राज्य का एकमात्र केंद्रीय विश्वविद्यालय और नहीं दे पा रहे 30 साइंटिफिक रिसर्च स्कालरों को महीनों से वेतन

राज्य का एकमात्र केंद्रीय विश्वविद्यालय और नहीं दे पा रहे 30 साइंटिफिक रिसर्च स्कालरों को महीनों से वेतन

Anil Kumar Srivas | Updated: 04 Jun 2019, 03:00:00 PM (IST) Bilaspur, Bilaspur, Chhattisgarh, India

30 साइंटिफिक रिसर्च स्कालरों को पिछले तीन महीने से वेतन का भुगतान नहीं किया है

बिलासपुर. गुरु घासीदास केंद्रीय विवि ने 30 साइंटिफिक रिसर्च स्कालरों को पिछले तीन महीने से वेतन का भुगतान नहीं किया है। वेतन नहीं मिलने से छात्रों को आर्थिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। वित्त विभाग के दर्जनों चक्कर लगाने के बाद भी इसका समाधान नही होने पर पूर्व छात्र परिषद के सदस्यों ने सोमवार को वित्त अधिकारी को पूरे प्रकरण की जानकारी देते हुए शीघ्र निर्णय लिए जाने की मांग की है। दरअसल सीयू के विभिन्न विभागों में यूजीसी द्वारा साइंटिफिक प्रोजेक्ट चलाए जाते हैं। इसमें छात्रों को चयन प्रक्रिया में भाग लेने के बाद चयनित होने पर रिसर्च स्कालर के रूप में काम करना होता है। चयनित छात्रों को यूजीसी द्वारा निर्धारित नियमित राशि विवि से स्वीकृत होकर प्रदान की जाती है। पिछले तीन महीनों से 30 रिसर्च स्कालरों को राशि नहीं दी गई है। रिसर्च स्कालरों को विषय के अनुसार 12 से 16 हजार रुपए प्रति महीने दिया जाता है। इसके कारण उन्हें आर्थिक कठिनाइयों का सामान करना पड़ रहा है। वित्त विभाग के कई चक्कर लगाने के बाद भी राशि नहीं मिलने पर पूर्व छात्र परिषद के पदाधिकारियों ने इनकी मदद की।

सोमवार को पूर्व छात्र परिषद अध्यक्ष उदयन शर्मा के नेतृत्व में छात्रों का प्रतिनिध मंडल वित्त अधिकारी प्रो. एसएस सिंह से मुलाकात की। उन्हें इस समस्या से अवगत कराया गया। इस पर उन्होंने छात्रों को आश्वासन देते हुए कहा कि राशि आवंटन नहीं होने के कारण विलंब हो रहा है। राशि आवंंटित होने के बाद जल्द ही छात्रों के खाते में पैसे जमा करा दिया जाएगा।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned