कांग्रेसियों पर लाठीचार्ज मामले में CM ने की कार्रवाई, ASP नीरज चन्द्राकर को हटाया, PHQ में हुए अटैच

कांग्रेसियों पर लाठीचार्ज घटना के तीसरे दिन सीएम डॉ. रमन सिंह ने एएसपी को बिलासपुर से पीएचक्यू अटैच कर दिया।

By: Ashish Gupta

Published: 20 Sep 2018, 02:07 PM IST

बिलासपुर. मंत्री अमर अग्रवाल के बंगले में कचरा फेंकने से बौखलाए एएसपी ने पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों कांग्रेस भवन में घुसकर 18 सितंबर लाठी चार्ज किया था। घटना में एक दर्जन कांग्रेसी घायल हुए थे। घटना के बाद से कांग्रेस आक्रामक विरोध कर रही है। मामले की गूंज दिल्ली तक पहुंच चुकी है। गुरुवार को घटना के तीसरे दिन सीएम डॉ. रमन सिंह ने एएसपी को बिलासपुर से पीएचक्यू अटैच कर दिया। सीएम ने यह घोषणा सूरजपुर में आयोजित प्रेस कान्फ्रेंस में की।

सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट का उद्घाटन करते हुए अमर अग्रवाल द्वारा कांग्रेसियों पर शहर को कचरा करने का आरोप लगाने पर कांग्रेसियों ने उनके बंगले का घेराव और घर में कचरा फेंककर विरोध प्रदर्शन करने का कार्यक्रम 18 अगस्त को तय किया था। इसकी सूचना प्रशासन को दी गई थी। कांग्रेसियों के विरोध प्रदर्शन को रोकने पुलिस ने मंत्री अग्रवाल के बंगले के आसपास बेरिकेटिंग की थी। कांग्रेसियों ने पुलिस को छकाते हुए मंत्री के बंगले में कचरा फेंका था।

कांग्रेसियों को रोक पाने में नाकाम रहे एएसपी नीरज चन्द्राकर ने जिले के राजपत्रित अधिकारियों और थाना प्रभारियों के साथ मिलकर कांग्रेस भवन में घुसकर कांग्रेसियों पर लाठी चार्ज किया था। घटना में एक दर्जन से अधिक कांग्रेसी घायल हुए हैं। घटना के बाद कांग्रेस ने आक्रामक विरोध प्रदर्शन शुरू किया है। लगातार विरोध होने और मामला दिल्ली तक पहुंचने के बाद सीएम ने गुरुवार को सूरजपुर प्रेस कान्फ्रेस में एएसपी नीरज चन्द्राकर को हटाकर पीएचक्यू अटैच करने की घोषणा कर दी। सीएम ने मामले में दंडाधिकारी जांच तक एएसपी चन्द्राकर को पीएचक्यू में अटैच रखने के आदेश दिए गए हैं।

बिना अनुमति कर दिया लाठीचार्ज
किसी तरह की गड़बड़ी होने पर लाठीचार्ज के लिए कलेक्टर, एसपी, एसडीएम, एडीएम की अनुमति लेना जरूरी है। लेकिन एएसपी नीरज चंद्राकर ने बिना किसी की अनुमति के पुलिस बल के साथ कांग्रेसियों पर लाठियां चलाईं। कलेक्टर, एसपी सहित संबंधित सभी अधिकारियों ने कहा है कि उन्होंने कोई निर्देश इस बाबत जारी नहीं किए और घटना होने के बाद ही इस संबंध में जानकारी हुई।

पीएम के दौरे के मद्देनजर हुई कार्रवाई
प्रधानमंत्री नरेंद्र 22 सितंबर को जांजगीर आ रहे हैं। कांग्रेसियों का धरना प्रदर्शन शहर में जारी है, साथ ही पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल ने भी कहा है कि अगर इस मामले में आरोपियों पर कार्रवाई नहीं हुई तो वे पीएम का जांजगीर दौरा नहीं होने देंगे। यह मामला पीएम हाउस तक भी पहुंच चुका है। माना जा रहा है कि इसी के मद्देनजर चंद्राकर पर तुरंत-फुरंत कार्रवाई की गई है।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned