उत्कृष्ट कार्य के लिए 77 कर्मियों को मिला महाप्रबंधक पुरस्कार

सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

By: Amil Shrivas

Published: 25 Apr 2018, 01:22 PM IST

बिलासपुर . एसईसीआर ने 63वां रेल सप्ताह समारोह का मंगलवार को नार्थ ईस्ट इंस्टीट्यूट ऑडिटोरियम में मनाया गया। यह समारोह भारत में पहली बार रेल 16 अप्रैल 1853 में मुम्बई से थाणे के बीच चली थी, इसके उपलक्ष्य में आयोजित रेल सप्ताह समारोह में रेल अधिकारियों और कर्मचारियों को उत्कृष्ट कार्यों के लिए पुरस्कृत किया गया। 63वां रेल सप्ताह समारोह की शुरुआत करते हुए मुख्य अतिथि महाप्रबंधक सुनील सिंह सोइन ने कहा कि रेल की शुरुआत से लेकर अब तक हुए विकास में सभी का योगदान बराबर है। वित्तीय वर्ष 2017-18 में 180.08 मीलियन टन का लदान किया और लगातार सात वर्षाे तक १50 मीलियन टन से अधिक माल लदान करने वाला एकमात्र रेलवे जोन होने के खिताब को बरकरार रखने बधाई दी। इस वित्तीय वर्ष बीस हजार करोड रुपए की आय अर्जित कर सम्पूर्ण भारतीय रेलवे में सर्वाधिक आय अर्जित करने वाला रेलवे जोन बनने का गौरव भी प्राप्त करने की बात कही। इसके अलावा 200 किमी से भी अधिक नयी रेलवे लाइन का निर्माण करने, गेज परिवर्तन, दोहरीकरण और तिहरीकरण का कार्य भी किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हमारी रेलवे में भानुप्रतापपुर-गुदुम नई रेल लाइन का उदघाटन किया है।

railway

इस सेक्शन में चलने वाली पहली गाडी पूर्ण रूप से महिलाओं ने चलाई, इसकी तारीफ की। एसईसीआर ने हाई क्लीयनेंस स्टेंडर्ड सेट किया है, उसे बनाए रखने की बात भी कही। मुख्य अतिथि सुनील कुमार सोइन ने उत्कृष्ट कार्य के लिए 5 अधिकारियों और 72 कर्मचारियों को पुरस्कृत किया। तीनों रेल मंडलों के विभिन्न विभागों के मध्य उत्कृष्टता शील्ड प्रदान की गई। हर मापदंड पर बेहतर कार्य करने के लिए तीनों मंडलों में से बिलासपुर रेल मंडल को शील्ड व पुरस्कार दिया गया। इस मौके पर सेक्रो अध्यक्ष नम्रता सोइन और तीनों मंडल के मंडल रेल प्रबंधक, यूनियन, एसोशिएशन के पदाधिकारी, अधिकारी और कर्मचारी मौजूद रहे। इस दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें स्कूली छात्र-छात्राओं नृत्य प्रदर्शन ने उपस्थित श्रोताओं का मन मोह लिया।

Amil Shrivas
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned