सैकड़ों पालकों ने फीस वृद्धि के खिलाफ मांगा जन समर्थन, देवकीनंदन चौक पर किया धरना प्रदर्शन

सैकड़ों पालकों ने फीस वृद्धि के खिलाफ मांगा जन समर्थन, देवकीनंदन चौक पर किया धरना प्रदर्शन

Brijesh Kumar Yadav | Publish: Apr, 15 2019 10:26:18 PM (IST) Bilaspur, Bilaspur, Chhattisgarh, India

पालक बोले अगर नहीं मानी मांगे तो नहीं करेंगे लोकसभा चुनाव में मतदान, कर फोटो राजेन्द्र ठाकुर के फोल्डर में पालकों की फोटो टेलीग्राम में नाम के साथ

बिलासपुर. शहर के निजी स्कूलों में बेतहाशा फीस वृद्धि किए जाने और फिक्स दुकान से कॉपी-किताबें खरीदने के लिए खिलाफ आंदोलित पालकों ने सोमवार को देवकीनंदन चौक पर धरना प्रदर्शन किया। शहर वासियों को आंदोलन से जोडने के लिए पर्चे बांटे और समर्थन मांगा। साथ ही प्रशासन को चेतावनी भी दी है कि मतदान से पहले अगर उनकी मांग न मानी गई तो वे मतदान का बहिष्कार करने के लिए बाध्य होंगे।

सीबीएसई व सीजी बोर्ड से मान्यता प्राप्त निजी स्कूलों में अनुवल शुल्क, री एडमिशन, बिल्डिंग फंड, लाइब्रेरी फीस, डायरेक्टर फंड व अन्य फंड के नाम पर स्कूल प्रबंधन द्वारा वसूली जा रही मोटी रकम से पालक परेशान हैं। इस वसूली के खिलाफ पालक डीईओ,कलेक्टर ,सीएम आदि से शिकायत कर चुके हैं पर अब तक समाधान नहीं निकला। ऐसे में पालक खुद अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं। सोमवार को देवकीनंदन दीक्षित चौक पर सैकड़ों पालकों ने देवकी नंदन चौक में धरना प्रदर्शन किया। निजी स्कूलों की मनमानी के विरोध में अभिभावकों का कहना है कि स्कूल प्रबंधन की मनमानी इतनी बढ़ चुकी है कि वह किसी को कुछ समझते ही नहीं है। बात करने भी जाए तो उनकी बात को स्कूल प्रबंधन सुनने को तैयार नहीं है। पालकों ने कहा कि जिला शिक्षा अधिकारी आरएन हीरधर की उदासीनता और लापरवाही के कारण निजी स्कूलों के हौसले बुलंद हैं। डीईओ न तो स्कूलों की जांच करते हैं और न ही सरकारी नियमों को लागू कराते हैं। अन्य सहायक शिक्षा संचालक भी उन्हीं के रास्ते पर चल रहे हैं। पालकों ने बताया कि वे अब वह जनमत संग्रह कर लोगों को अपने आंदोलन में जोडऩे का प्रयास कर रहे हैं, इससे प्राइवेट स्कूलों की मनमानी को रोकने वृहद आंदोलन खड़ा किया जा सके।
प्राइवेट स्कूलों की मनमानी दिन ब दिन बढ़ती ही जा रही है। स्कूल प्रबंधन किसी की सुनने को तैयार नहीं है। इस कारण हम पर्चे बाट कर लोगों को अपने आंदोलन से जोडने के लिए प्रयास कर रहे है।
रुखसार खान अभिभावक

सभी स्कूलों में एनसीईआरटी का सिलेबस अनिवार्य होना चाहिए। इससे प्राइवेट स्कूल जो मनमाने दुकान से महंगे दामों में पुस्तक व कॉफी खरीदने मजबूर करते है उस पर लगाम लगाना जारूरी है।
रिजवाना परवीन अभिभावक

सभी स्कूलों में फीस का एक जैसा मानक होना चाहिए, बढ़े हुए शुल्क को तत्काल प्रभाव से निरस्त किया जाए। स्कूलों में किताबों के नाम पर चल रही कमिशन खोरी जब तक बंद नहीं होगा आंदोलन चलता रहेगा।
निलान्द्री गुहा अभिभावक

स्कूल प्रबंधन मनमाना शुल्क में बढोत्तरी तो करता है लेकिन बच्चों की सुरक्षा के लिए बसों में सीसीटीवी कैमरे व जाली नहीं लगाते है। बच्चों को फिस के नाम पर परेशान किया जाता है यह बंद होना चाहिए।
अनिरुद्ध मिश्रा अभिभावक

 

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned