बांध खाली करने के लिए पाक छोड़ा जा रहा पानी

बांध खाली करने के लिए पाक छोड़ा जा रहा पानी

Atul Acharya | Publish: Jun, 10 2019 10:36:36 AM (IST) Bikaner, Bikaner, Rajasthan, India

पाकिस्तान की तरफ १२ हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है

बांधों को खाली करने का चल रहा सीजन नहरों की मरम्मत के बाद राजस्थान को मिल सकेगा यह पानी

बीकानेर. पंजाब स्थित हरिके बैराज के गेटों से नीचे पाकिस्तान की तरफ १२ हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। जो हुसैनीवाला हैड से होकर पाकिस्तान जा रहा है। यह स्थिति २१ मई से बांधों को खाली करने के साथ ही पैदा हो गई। जो बांधों को पुन: भरना शुरू करने तक रहेगी। एेसे हालात हर साल दो महीने रहता है।किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता सुभाष सहगल के अनुसार गंगनहर और इंदिरा गांधी नहर परियोजना में हरिके बैराज से पानी छोड़ा जाता है। बैराज में पानी रावी-व्यास और सतलुज नदी का पोंग बांध, भाखड़ा डेम और रणजीत सागर बांध पर रोककर लाया जाता है।

 

 

इन दिनों बांधों को खाली करने का समय चल रहा है। कुल १४२१ फीट के पोंग बांध का वाटर लेवल १३१२ फीट है। अभी करीब पांच हजार क्यूसेक पानी की आवक हो रही है जबकि निकासी १० हजार क्यूसेक है। भाखड़ा डेम का कुल लेवल १६९० फीट है। अभी वाटर लेवल १६१३ फीट पर है। करीब १५५० फीट तक खाली करना है। अभी ३२००० क्यूसेक पानी की आवक और निकासी ३५००० क्यूसेक हो रही है।
सहगल के अनुसार बांधों को खाली करने के लिए नहरों में छोडऩे वाले के अतिरिक्त बचा पानी पाकिस्तान जा रहा है।

 

 

इंदिरा गांधी नहर परियोजना की ६० प्रतिशत भूमि के लिए पानी नहीं है। गंगनहर में भी काफी भूमि असिंचित पड़ी है। राजस्थान सरकार की ओर से इंदिरा गांधी और गंगनहर के डिजाइन के अनुसार पानी नहीं ले पा रहे हैं। इसका कारण नहरों की मरम्मत करने की जरूरत आदि है। पाकिस्तान जा रहे अतिरिक्त पानी को रोककर प्रदेश को दिया जा सकता है।

 

 

 

 

प्रोजेक्ट पर चल रहा है काम
पाकिस्तान जा रहे पानी को रोकने के लिए मोदी सरकार के पिछले कार्यकाल में प्रोजेक्ट बनाया गया। जिस पर अब दूसरे कार्यकाल में काम चल रहा है। सुरक्षा के दृष्टिकोण सहित सभी पहलुओं को देखते हुए प्रोजेक्ट बनाया गया है। जल्द ही इसके मूर्तरूप लेने के बाद हर साल तीन महीने पाकिस्तान जाने वाला पानी राजस्थान को मिलने लगेगा।
अर्जुनराम मेघवाल, केन्द्रीय राज्य मंत्री।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned