हादसे से नहीं ली सीख, जर्जर स्कूलों में ही लग रहीं कक्षाएं, खतरे में बच्चों की जान

मस्तूरी विकासखण्ड की भटचौरा मिडिल स्कूल में सोमवार को हुए हादसे के बाद भी शिक्षा विभाग ने कोई सीख नहीं ली है

By: Kajal Kiran Kashyap

Published: 31 Aug 2016, 11:55 AM IST

बिलासपुर. मस्तूरी विकासखण्ड की भटचौरा मिडिल स्कूल में सोमवार को हुए हादसे के बाद भी शिक्षा विभाग ने कोई सीख नहीं ली है। शिक्षा विभाग का न तो कोई बड़ा अधिकारी वहां निरीक्षण के लिए पहुंचा और न ही बच्चों और स्कूल की कोई सुध ली। अब भी जिले के ढाई सौ से अधिक जर्जर स्कूल भवनों में ही नौनिहालों को बैठाकर पढ़ाया जा रहा है। यही नहीं, मंगलवार को हुई टीएल की बैठक में भी कलक्टर ने उपस्थित अधिकारियों से इस संबंध में कोई जिक्र तक नहीं किया। जिले की 2400 प्राइमरी और मिडिल स्कूलों में से ढाई सौ एेसे स्कूल हैं जिनकी मरम्मत की जरूरत है। भटचौरा की घटना के बाद बीईओ ने सोमवार को वहां एबीईओ आरती एक्का को तो भेजा, लेकिन उसके बाद फिर जर्जर भवनों में लग रहीं कक्षाओं की सुध किसी ने नहीं ली। बाारिश के दौरान जर्जर भवनों के गिरने की आशंका ज्यादा रहती है। एेसे में बच्चों को सुरक्षित जगहों पर बिठाने की जरूरत है। लेकिन जिले के अधिकारियों को किसी की सुध ही नहीं है।

मिडिल स्कूल भवन में ही हाईस्कूल भी संचालित भटचौरा मिडिल स्कूल परिसर में   ही हाई स्कूल भी संचालित हो रहा है। हाई स्कूल का स्वयं का भवन नहीं है। कमरों की कमी के चलते ही बच्चों को जर्जर भवन में बिठाया जा रहा है। हाईस्कूल भवन के लिए विभाग ने यहां पर 2014 में 6 अतिरिक्त कक्षों को 30 लाख रुपए में स्वीकृत किया। भवन बनाने के लिए परिसर में जगह नहीं है, इसलिए अभी तक भवन का काम शुरू भी नहीं हो सका है। यहां पर हाईस्कूल में ही ढाई सौ से अधिक बच्चे पढ़ते हैं, जबकि मिडिल में बच्चों की संख्या करीब साढ़े चार सौ है।

घायल बच्चों की अस्पताल से हुई छुट्टी
बीईओ सुधीर सराफ ने बताया कि वह सोमवार को ही जिला अस्पताल में घायल छात्रों से मिलने गए थे। हालांकि मंगलवार को नहीं गुए। हादसे में घायल चारों बच्चों की अस्पताल से मंगलवार की शाम छुट्टी कर दी गई। चारों घायलों में से एक की अंगुली में फ्रैक्चर आया है, जिसमें प्लास्टर लगाया गया है। घायल को एक सप्ताह बाद फिर से बुलाया गया है।
Kajal Kiran Kashyap Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned