इस कॉलेज को मिली यूजीसी की मान्यता, अब मिलेगा बजट

dinesh swami

Publish: Jun, 14 2018 12:09:24 PM (IST)

Bikaner, Rajasthan, India
इस कॉलेज को मिली यूजीसी की मान्यता, अब मिलेगा बजट

राजकीय विधि महाविद्यालय बीकानेर को यूजीसी की ओर से मान्यता मिल गई है। इससे अब कॉलेज को बजट मिलेगा और विकास होगा।

बीकानेर. राजकीय विधि महाविद्यालय बीकानेर को यूजीसी की ओर से मान्यता मिल गई है। इससे अब कॉलेज को बजट मिलेगा और विकास होगा । वर्ष २००५ में प्रदेश में १५ लॉ कॉलेज स्थापित हुए थे। इनमें बीकानेर के अलावा अजमेर, भीलवाड़ा, सीकर, नागौर, सिरोही, बूंदी, कोटा, झालावाड़ व अन्य शामिल हैं । कॉलेज को यूजीसी के १२बी के तहत बजट मिलेगा। इससे पहले विधि महाविद्यालय डूंगर महाविद्यालय का विभाग था लेकिन वर्ष २००५ में यह विभाग अलग होकर विधि कॉलेज के रूप में स्थापित हो गया ।

 

पूरे प्रदेश में इसी राजकीय विधि महाविद्यालय में सरकारी लॉ कॉलेज में एलएलएम मास्टर ऑफ लॉ पीजी कोर्स शुरू हुआ था। जो आज भी यही होता है। कॉलेज के अधिकारियों ने बताया कि मान्यता मिलने से यहां सेमिनार हॉल तथा पुस्तकालय आदि कई नए कमरें तथा विविध गतिविधियां होंगी। साथ ही यहां स्टाफ की कमी को भी दूर किया जाएगा । यहां वर्तमान में तीन स्थायी तथा दो गेस्ट व्याख्याता हैं।

 

एेसे मिली मान्यता
यूजीसी के नियम १२बी और २ एफ के तहत कॉलेज और विश्वविद्यालय को पंजीकृत किया जाता है। जबकि राजकीय विधि महाविद्यालय को महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय से स्थायी संबद्धता है। इससे विधि महाविद्यालय को मान्यता मिल गई और प्रदेश के बाकी विधि कॉलेज को स्थायी संबद्धता नहीं है।

 

बीसीआइ की हां नहीं
हालांकि विधि महाविद्यालय को यूजीसी की मान्यता मिल गई हो लेकिन अभी तक बीसीआइ की मान्यता नहीं मिली है। एेसे में यहां के विद्यार्थियों को प्रवेश के समय काफी परेशानी होती है। यहां प्रवेश नवंबर व दिसंबर तक विद्यार्थियों को मिलता है। कॉलेज प्रशासन ने बताया कि बीसीआई की मान्यता हर साल लेनी पड़ती है।

 

कमी दूर होगी
&विधि कॉलेज को यूजीसी की मान्यता मिल गई है। अब जल्द ही कॉलेज में सेमीनार हॉल तथा स्टाफ की कमी दूर होगी।
डॉ. भगवानराम विश्नोई, कार्यवाहक प्राचार्य, राजकीय विधि महाविद्यालय बीकानेर

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned