निगम के आदर्श पेट्रोल पंप में आठ माह से पेट्रोल का टोटा

तत्कालीन निगम आयुक्त के जाने के बाद आदर्श पेट्रोल पंप की स्थिति लड़खड़ा गई और विभिन्न गड़बडि़यों के कारण यह सुर्खियों में रहा।

By: Amil Shrivas

Published: 10 Feb 2018, 12:28 PM IST

बिलासपुर . नगर निगम के पेट्रोल पंप में विगत आठ माह से पेट्रोल का टोटा है। निगम के अफसर आर्थिक तंगी का हवाला दे रहे हैं। स्थिति यह है कि केवल निगम के अफसरों के वाहनों के लिए ही पेट्रोल मंगाया जा रहा है, आमजन यहां से रोजाना चक्कर काटकर लौट जा रहे हैं।
तत्कालीन नगरीय प्रशासन मंत्री राजेश मूणत के निर्देश पर तत्कालीन निगम आयुक्त मुकेश बंसल ने यहां निगम के आदर्श पेट्रोल पंप की स्थापना की थी। संस्थागत पेट्रोल पंप होने की वजह से लोगों के बीच इस संस्थान के प्रति इस कदर विश्वास था कि शुरुआती दौर में जमकर बिक्री हुई। तत्कालीन निगम आयुक्त के जाने के बाद आदर्श पेट्रोल पंप की स्थिति लड़खड़ा गई और विभिन्न गड़बडि़यों के कारण यह सुर्खियों में रहा। फिर बंद होने की कागार तक पहुंच गया, स्थिति यहां तक पहुंच गई कि विगत आठ माह से निगम के पेट्रोल पंंप में निगम के अफसरों के वाहनों के अलावा शहर के अन्य लोगों के लिए पेट्रोल ही नहीं है। यहां पेट्रोल डलवाने के लिए आने वाले वाहनधारकों को रोजाना निराश होकर लौटना पड़ रहा है। ज्यादातर लोगों ने तो यहां पेट्रोल के लिए जाना ही छोड़ दिया। विगत दिनों महापौर किशोर राय की नाराजगी के बाद आनन-फानन में पेट्रोल मंगवाकर टंकी में डलवाया गया, जिससे निकाय के अफसरों और पदाधिकारियों के वाहनों में पेट्रोल डाला जा रहा है। वहीं आमजन को पेट्रोल नहीं है, कहकर लौटाया जा रहा है। कमोबेश डीजल के आपूर्ति का भी यही हालात हैं। निगम के वाहन बेड़े में सवा सौ से अधिक वाहन हैं, इसलिए इन वाहनों के लिए डीजल मंगया जाता है। कभी-कभी तो यहां डीजल तक का टोटा हो जाता है, जिसके चलते आए दिन सफाई व्यवस्था ठप हो जाती है, निगम को निजी पंपों से अपने वाहनोंं के लिए डीजल खरीदना पड़ता है।

तो फायदे में रहेगा आदर्श पेट्रोल पंप
नगर निगम के आदर्श पेट्रोल पंप के कर्मचारियों का कहना है कि संस्थागत पेट्रोल पंप होने के कारण यहां आमजन का विश्वास है। लोग यहां से रोजाना लौट रहे हैं। यदि निगम प्रशासन डिपो में भुगतान कर नियमित पेट्रोल-डीजल मंगाता है तो इससे संस्थान को न सिर्फ कमीशन से मिलने वाले फंड से लाभ होगा, बल्कि पंप समेत कुछ अन्य विभागों के कर्मचारियों को भी यहां से होने वाले लाभ से वेतन का भुगतान किया जा सकेगा।

Amil Shrivas
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned