6 हजार में से 4 हजार चुनाव कर्मी डाल सकेंगे बूथ पर ही अपना वोट

6 हजार में से 4 हजार चुनाव कर्मी डाल सकेंगे बूथ पर ही अपना वोट

Brijesh Kumar Yadav | Publish: Apr, 18 2019 12:03:35 PM (IST) | Updated: Apr, 18 2019 12:03:36 PM (IST) Bilaspur, Bilaspur, Chhattisgarh, India

ईडीसी: पोस्टल बैलेट में होती है दिक्कत, कई के पते सही नहीं होते

बिलासपुर . लोकसभा चुनाव में जिन अधिकारियों, कर्मचारियों की चुनाव ड्यूटी जहां तय है, उनके लिए इलेक्शन ड्यूटी सर्टिफिकेट ( ईडीसी ) एवं पोस्टल बैलेट 6 विधानसभाओं के लिए 6534 कर्मचारियों के लिए जारी किया जाना है। लेकिन ईडीसी अभी तक 2308 जारी किए गए है। दूसरी तरफ पोस्टल बैलेट से मतदान करने वाले कर्मचारियों के लिए पीबी ( पोस्टल बैलेट ) जारी करने की संख्या काफी कम है। अब तक 2329 में केवल 180 पीबी जारी हुआ है। बेलतरा विधानसभा क्षेत्र में किसी भी कर्मचारी ने अब तक पोस्टल बैलेट आवेदन नहींं लिया है।
बिलासपुर संसदीय क्षेत्र में 23 अपै्रल को मतदान है। इस संसदीय क्षेत्र में कुल आठ विस क्षेात्र आते हैं। इनमें दो विस क्षेत्र मुंगेली जिला के व छह विस क्षेत्र बिलासपुर जिले के आते हैं। दो विस क्षेत्र में मतदान प्रबंधन मुंगेली जिला प्रशासन देख रहा है जबकि शेष का बिलासपुर प्रशासन। बिलासपुर जिला प्रशासन ने जिले के 6 विधानसभा क्षेत्रों कोटा ,तखतपुर , बिल्हा, बिलासपुर एवं मस्तूरी में मतदान ड्यूटी करने वाले कर्मचारियों ने ईडीसी एवं पोस्टल बैलट तहसील मुख्यालय में जारी करना शुरू कर दिया है। अभी तक केवल बेलतरा विधानसभा क्षेत्र में चुनाव ड्यूटी करने वाले कर्मचारियों का ईडीसी नगर निगम कार्यालय से वितरण किया जा रहा है। विधानसभा चुनाव के दौरान मतदान ड्यूटी करने वाले कर्मचारियों के लिए पोस्टल बैलेट की व्यवस्था की गई थी।
इस दौरान सैकड़ों कर्मचारियों को समय पर पोस्टल बैलेट नहीं मिल पाया था। इसके चलते सैकड़ों की संख्या में कर्मचारी वोट डालने से वंचित हो गए थे।

विस क्षेत्र ईडीसी श्रेणी पीबी श्रेणी कुल ईडीसी जारी हुए
के कर्मचारी व पीबी ईडीसी/ पीबी
निर्वाचन आयोग की सराहनीय पहल
निर्वाचन आयोग ने मतदान दिवस पर ड्यूटी करने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों को उनके ड्यूटी वाले मतदान केन्द्र में ही उनके मतदान की व्यवस्था करके अच्छी पहल की है। इसकी सराहना की जानी चाहिए। अधिकारी व कर्मचारी ही प्रशासनिक कामकाज की रीढ़ होते हैं और मतदान के दिन सबसे अधिक श्रम करते हैं लेकिन अलग-अलग कारणों से कई बार वे खुद मतदान से वंचित रह जाते हैं लेकिन इस पहल से वे भी मतदान कर सकेंगे। लोकतंत्र के इस पर्व में अधिक से अधिक मतदान जरूरी है तभी देश में लोकतंत्र मजबूत होगा। चुनाव आयोग की कोशिश निष्पक्ष और पारदर्शी प्रक्रिया के तहत मतदान कराना है,उम्मीद की जानी चाहिए कि इसके सकारात्मक परिणाम आएंगे।
पोस्टल बैलेट देने दो विकल्प
चुनाव ड्यूटी करने वाले 2329 कर्मचारियों को पोस्टल बैलेट की श्रेणी में रखा गया है। ऐसे कर्मचारियों को उनके घर के पते पर पोस्टल बैलेट फार्म भेजा जा रहा है। जिनको यह पत्र नहीं मिलेगा उन कर्मचारियों को मतदान सामग्री लेने के दौरान यह फार्म दिया जाएगा।
ईडीसी से बढेग़ा मतदान प्रतिशत
निर्वाचन आयोग ने लोकसभा चुनाव में ड्यूटी करने वाले कर्मचारियों को इलेक्शन ड्यूटी सर्टिफिकेट जारी कर रहा है। इस सर्टिफिकेट के आधार पर जो कर्मचारी जिस मतदान केंद्र में ड्यूटी करेगा वह उसी मतदान केंद्र में मतदान कर सकेगा।
कर्मचारी संघ की मतदान के लिए अपील
छत्तीसगढ़ प्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ ने शत प्रतिशत मतदान को सफल बनाने के लिए सभी अधिकारियों, कर्मचारियों से लोकसभा चुनाव में मतदान अवश्य करने का आह्वान किया है। संघ के जिला अध्यक्ष जीआर चंद्रा, जिला सचिव किशोर शर्मा ,रामकुमार यादव, आरएन राजपूत, आरके टोण्डे, अश्वनी पांडे, ओंकार अवस्थी,राजकुमार मिश्रा, चंद्रशेखर यादव, अंजू शुक्ला , राजीव कस्तूरे आदि कर्मचारियों ने 23 अपै्रल को लोकतंत्र के महापर्व पर मतदान करने की अपील की है।
ईडीसी के लिए 3 विकल्प
इलेक्शन ड्यूटी सर्टिफिकेट जारी करने के लिए दो विकल्प रखे गए है। पहला विकल्प जिन कर्मचारियों की चुनाव ड्यूटी लगी है ,वे स्वयं तहसील कार्यालय जाकर यह प्रमाण पत्र हासिल कर सकते है। दूसरा विकल्प संबंधित कर्मचारी के विभाग प्रमुख के माध्यम से भेजा जाएगा। तीसरा विकल्प जिस दिन चुनाव ड्यूटी करने वाले कर्मचारी को मतदान सामग्री का वितरण किया जाएगा उस वक्त ईडीसी दिया जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned