दिनभर बादलों की ओट में छिपे रहे सूर्य देवता ...

सूर्य देवता बादलों की ओट में छिपे रहे। वहीं कस्बे में दिन में दो बार हल्की बूंदाबांदी होने से भी सर्दी बढने से किसान प्रसन्न नजर आए।

By: dinesh swami

Published: 11 Dec 2017, 03:06 PM IST

बज्जू. क्षेत्र में रविवार को सुबह से लेकर शाम तक सूर्य देवता बादलों की ओट में छिपे रहे। वहीं कस्बे में दिन में दो बार हल्की बूंदाबांदी होने से भी सर्दी बढने से किसान प्रसन्न नजर आए। रविवार को सुबह आसमान में काले बादल व हल्का कोहरा आसमान में जमा रहा। इसके बाद दो बार हल्की बूंदाबांदी से सर्दी में बढोतरी होने से किसान प्रसन्न नजर आए।

 

पाळे की मार से फसल प्रभावित
महाजन. महाजन व आसपास के ग्रामीण अंचल में गत दो दिनों से मौसम में आए बदलाव व रात के समय पडऩे वाले पाळे से फसलों को नुकसान पहुंच रहा है। कस्बे व क्षेत्र में सिंचित खेतों में बोई फसलें सूखे पाळे की मार से असमय ही नष्ट होने लगी हैं। कंवरसेन लिफ्ट नहर के किनारे एक खेत में बोई मक्के की फसल पाळे की मार से झुलस कर खराब हो चुकी हैं।

 

काश्तकार गुरदयाल सिंह ने बताया कि रात के समय पडऩे वाले सूखे पाळे से फसलों को नुकसान पहुंच रहा है। दूसरी तरफ पाळे से पशुओं में भी कई रोग पनप रहे हैं। कस्बे सहित मनोहरिया व अन्य गंावों में इन दिनों भेड़ों मेंं ठण्डी रोग का प्रकोप बढऩे से भेड़पालक परेशान हैं।

 

भेड़पालक गुलाम खां नेे बताया कि गत दिनों में करीब दस से अधिक भेड़ों की मौत हो चुकी है। जैसे-जैसे सर्दी का प्रकोप बढ़ रहा है वैसे-वैसे भेड़ों में भी रोग बढ़ता जा रहा है। रविवार को दोपहर बाद आसमान में घने बादल छाने व हल्की बूंदाबांदी होने एवं सर्द हवा चलने से सर्दी का असर तेज हो गया है।

 

सर्दी से छूटने लगी धूजणी
लूणकरनसर. चक्रवात के साथ जम्मू-कश्मीर की वादियों में हुई बर्फबारी व बारिश से मरूप्रदेश के मौसम में आए बदलाव से कड़ाके की ठण्ड शुरू हो गई है। गत तीन-चार दिनों से बढ़ी ठिठुरन व रविवार को हुई बूंदाबांदी से इलाके में लोगों की धूजणी छूट रही है। मौसम में बदलाव से आसमान में बादल छाए रहते हैं।

 

इससे पूरी धूप नहीं खिलने से सर्दी का पारा बढ़ रहा है तथा पिछले तीन दिनों से तापमान तकरीबन 10 डिग्री से नीचे नजर आया। सर्दी बढऩे से लोगों की दिनचर्या प्रभावित हो गई है। लोग दिनभर गर्म कपड़ों में लिपट कर बचाव कर रहे हैं तथा सुबह व शाम को बचाव के लिए अलाव का सहारा ले रहे हैं।

 

सर्दी के चलते लोगों के खान-पान की चीजों में भी बदलाव आ गया है। सर्दी के कारण पकोड़ों, चाय, कॉफी, कचोरी , समोसा आदि की दुकानों व थडिय़ों के पास लोगों की भीड़ देखने का मिलती है। इसके अलावा मूंगफली की रेहड़ी पर भी लोग खरीदारी करते नजर आते है।

 

हल्की बूंदाबांदी का दौर शुरू हुआ!
सींथल. कस्बे में अचानक मौसम में हुए परिवर्तन के कारण सूर्यदेव के दर्शन नही हुए तथा बादलों की ओट में सूर्यदेवता कभी अन्दर कभी बाहर की लुक्काछिप्पी सी खेलते हुए नजर आए। धूप नहीं निकलने तथा ठंडी हवाओं से हर कोई आसमान की तरफ टकटकी लगाकर देखते हुए नजर आया।

 

नापासर में हुई बूंदाबांदी
नापासर. कस्बे सहित ग्रामीण अंचल में रविवार को एक बार तो सुबह धूप खिली व मौसम साफ रहा लेकिन ग्यारह बजे के बाद आसमान में बादल छा गए। दिन में कई बार मामूली बूंदाबादी होती रही। बादलों के कारण ठंडक बढ़ गई।

 

बदला मौसम का मिजाज
सूडसर. कस्बे एवं यहां के ग्रामीण अंचलों क्षेत्रों में रविवार को अचानक से मौसम ने अपना मिजाज बदल लिया है और यहां की फिजाओं में गुलाबी ठंडक ने धमाकेदार दस्तक दे दी।
आसमान में दोपहर बाद बादल आच्छादित रहे और इसके चलते एकदम से ठंडक बढ़ गई। ठंडक से बचाव के लिए लोग गर्म कपड़े पहने नजर आए। दोपहर बाद से ही बारिश की हल्की फुहारें गिरने के कारण ठंडा का असर बढ़ा और शाम-शाम ढ़लते ही लोगों के ठंड से बचाव के लिए अलाव का सहारा लेना पड़ा रहा है।

 

मौसम आया अपनी रंगत पर
ठुकरियासर. सर्र्दी का मौसम चल रहा पर निकल रहे मिंगसर मांस के बाद भी इस मौसम की रंगत नही बनने से किसानों के चेहरों पर भी चिन्ता की लकीरें छाने लग गई। इस समय खेतों में खड़ी गेहूं चने की फसलों में मावठ, कोहरे एवं ठण्ठ का अभाव और दिन की चटक धूप के कारण यह फसले पनप नही पा रही है।

 

इस समय रात में कुछ ठण्ड के अहसास के अलावा दिन भर तो चटक धूप का ही आलम बना हुआ था। ऐसे में रविवार सुबह एक बार की तेज धूप के बाद एकाएक आसमान बादलों से ढ़क गया और बूंदा बांदी के दिदार भी हुए।
इसके साथ ही ठण्ड का दौर भी शुरू हुआ है। इससे शाम होने तक लोगों को गर्म कपड़े पहने को मजबूर कर दिया।
आसमान में उमड़े बादलों के बाद बने मावठ के आसार से किसानों को भी कुछ राहत नजर आने लगी है।

mausam news
dinesh swami Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned