बिलासपुर. शुक्रवार की शाम हुई दो घंटे की बारिश ने निगम प्रशासन के बारिश पूर्व किए गए दावों की पोल खोलकर रख दी। मुख्य मार्ग से लेकर गलियों तक पानी की धार बहती रही, ऐसा नहीं है कि इसका निदान नहीं किया जा सकता परंतु जिम्मेदारों ने इसके बारे में सोंचा ही नही। या सोंचा भी तो चहेते ठेकेदारों ने निदान के नाम पर मनमानी की। जिसकी वजह से शहर की सडक़ों पर पानी बहता रहा लेकन मंत्री, मेयर और कलेक्टर किसी के आंख में पानी नहीं दिखा।

शुक्रवार की दोपहर बाद अचानक शुरू हुई दो घंटे की बारिश से शहर के ज्यादातर इलाके में फिर जलभराव की स्थिति रही। ये वही जगह है जहां पिछले 20-25 सालों से पानी बह रहा है। मंत्री 15 साल से और महापौर चार साल से इन चिन्हित स्थलों से परिचित हैं जहां जलभराव होता आ रहा है इसके बावजूद इनते सालों में इसका समुचित निदान करने के बजाए दोनों अब शहर के बनावट को कटोरे जैसा बताकर पल्ला झाड़ रहे हैं। फिलहाल इस बारिश ने तो शहर के लोगों को सचेत कर दिया है। गली-मोहल्लों में पानी भरने से लोगों को आने- जाने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

Ad Block is Banned