शुभम हत्या कांड: संदेही ने पुलिस को खूब दौड़ाया पर पकड़ में न आया, रायपुर व रायगढ़ से बैरंग लौटी टीम

Anil Kumar Srivas

Publish: Mar, 17 2019 04:06:42 PM (IST) | Updated: Mar, 17 2019 04:06:43 PM (IST)

Bilaspur, Bilaspur, Chhattisgarh, India

दूसरे दिन भी पुलिस को नहीं मिला सुराग

बिलासपुर. गौरव पथ रिंग रोड-2 पन्ना नगर स्थित पार्षद गली में तेंदूपत्ता व्यापारी के एकलौते पुत्र शुभम की हत्या के मामले में फरार संदेही को पकडऩे के लिए पुलिस टीमें रायपुर और रायगढ़ भेजी गई। संदेही ने पुलिस को जमकर छकाया। अंतत: पुलिस की टीमें 24 घंटे की तलाश के बाद बैरंग लौट आई। सिविल लाइन पुलिस के अनुसार मिनोचा कॉलोनी निवासी शुभम केशरवानी पिता गिरजा प्रसाद (25) 14 मार्च की रात घर से कार सीजी 10 एआर 3416 में निकला था। देर रात गौरव पथ रिंग रोड-2 स्थित पन्ना नगर पार्षद गली के पास शुभम पर धारदार हथियार से हमला कर मौत के घाट उतार गया था। मृतक का दोस्त अक्षत संदेह के घेरे में है। शनिवार को अक्षत का मोबाइल ऑन होने पर साइबर सेल को उसकी लोकेशन रात मे ंरायपुर में मिली। उसे पकडऩे पुलिस की एक टीम रायपुर भेजी गई थी। वहीं कुछ घंटों के बाद उसके मोबाइल की लोकेशन रायगढ़ में मिली। अधिकारियों ने पुलिस कर्मियों की दूसरी टीम रायगढ़ गई। दोनों टीमें संदेही को 24 घंटे तक ढूंढती रही, अंत में मोबाइल स्वीच ऑफ होने पर टीमें बैरंग लौट आई।

केशरवानी वैश्य समाज ने एएसपी को सौंपा ज्ञापन
हत्या के आरोपियों को पकडऩे के लिए केशरवानी वैश्य समाज कल्याण समिति के पदाधिकारियों और सदस्यों ने एसपी अभिषेक मीणा के नाम एएसपी संजय धु्रव को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में समाज के सदस्यों ने कहा है कि घटना के दो दिन बीतने के बाद भी हत्यारों का सुराग नहीं लगने से समाज के सदस्यों में रोष व्याप्त है। वहीं परिवार के सदस्य भी खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। मृतक के परिवार के सदस्यों को सुरक्षा दी जाए। ज्ञापन सौंपने वालों में समाज के अध्यक्ष राजकपूर गुप्ता, सचिव विजय कुमार गुप्ता समेत अन्य पदाधिकारी व सदस्य शामिल थे।

हत्यारों को शीघ्र गिरफ्तार करें- कौशिक
शुभम हत्या कांड मामले में फरार आरोपियों को पकडऩे विधानसभा नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने शनिवार को एसपी अभिषेक मीणा से चर्चा की। उन्होंने कहा कि पिछले दो महीनों में पूरे प्रदेश की कानून व्यवस्था की स्थिति में गिरावट आई है। अपराधियों के हौसले बुलंद हो गए हैं और कानून का उन्हें कोई भय नहीं है। लूट, हत्या और डकैती की घटनाओं में बढ़ोतरी हो रही है। अपराध घटित होने पर मुख्यमंत्री ने पुलिस अधीक्षकों की जिम्मेदारी तय करने के निर्देश दिए थे, लेकिन मुख्यमंत्री की पुलिस प्रशासन पर कोई पकड़ नहीं रह गई है।

संदेही का लोकेशन रायपुर और बाद में रायगढ़ में मिला था। उसे पकडऩे टीमें भेजी गई थी। सुराग नहीं मिलने पर टीमें वापस आ गई हैं।
ओम प्रकाश शर्मा, एएसपी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned