करंट से युवक की मौत के बाद मोर्चरी के सामने प्रदर्शन

मुआवजा देने के आश्वासन पर माने प्रदर्शनकारी

By: Jaiprakash

Published: 20 Jul 2020, 12:00 PM IST

बीकानेर। गंगाशहर में करंट से युवक की मौत मामले में रविवार को परिजनों और समाज के लोगों ने पीबीएम अस्पताल की मोर्चरी के आगे धरना लगाकर विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने मुआवजा नहीं देने पर शव उठाने से इनकार कर दिया। मोर्चरी के आगे बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि व स्थानीय लोग एकत्रित हो गए। करीब दो घंटे की समझौता वार्ता के बाद मामला सुलटा।


प्रदर्शनकारियों ने युवक मोहित जोशी की मौत के लिए बिजली कंपनी को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि चांदमल जी बाग के पास स्थित ट्रांसफार्मर के नजदीक बारिश का पानी एकत्रित होता है, जिससे आए दिन करंट प्रवाहित होता है। पहले भी पशु करंट की चपेट में आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि बिजली कंपनी को कई बार कहा लेकिन उन्होंने सुनवाई नहीं की।

लोग आक्रोशित, अतिरिक्त जाब्ता पहुंचा
मोर्चरी के आगे प्रदर्शन कर रहे लोगों से बातचीत के लिए डेढ़ दो घंटे तक बिजली कंपनी का कोई अधिकारी नहीं पहुंचा, जिससे प्रदर्शनकारी आक्रोशित हो गए। इस पर पुलिस प्रशासन ने एहतिहात के तौर पर अतिरिक्त पुलिस बुला लिया। इसके बाद बिजली कंपनी केबीकानेर प्रबंधक शांतनु भट्टाचार्य से वार्ता की गई, जिसमें मृतक के परिजनों को पांच लाख रुपए मुआवजा देने का निर्णय हुआ। वहीं एडीएस सिटी सुनीता चौधरी ने भी एक लाख रुपए की मुख्यमंत्री सहायता कोष से राशि दिलाने के लिए तहसीलदार को प्रस्ताव बनाकर भेजने के निर्देश दिए।


प्रदर्शन में भाजपा नेता महावीर रांका, विप्र फाउंडेशन प्रदेशाध्यक्ष भंवर पुरोहित, श्री गुर्जरगौड़ हितकारी सभा के अध्यक्ष किशन जोशी, पूर्व पार्षद भगवती प्रसाद गौड़, कमल जोशी, नारायण जोशी, माणक बच्छ, पार्षद रामदयाल पंचारिया, पुुर्व पार्षद गणेश जाजड़ा, वेद व्यास, जेना महाराज, रविन्द्र जाजड़ा, प्रवेश जोशी, शिवराज पंचाारिया, कमल जोशी सहित समाज के अनेक लोग शामिल थे।

Jaiprakash Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned