scriptपेड़ों की अंधाधुंध हो रही कटाई, लकड़ी तस्कर कूट रहे चांदी | Patrika News
बीकानेर

पेड़ों की अंधाधुंध हो रही कटाई, लकड़ी तस्कर कूट रहे चांदी

जंगल बचाने के नाम पर अधिकारी महज बयानबाजी करते

बीकानेरJun 23, 2024 / 01:28 am

Hari

छतरगढ़. रात के अंधेरे में पिकअप गाड़ी में हरे पेड़ों की कटाई कर सीमावर्ती जिले में ले जाते तस्कर।

सीमावर्ती जिले में पहुंचा रहे लकडि़यां, जिम्मेदार मौन, जनता की सुने कौन

पर्यावरण संरक्षण के लिए राज्य सरकार के दावे वन तस्करों के आगे हवा हो रहे हैं।सरकार पेड़ों को बचाने के लिए सालाना करोड़ों खर्च कर लोगों में जागरुकता लाने जतन कर रही है। मगर,जिम्मेदार महकमे की अनदेखी के चलते छतरगढ़ सहित कार्यालय उप वन संरक्षण छतरगढ़ अधीन इलाके में हरे पेड़ कटने के बाद तस्करी के जरिए सीमावर्ती जिले श्रीगंगानगर की विभिन्न मंडियों में पहुंच रहे हैं। जानकारी के मुताबिक हरे पेड़ों की कटाई के बाद तस्कर तख्तपूरा,खारबारा,एक केएम, लूणखां,छतरगढ़,आवा, चार एडब्लूएम,सतासर,खारवाली, संसारदेसर,राजासर भाटियान,व मोतीगढ़ डंडी सहित अन्य इलाकों से आधी रात को पहले तो उबड़-खाबड़ रास्तों तक ले जाते हैं। इसके नैशनल हाइवे व अन्य लिंक रोड़ से श्रीगंगानगर के कई मंडियों अलावा बीकानेर तक पहुंचा रहे हैं। हद तो इस बात की है कि सबको पता है लेकिन वन विभाग को इसकी भनक तक नहीं है।यह वजह है कि तस्कर पेड़ों को बेखौफ बेचकर चांदी कूट रहे हैं। पर्यावरण संरक्षण से जुड़े लोगों को कहना है कि अगर, इसी तरह बेरोकटोक पेड़ों की कटाई होती रहेगी तो एक दिन धोरों में रूंख बचेंगे ही नहीं। ना ही वन्यजीव बचेंगे। पर्यावरण बचाने को लेकर सरकारी अमला ऐसे तो बड़ी- बड़ी बातें करता है।मगर,जंगल बचाने के नाम पर अधिकारी महज बयानबाजी करते हैं।इस संबंध में वन विभाग के उच्च अधिकारी से सम्पर्क किया तो कोई संतोषजनक जबाब नही मिला।
ऐसे उठा रहे मजबूरी का फायदा

तस्करी के इस काले धंधे से जुड़े लोग किसानों को लालच देकर खेतों में खड़े हरे पेड़ों को कटवा रहे हैं।इसके अलावा जंगलों से भी पेड़ों का साफ करवा रहे हैं। पेड़ों को तस्कर श्रीगंगानगर के रावला,घड़साना,रामसिहपुर व बीकानेर नजदीकी चूना फेक्ट्रियों सहित अन्य कस्बों में महंगे दामों पर बेच रहे हैं। लोगों ने बताया कि मंगलवार देर रात्रि को छतरगढ़ क्षेत्र में हरे पेड़ों को काटकर बड़ेट्रेक्टररेड़े में भरकर श्रीगंगानगर सीमा की ओर ले जाया जा रहा था।इसकी सूचना संबंधित विभाग को दी गई। मगर कोई कार्रवाई नहीं की गई।जानकारी के अनुसार हाईवे पर होटल संचालित करने वाले लोगों व जागरूक नागरिकों ने बताया कि लकड़ी तस्कर पेड़ों की कटाई कर जीपों, ट्रकों व ट्रोलियों के माध्यम से श्रीगंगानगर सीमा के विक्रय कर रहे है।
मिलीभगत की आशंका

छतरगढ़ उप वन संरक्षक क्षेत्र में लम्बे समय से वन माफियाओं द्वारा रात के अंधेरे में पेड़ों की अवैध तरीके से कटाई करते हुए सीमावर्ती क्षेत्र की मंडियों में संचालित लकड़ी आरा मशीन पर बेचा जा रहा है।बार बार वन विभाग अधिकारियों को सूचना देने के बावजूद कोई कार्यवाही नहीं हो रही है।इस समय बड़े पैमाने पर वन क्षेत्र में खेजड़ी सहित विभिन्न प्रजातियों के पेड़ों की अंधाधुंध अवैध कटाई की जा रहीं हैं,जिससे वन विभाग अधिकारियों साथ मिलीभगत की आशंका है।
मोखाराम धारणियां जिलाध्यक्ष वन जीव रक्षा संस्थान बीकानेर

Hindi News/ Bikaner / पेड़ों की अंधाधुंध हो रही कटाई, लकड़ी तस्कर कूट रहे चांदी

ट्रेंडिंग वीडियो