कोरोना मरीज की मौत के मामले की जांच शुरू, कार्मिकों के बयान लिए

जिला कलक्टर ने चार सदस्यीय वरिष्ठ चिकित्सकों की कमेटी गठित की

By: Jaiprakash

Published: 24 Jun 2020, 10:15 AM IST

बीकानेर। पीबीएम अस्पताल के सुपर स्पेशिलयिटी सेंटर के कोविड-१९ वार्ड के बाथरुम में कोरोना मरीज सिद्धार्थ कुमार मिश्रा की गिरने से हुई मौत की जिला कलक्टर की ओर से गठित चार सदस्यीय वरिष्ठ चिकित्सकों की कमेटी ने जांच शुरू कर दी है। कमेटी सदस्यों ने मंगलवार को कई कार्मिकों के बयान लिए हैं।


कमेटी अध्यक्ष एसपी मेडिकल कॉलेज के पूर्व प्राचार्य एवं वरिष्ठ प्रोफेसर डॉ. आरपी अग्रवाल ने बताया कि मरीज के मौत के मामले की जांच शुरू कर दी है। मंगलवार को वार्ड में तैनात ड्यूटी डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ, नर्सिंग सुपरवाइजर, वर्तमान में कार्यरत कोरोना इलाज में कार्यरत मेडिसिन यूनिट हैड सहित सिक्युरिटी गार्ड, अटेंडेंट के बयान लिए गए हैं। रिपोर्ट बुधवार दोपहर तक तैयार कर ली जाएगी। शाम को यह रिपोर्ट जिला कलक्टर को सौंप देंगे।

सुधार व सुझाव की रिपोर्ट कलक्टर और कॉलेज प्राचार्य को देंगे
पूर्व प्राचार्य डॉ. अग्रवाल ने बताया कि पीबीएम अस्पताल में कोरोना मरीजों के उपचार की व्यवस्था, केयर में कमी, संक्रमण को की जांच के लिए जिला कलक्टर के निर्देश पर जांच रिपोर्ट तैयार की जा रही है। इस संबंध में भी चिकित्सकों, नर्सिंग स्टाफ, नर्सिंग अधीक्षक, सिक्युरिटी गार्ड, अटेंडेंट सहित प्रशासनिक अधिकारियों के बयान लिए गए हैं। कोरोना मरीजों के इलाज में और क्या बेहतर विकल्प अपनाए जा सकते हैं, कमियों को कैसे दूर किया जा सकता है जैसे मुद्दों पर रिपोर्ट तैयाार की गई है। अस्पताल में कमियों को दूर करने के साथ बेहतर व्यवस्था के सुझाव दिए गए हैं। यह रिपोर्ट बुधवार को जिला कलक्टर और कॉलेज प्राचार्य डॉ. शैतानसिंह राठौड़ को सौंप दी जाएगी।

यह है कमेटी
हाल ही में कलक्टर ने एसपी मेडिकल कॉलेज के वरिष्ठ चिकित्सकों की कमेटी गठित की। कमेटी पूर्व प्राचार्य डॉ. आरपी अग्रवाल, कैंसर विभागाध्यक्ष डॉ. एचएस कुमार, डॉ. रेणु अग्रवाल एवं जिरियाट्रिक से डॉ. सुभाष गौड़ शामिल किया गया।


मोर्चरी से रवाना हुई वैन तो फूट पड़ी पत्नी व बेटी की रुलाई
मृतक सिद्धार्थ मिश्रा की पत्नी व दोनों बेटियां सुबह पीबीएम अस्पताल की मोर्चरी के आगे पहुंच गई। स्वास्थ्य विभाग के डिप्टी सीएमएचओ डॉ. योगेन्द्र तनेजा, डीपीएम सुशील कुमार, पटवारी और एस्कॉर्ट करने के लिए पुलिस भी आठ बजे तक पहुंच गई लेकिन अटेंडेंट के अभाव में यहां करीब दो से ढाई घंटे तक का समय लग गया। इसके बाद जब मोर्चरी वैन शव को लेकर रवाना हुई तो वहां दूर एक दूसरी एम्बुलेंस के पास खड़ी पत्नी व बेटी की रुलाई फूट पड़ी। बेबसी का आलम यह था कि मिश्रा की बड़ी बेटी जो दिल्ली से आई थी वह अपनी मां व ***** को ढांढ़स बंधाने सुरक्षा कारणों के साथ उन्हें मिलाया।

कोविड सेंटर में छह मरीज और तीन संदिग्ध
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बीएल मीणा ने बताया कि श्रीगंगानगर रोड स्थित किसान भवन में बनाए कोविड-१९ सेंटर में छह मरीज भर्ती है, वहीं तीन के परिजन जो संदिग्ध उन्हें वहां अलग कमरे में ठहराया गया है। १०८ एम्बुलेंस बीकानेर के प्रोजेक्ट मैनेजर नरेश कुमाार गुप्ता ने बताया कि कोरोना मरीजों की सुविधार्थ किसान केयर सेंटर में एक अतिरिक्त १०८ एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई है ताकि वहां अगर किसी मरीज की तबीयत खराब होती है तो इलाज के लिए तुरंत पीबीएम अस्पताल लाया जा सके।

coronavirus
Jaiprakash Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned