खुशहाल छत्तीसगढ़ ही विकास का पैमाना - सीएम भूपेश

- केंद्र सरकार चावल ले या न ले छग सरकार किसानों को किए वायदे को निभाएगी .

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 04 Jan 2021, 01:33 AM IST

बिलासपुर . जिले में रविवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पहुंचे। इस दौरान उन्होंने लाल बहादुर शास्त्री मैदान से जन सभा को संबोधित किया। उन्होंने बिलासपुर में बनने वाले एयरपोर्ट का नाम बिलासा बाई के नाम पर करने की घोषणा की। बिलासा बाई के ही नाम पर बिलासपुर शहर का भी नाम पड़ा है। वह कल्चूरी काल की एक वीर महिला थीं, जिन्होंने तब के एक राजा की जान शिकार के दौरान बचाई थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि अरपा नदी में 12 महीने पानी बहे इसके लिए प्रोजेक्ट शुरू किया जा रहे हैं। शहर के समाज सेवक शेख गफ्फार के नाम पर तारबाहर स्कूल का नाम रखने की भी घोषणा उन्होंने की। वहीं सेन्ट्रल लाइब्रेरी का नामकरण बिलासपुर के प्रथम विधायक शिव दुलारे मिश्र के नाम पर रखने की घोषणा की है। सीएम ने कहा, लोग गोबर बेचकर मोटरसाइकिल खरीद रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे पुरखों ने सपना देखा था छत्तीसगढ़ का। यहां विकास के पैमाने की बात होती है। हमारी नजर में यही विकास है कि किसान, अनुसूचित जाति, जनजाति के लोग, गरीब, मजदूर, नौजवान सभी खुशहाल हों। पुरखों के सपनों को साकार करने का काम हम कर रहे हैं। सरकार बनते ही हमने किसानों का ऋण माफ किया। 2500 रुपए प्रति क्विंटल में धान खरीदा। किसान कर्ज से मुक्त हुआ और छत्तीसगढ में सोना, चांदी, मोटरसाइकिल और ट्रैक्टर की बिक्री बढ़ी। व्यापारियों को भी व्यापार करने का मौका मिला। एक फैसले ने बड़ा बदलाव किया। जब सरकार बनी तब धान बेचकर किसानों ने सोना चांदी खरीदा, अब गोबर बेचकर मोटरसाइकिल खरीद रहे, यही विकास है। सरकार 24 घंटे छत्तीसगढ़ के 2 करोड़ लोगों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है।


हम अपने वादे पर कायम रहेंगे सीएम
मुख्यमंत्री ने कहा कि बोनस पर विवाद हुआ तो हमने किसानों को समर्थन मूल्य के बाद राजीव गांधी न्याय योजना के जरिए मदद दी। इसे भाजपा के लोग बोनस बता रहे हैं। जब कि केंद्र सरकार खुद किसान सम्मान निधि दे रही है। वैसे ही हम भी दे रहे हैं, इसमें क्या दिक्कत है। केंद्र छत्तीसगढ़ से चावल नहीं खरीद रहा। अब वो चावल ने या ना ले, हम अपने वादे पर कायम रहेंगे। पूरा भुगतान होगा। छत्तीसगढ़ के किसानों को हमने अधिकार दिया तो केंद्र की सरकार अब इसे छीनने की कोशिश कर रही है।


विकास कार्यों की दी सौगात

मुख्यमंत्री ने नूतन चौक में नगर निगम बिलासपुर द्वारा स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट अंतर्गत 6 करोड की लागत से तैयार किये गये तीन मंजिले सेंट्रल लायब्रेरी का लोकार्पण किया। यह राज्य की पहली डिजिटल लायब्रेरी है। लाल बहादुर शास्त्री स्कूल मैदान में आयोजित आम सभा में उन्होंने 99.84 करोड़ की लागत से 142 कार्यों का लोकार्पण, 414.79 करोड़ रुपये की लागत से 225 कार्यों का भूमिपूजन किया। सीएम स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम स्कूल तारबाहर गए। पुराने सर्किट हाउस के पास 6 करोड़ 59 लाख की लागत से बनाये गये नवीन विश्राम भवन का लोकार्पण भी हो रहा है।

इन्होंने रखी ये मांगें और पूरी हुईं

विधायक शैलेष पाण्डेय ने सेंट्रल लाइब्रेरी प्रथम विधायक शिव दुलारे के नाम और तारबाहर स्कूल को स्वर्गीय शेख गफ्फार के नाम करने की मांग की । वहीं संसदीय सचिव डॉ. रश्मि सिंह ने एयरपोर्ट का नाम मां महामाया देवी या फिर बिलासा केवटीन के नाम करने की मांग की। सीएम ने एयरपोर्ट का नाम बिलासा केवटीन के नाम से करने की घोषणा की। कार्यक्रम में महापौर रामशरण यादव, जिला पंचायत अध्यक्ष अरुण सिंह चौहान, प्रदेश उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव, जिलाध्यक्ष विजय केशरवानी, शहर अध्यक्ष प्रमोद नायक महिला शहर अध्यक्ष सीमा पाण्डेय सहित अन्य लोग शामिल थे।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned