हजारों छात्रों ने कॉलेज में की तालाबंदी, आठ घंटे प्रदर्शन

राजकीय डूंगर महाविद्यालय में तालाबंदी कर एनएसयूआई के पदाधिकारियों और हजारों छात्रों ने दस सूत्री मांगों को लेकर जमकर हंगामा किया।

By: dinesh swami

Published: 14 Nov 2017, 11:52 AM IST

बीकानेर . राजकीय डूंगर महाविद्यालय में सोमवार को तालाबंदी कर एनएसयूआई के पदाधिकारियों और हजारों छात्रों ने दस सूत्री मांगों को लेकर जमकर हंगामा किया। सुबह करीब नौ बजे शुरू हुआ प्रदर्शन शाम को पांच बजे तक जारी रहा। इस बीच कॉलेज प्रशासन और छात्र यूनियन से जुड़े नेताओं के बीच तीन स्तरीय वार्ताएं हुई, लेकिन वे बेनतीजा रही।

 

एनएसयूआई के जिला अध्यक्ष रामनिवास कूकणा ने बताया कि कॉलेज प्रशासन को छात्रों से जुड़ी मूलभूत सुविधाओं के लिए चार माह से ज्ञापन दिए जा रहे थे, लेकिन प्रशासन अनदेखा करता रहा। पांच दिन पूर्व कॉलेज प्रशासन को अंतिम चेतावनी दी गई। इसके बावजूद उसके कानों पर जूं तक नहीं रेंगी।

 

सोमवार को सुबह हजारों छात्रों ने प्रदर्शन शुरू किया। कॉमर्स, आट्र्स तथा साइंस विभाग की तालाबंदी कर दी गई। इसके बाद कॉलेज प्रशासन ने छात्र संगठन के साथ वार्ता कर तीन मांगें पूरी करने पर सहमति जताई, लेकिन यूनियन के पदाधिकारी सभी मांगें पूरी करने पर अड़े रहे। इस दौरान हुई तीन वार्ताएं बिना किसी नतीजे के समाप्त हो गई। कूकणा ने बताया कि जब तक सरकार सभी मांगें पूरी नहीं करती, प्रदर्शन जाराी रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि तालाबंदी मंगलवार को भी जारी रखी जाएगी।

 

मांगों पर एक नजर
कूकणा ने बताया कि शैक्षणिक भ्रमण के नाम पर छात्रों से रुपए लिए जाते हैं, जबकि यह शुल्क कॉलेज प्रशासन को दिया जाना चाहिए। खेल सुविधाओं के नाम पर जारी होने वाले बजट में भी बढ़ोतरी होनी चाहिए। पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष विजय पाल बेनीवाल ने बताया कि खेल मैदान एवं पार्कों के सौंदर्यन के नाम पर भी खानापूर्ति हो रही है।

 

छात्रसंघ अध्यक्ष अशोक बुडि़या ने बताया कि खेल शुल्क एवं विकास शुल्क के नाम पर जमा राशि को भी सही स्थान पर खर्च नहीं किया जाता। प्रदर्शन के दौरान एनएसयूआई के पूर्व जिला उपाध्यक्ष इरफान कायमखानी, मनीष डेलू, राम निवास गोदारा, निम्बाराम गोदारा, पूनमचंद कस्वां, ओमप्रकाश बाना, कृष्ण कुमार गोदारा आदि उपस्थित थे।

Show More
dinesh swami Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned