कोरोना के बीच इलाज की दरकार

- कोरोना के अलावा अन्य बीमारियों का उपचार कराना चुनौतीपूर्ण
हर महीने टल रहे ३०० से अधिक ऑपरेशन

By: Jaiprakash

Published: 24 Aug 2020, 09:28 AM IST

केस एक :- २७ वर्षीय दुष्यंत। नाक की हड्डी बढ़ रही है। चिकित्सकों को दिखाया। ऑपरेशन कराने को कहा लेकिन लॉकडाउन के कारण ऑपरेशन नहीं हो सका। अब भी रुटीन ऑपरेशन शुरू नहीं हुए हैं। ऐसे में उसका ऑपरेशन अभी तक नहीं किया जा सका है।

केस दो :- २३ वर्षीय धामू खेत से आते समय ऊंटगाड़े से गिर गई। पैर का ऑपरेशन होना है लेकिन आज तक नहीं हुआ है। इलाज के लिए भटक रहे हैं। अस्पताल में चिकित्सकों ने बताया कि अभी रुटीन ऑपरेशन नहीं हो रहे।


बीकानेर। कोरोना वायरस के कारण प्रदेश में चिकित्सा व्यवस्था बेपटरी है। कोविड मरीजों के अलावा अन्य बीमारियों के मरीजों को इलाज लेना बेहद मुश्किल हो रहा है। लॉकडाउन के बाद से सरकारी और निजी अस्पतालों में बेपटरी हुई चिकित्सा व्यवस्था सुधार पर नहीं आ रही। हालात यह है कि निजी अस्पतालों में ऑपरेशन बंद से हो गए हैं जबकि सरकारी अस्पतालों में भी ऑपरेशनों पर ब्रेक लग गया है। पहले जहां पीबीएम अस्पताल में प्रतिदिन ऑपरेशन हर रोज होते थे वह अब दो से तीन किए जा रहे हैं।

एसपी मेडिकल कॉलेज से संबद्ध पीबीएम अस्पताल में लॉकडाउन के कारण करीब १४८ दिनों में १३२० से अधिक ऑपरेशन टल रहे हैं। कोविड-१९ के वायरस संक्रमण के खतरे के मद्देनजर चिकित्सकों ने लम्बे समय से इन ऑपेशन को टाल रखा है। सरकारी अस्पतालों में सिर्फ इमरजेंसी मरीजों के ही ऑपरेशन किए जा रहे है। रुटीन के ऑपरेशन नहीं होने से बाहर से आने वाले मरीजों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
..................

हमें भी इलाज की जरूरत
बीकानेर के श्रीरामसर क्षेत्र निवासी रामधन (बदला हुआ नाम) के पीठ के पीछे एक गांठ हुई। उसने मार्च में पीबीएम में चिकित्सक को दिखाया। चिकित्सक ने छोटा ऑपरेशन कर गांठ निकालने की सलाह दी लेकिन २२ मार्च को लॉकडाउन लग गया। इसके बाद से वह इलाज ले नहीं सका। नतीजन उसकी पीठ की गांठ से मवाद निकलने लगा और हल्का-हल्का दर्द होने लगा है। अब वह फिर से चिकित्सक के पास गया तो उसे बताया कि थोड़ा और रुको। अभी कोरोना चल रहा है। रामधन ने बताया कि निजी अस्पताल में भी ऑपरेशन कर नहीं रहे। निजी अस्पताल में ऑपरेशन का खर्च ३० हजार रुपए बताया है जबकि पीबीएम अस्पताल में खर्च न के बराबर है।

कब-कब-कितने ऑपरेशन
माह मेजर माइनर कुल
जनवरी १६९ २९ १९८
फरवरी १६५ १४ १७९
मार्च १०७ २४ १३१
अप्रेल ०५ ०२ ०७
मई ०४ ०३ ०७
जून ६७ ४३ ११०
जुलाई ५७ ३९ ९६
अगस्त ७७ ३५ ११२ (औसतन)

इनका कहना है...


कोरोना के मद्देनजर इमरजेंसी ऑपरेशन नियमित रूप से हो रहे हैं लेनिक रुटीन ऑपरेशन बेहद जरूरी होने पर ही किए जा रहे हैं। रुटीन ऑपरेशन अब रोजाना दो से तीन कर रहे हैं। कोरोना के कारण मरीज-परिजन भी ऑपरेशन कराने से कतरा रहे हैं।
-डॉ. मोहम्मद सलीम, अधीक्षक पीबीएम अस्पताल

coronavirus
Jaiprakash Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned