनाती की गई है। इसी प्रकार उपखण्ड अधिकारी संबंधित थानाधिकारी के संपर्क में रहें।


मेहता ने कहा कि प्रत्येक उपखण्ड क्षेत्र में हैण्डपम्प, ट्यूबवेल सहित सभी पेयजल स्त्रोतों का सर्वे कर लिया जाए। टैंकर से जलापूर्ति वाले अति आवश्यकता वाले क्षेत्रों का चिन्हीकरण भी कर लिया जाए। पेयजल उपलब्धता के दृष्टिकोण से क्रिटिकल क्षेत्रों का विजिट किया जाए तथा ऐसे क्षेत्रों के लिए प्रभावी कार्ययोजना बनाई जाए।


मास्क नहीं लगाए तो करें कार्यवाही
जिला कलक्टर ने कहा कि सभी उपखंड अधिकारी, विकास अधिकारी, तहसीलदार, थाना अधिकारी तथा नगरीय क्षेत्र में नियुक्त एरिया मजिस्ट्रेट अपने-अपने क्षेत्रों में सघन विजिट करें तथा कोरोना एडवाइजरी की पालना सुनिश्चित करवाएं। प्रत्येक व्यक्ति मास्क का उपयोग करे, इसके लिए समझाइश की जाए। आवश्यकता होने की स्थिति में चालान भी काटे जाएं। उन्होंने बताया कि जिले में अब तक एक लाख से अधिक लोगों का कोविड वैक्सीनेशन किया जा चुका है। नोखा, लूणकरणसर और खाजूवाला वैक्सीनेशन में अव्वल है। वहीं पूगल, छत्तरगढ़ और बीकानेर ग्रामीण क्षेत्र में वैक्सीनेशन की गति कम होने पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि प्रत्येक उपखण्ड क्षेत्र में आईईसी गतिविधियां हों तथा ढिलाई बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाए।


पालनहार के लाभ से वंचित न रहे कोई पात्र
जिला कलेक्टर नमित मेहता ने बताया कि जिले में 50 वर्ष से कम आयु की 10 हजार से अधिक महिलाएं विधवा पेंशन प्राप्त कर रही हैं। इनमें से लगभग 3 हजार 500 पालनहार योजना का लाभ ले रही हैं। शेष महिलाओं के पालनहार योजना की पात्रता रखने की स्थिति में इनके आवेदन करवाए जाएं। उन्होंने रिटर्न पेंशन, सिलिकोसिस नीति के तहत पात्र परिवारों को देय राशि तथा माता-पिता भरण पोषण अधिनियम के तहत लंबित प्रकरणों के समीक्षा की।


भूमि आवंटन प्रक्रिया में लाएं गति
जिला कलेक्टर ने कहा कि जिले में ऐसी नवसृजित ग्राम पंचायतें जिनके कार्यालयों के लिए अब तक भूमि आवंटित नहीं की गई है, ऐसी ग्राम पंचायतों के लिए भूमि आवंटन को प्राथमिकता दी जाए। उन्होंने गिरदावरी, प्रधानमंत्री आवास योजना, नरेगा सहित विभिन्न योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की गई। जिला कलक्टर ने कहा कि रसद विभाग द्वारा आधार सीडिंग के काम में तेजी लाई जाए तथा 31 मार्च तक शत-प्रतिशत सीडिंग सुनिश्चित की जाए। उन्होंने बताया कि लूणकरणसर, पांचू तथा देशनोक आधार सीडिंग में अव्वल तथा कोलायत एवं खाजूवाला निचले पायदान पर है।


इस दौरान अतिरिक्त जिला कलेक्टर (शहर) अरुण प्रकाश शर्मा, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ओम प्रकाश, महिला एवं बाल विकास की उपनिदेशक शारदा चैधरी, सहायक निदेशक (लोक सेवाएं) सबीना बिश्नोई, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शैलेंद्रसिंह इंदौलिया, आईजीएनपी के अधीक्षण अभियंता विवेक गोयल, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी के अधीक्षण अभियंता दीपक बंसल, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के उप निदेशक एल.डी. पंवार सहित विभिन्न जिला स्तरीय जिला अधिकारी मौजूद रहे। वही उपखंड स्तरीय अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े।

dinesh swami Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned