लोकसभा के बाद निकाय से भी नदारद हुई जोगी की पार्टी, न तैयारी दिख रही न तैनाती

पार्टी अचानक चली गई बैकफुट पर

By: Amil Shrivas

Published: 27 Nov 2019, 12:58 PM IST

बिलासपुर. प्रदेश की सत्ता में जोगी ने अपने पार्टी को तीसरे विकल्प के रूप में खड़ा किया। विधानसभा चुनाव निपटने के बाद जब लोकसभा चुनाव का बिगुल बजा तो इसमें भी जोरदार प्रदर्शन और बड़े तामझाम के साथ किला फतह करने की बात कही गई। लेकिन पार्टी अचानक बैकफुट पर चली गई जब सवाल उठा तो जोगी ने कहा कि हम निकाय और पंचायत चुनाव में पूरे दमखम के साथ उतरेंगे, इसलिए लोकसभा से पीछे हट रहे हैं। अब निकाय चुनाव का माहौल शुरू हो गया है, आचार संहिता लागू हो चुकी है, नामांकन, चुनाव और परिणामों की तिथि तय हो गई है। ऐसे में एक ओर जहां कांग्रेस और भाजपा जोर-शोर से तैयारी में भिड़ी है, एक के बाद एक त्वरित गति से निकाय चुनाव को लेकर प्रोग्राम लांच कर रही हैं तो दूसरी ओर जोगी की पार्टी में अभी भी सन्नाटे का आलम है। हलांकि पूछे जाने पर पार्टी के नेता ये जरूर कह रहे हैं कि हम तैयारी में लगे हैं, कुछ जगहों पर हमारी सूची तैयार हो रही है पर इस बात में वो दम नहीं दिखता जिस प्रकार से लोकसभा के दौरान निकाय चुनाव की तालठोंक बातें कहीं गईं थीं। छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस के सुप्रीमो अजीत जोगी बसपा के साथ गठबंधन कर विधानसभा चुनाव के मैदान में उतरे थे। पांच जकांछ व दो सीट बसपा को मिली वहीं अधिकांश जगहों पर कांग्रेस व भाजपा से काफी नजदीकी मुकाबला रहा। विधानसभा के परिणाम के बाद पार्टी अपने आप को प्रदेश में तीसरे पार्टी के रूप में स्थापित बताती रही। इसके बाद लोकसभा चुनाव के पहले बसपा के साथ पार्टी का गठबंधन लगभग खत्म हो गया था, लेकिन जब इसको लेकर सवाल उठने लगा तो दोनो ही दल के नेता इससे बचने के लिए यह कहने लगे कि हम लोकसभा में साथ-साथ हैं नगरीय निकाय चुनाव अलग-अलग लड़ेगें। इस मामले में जकांछ के सुप्रीमो अजीत जोगी को प्रेस कांफे्रंस लेकर सफाई देनी पड़ी।

सुगबुगाहट नहीं, कार्यकर्ता फिर से हुए बेचैन
चुनाव लडऩे के इच्छा रखने वाले कार्यकर्ता अपनी ओर से वार्डों में तैयारी कर रहे थे, लेकिन आचार सहिता लागू होने के बाद भी पार्टी की ओर से किसी प्रकार की सुगबुगाहट नहीं होने के कारण फिलहाल इनमें मायूसी देखी जा रही है।
पार्टी के एक नेता कहना है कि अजीत व अमित जोगी द्वारा नगरीय निकाय चुनाव को लेकर कोई निर्देश अभी तक नहीं दिया गया है। यह भी सही है कि कुछ कार्यकर्ता चुनाव लडऩे के इच्छुक हैं। वे अपने स्तर पर तैयारी कर रहे हैं लेकिन पार्टी की ओर स्पष्ट गाइड लाइन नहीं मिली है।
अब तक किसकी गति कितनी तेज
कांग्रेस: पार्टी चुनाव के लिए प्रत्याशियों की सूची तैयार करने में जुटी है। चुनाव प्रभारी मीटिंग लेकर जा चुके हैं। ब्लाक में प्रभारी नियुक्ति कर बैठक लेने का निर्देश जारी कर दिया गया है। विधायक दल की भी बैठक हो गई है। दावेदारों की भीड़ कांग्रेस नेताओं के बंगले में जुटने लगी है।
भाजपा: निकाय चुनाव को लेकर प्रत्याशियों का सर्वे कराया जा रहा है। दावेदारों के नाम की सूची तैयार की जा रही है। 7 से ज्यादा बार बैठक हो गई है। निकाय चुनाव प्रभारी के बंगले में दावेदारों की फौज खड़ी रहती है। वहीं कुछ दावेदरों ने तो वार्ड में जनसंपर्क भी शुरू कर दिया है।
जकांछ: इनकी लगभग सभी मीटिंग मरवाही सदन में होती है। चुनावी महौल होने के बाद भी यहां फिलहाल वीरानी छाई हुई है। अमित जोगी व अजीत जोगी रायुपुर में है। मरवाही सदन पहुंचे कार्यकर्ता ये पूछ रहे हैं कि कब आएंगे और फिर वापस लौट जाते हैं। यहां गिनती के लोग ही नजर आ रहे हैं। जोगी के बंगला में चुनावी महौल फिलहाल दिखाई नहीं दे रहा है।

चुनावी होर्डिंग लगाने के लिए एसडीएम से अनुमति अनिवार्य
कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी द्वारा जारी आदेशानुसार नगर पालिका आम निर्वाचन 2019 अंतर्गत प्रभावशील आदर्श आचरण संहिता के दौरान जिले की नगरीय निकायों में विभिन्न स्थानों पर होर्डिंग्स लगाने हेतु राजनीतिक दलों, अभ्यर्थियों द्वारा प्रस्तुत आवेदन पर नियमानुसार अनुमति देने के लिए संबंधित क्षेत्र के अनुविभागीय दण्डाधिकारी को अधिकृत किया गया है।
अस्त्र-शस्त्र लेकर मनाही
नगरीय निकायों नगर पालिका निगम बिलासपुर, नगर पालिका परिषद तखतपुर एवं रतनपुर, नगर पंचायत मल्हार, बिल्हा, बोदरी, कोटा, पेण्ड्रा एवं गौरेला की सीमाा क्षेत्र के अंदर कोई भी व्यक्ति किसी भी प्रकार के घातक अस्त्र शस्त्र यथा बंदूक, रायफल, भाला, बल्लम, बरछा, लाठी एवं अन्य प्रकार के घातक हथियार तथा विस्फोटक सामग्री लेकर किसी भी सार्वजनिक स्थान, आम सडक़, रास्ता, सार्वजनिक सभाओं पर नहीं चलेगा।

निकायों में प्रतिबंधात्मक निषेधाज्ञा लागू
राज्य निर्वाचन आयोग नगर पालिका आम निर्वाचन 2019 हेतु 25 नवंबर को निर्वाचन कार्यक्रम जारी किए जाने के साथ ही आदर्श आचरण संहिता प्रभावशील हो गई है। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ.संजय अलंग द्वारा जिले की सभी नगरीय निकायों में लोक परिशांति बनाए रखने के लिए निर्वाचन प्रक्रिया एवं मतदान निष्पक्ष, निर्विघ्न तथा शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराए जाने हेतु दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के अंतर्गत प्रतिबंधात्मक निषेधाज्ञा लागू किया गया है।
जुलूस, आपत्तिजनक पोस्टर वितरण पर प्रतिबंध
कोई भी राजनीतिक दल या अभ्यर्थी सशस्त्र जुलूस नहीं निकालेगा और न ही आपत्तिजनक पोस्टर वितरित करेगा। यह आदेश उन शासकीय अधिकारियों, कर्मचारियों पर लागू नहीं होगा, जिन्हें अपने कार्य के संपादन के लिए लाठी या शस्त्र रखना आवश्यक है। यह आदेश उन शासकीय अधिकारियों, कर्मचारियों पर लागू नहीं होगा, जो चुनाव व मतदान के दौरान शांति व व्यवस्था बनाने के लिए पुलिस अधिकारी नियुक्त किया गया है। यह आदेश उन व्यक्तियों पर भी लागू नहीं होगा, जिन्हें दुर्बलता, वृद्धावस्था तथा लंगड़ापन होने के कारण सहारे के रूप में लाठी रखना आवश्यक होता है। इस आदेश का उल्लंघन करने वाला व्यक्ति या दल भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत दण्डनीय होगा।

शहर के नेताओं को नगर पंचायतों का मिला प्रभार
जिला कांग्रेस कमेटी ने प्रदेश कांग्रेस के निर्देश पर नगरीय निकाय के मद्देनजर नगर पंचायत क्षेत्रों के लिए प्रभारियों की नियुक्ति कर दिया है। विजय केशरवानी ने बताया कि समिति के सदस्यों का फैसला सर्वसम्मति से किया गया है। समिति की रिपोर्ट को जल्द से जल्द हासिल कर प्रदेश कांग्रेस कमेटी को भेजा जाएगा। जिला कांग्रेस ग्रामीण अध्यक्ष विजय केशरवानी ने बताया कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देश पर नगरीय निकाय चुनाव 2019 के लिए समितियों का गठन किया गया है। समिति के सदस्यों का चुनाव सर्वसम्मति से किया गया है। जल्द ही समिति प्रभारी संभावित उम्मीदवारों की सूची पेश करेंगे। सूची को प्रदेश कांग्रेस कमेटी के हवाले किया जाएगा। विजय केशरवानी ने बताया कि बोदरी नगर पंचायत की जिम्मेदारी प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अभयनारायण राय और नीरज जायसवाल को दिया गया है। बिल्हा नगर पंचायत के लिए समिति में राकेश शर्मा और जिला कांग्रेस प्रवक्ता अनिल सिंह चौहान को शामिल किया गया है। मल्हार के लिए समिति में वरिष्ठ कांग्रेस नेता भुवनेश्वर यादव और श्याम कश्यप को रखा गया है। पेन्ड्रा नगर पंचायत समिति की जिम्मेदारी अरूण सिंह चौहान और देवेन्द्र सिंह बाटू को दी गयी है। पूर्व विधायक चन्द्रप्रकाश वाजपेयी, शिवबालक कौशिक को गौरेला नगर पंचायत को दी गयी है। कोटा नगर पंचायत के लिए समिति में एसपी चतुर्वेदी और अभिषेक सिंह को रखा गया है। सभी समिति के सदस्य रायशुमारी के बाद प्रत्याशियों की सूची को तैयार कर जिला कांग्रेस कमेटी को देंगे। रिपोर्ट को प्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रमुख मोहन मरकाम के हवाले किया जाएगा।

तैयारी चल रही है
हमारे कार्यकर्ता तैयारी में लगे हैं कुछ जगहों की सूची तैयार कर ली गई है कुछ जगहों पर तैयारियां हो रही है।
अमित जोगी, प्रदेश अध्यक्ष जकांछ
कार्यकर्ता तैयारी कर रहे है
कार्यकर्ता तैयारी कर रहे है चुनाव लडऩे के इच्छुक भी हंै। हम लोगों ने कुछ जगहों पर बैठक कर सूची भी तैयार कर चुके हैं। कुछ जगहों पर तैयारी कर रहे हैं।
जेपी चतुर्वेदी, जिलाध्यक्ष जकांछ

Amil Shrivas
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned