गौरेला पेंड्रा मरवाही में प्रतिदिन औसतन 15 कोरोना संक्रमित, लॉकडाउन में सबसे बड़ी बाधा मरवाही उपचुनाव

दो निजी अस्पताल में प्रसूताओं के लिए है। जिला प्रशासन के आला अधिकारी कोरोना संक्रमण की रोकथाम करने लॉकडाउन लगाने की जरूरत महसूस कर रहे हैं, लेकिन आधिकारिक तौर पर इस मामले में कुछ कहने से बच रहे हैं। इसकी मुख्य वजह मरवाही विधानसभा उपचुनाव है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 23 Sep 2020, 03:00 PM IST

बिलासपुर. गौरेला पेंड्रा मरवाही में औसतन प्रतिदिन १५ कोरोना संक्रमित मरीज मिल रहे हैं। जिले में मंगलवार तक 440 लोग कोविड 19 से संक्रमित हो चुके हैं। तीन मरीजों की मौत हो चुकी है। जिले में वर्तमान में पांच इलाका कंटेनमेंट जोन के दायरे में है। लॉकडाउन में सबसे बड़ी बाधा मरवाही विधानसभा उपचुनाव है, जिले में किसी न किसी दल के नेताओं का दौरा और चुनावी बैठकें हो रही हैं। इसलिए जिला प्रशासन पशोपेश की स्थिति में है।

जीपीएम जिले में कोरोना संक्रमित के इलाज के लिए सिर्फ शासकीय अस्पताल है। इस जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं का अभाव है। जिले में केवल दो निजी अस्पताल 10-10 बेड के हैं। दो निजी अस्पताल में प्रसूताओं के लिए है। जिला प्रशासन के आला अधिकारी कोरोना संक्रमण की रोकथाम करने लॉकडाउन लगाने की जरूरत महसूस कर रहे हैं, लेकिन आधिकारिक तौर पर इस मामले में कुछ कहने से बच रहे हैं। इसकी मुख्य वजह मरवाही विधानसभा उपचुनाव है।

 

3 मौत,440 संक्रमित

जिले में कोरोना वायरस संक्रमण से तीन लोगों की मौत हो चुकी है। अब तक ४४० संक्रमित हो चुके हैं। प्रतिदिन औसतन 15 नए मरीज मिल रहे हैं।

-डॉ. देवेंद्र पैकरा,सीएमएचओ,जीपीएम

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned