Coal Crisis: कोयले की कमी पर बोले कोयला मंत्री- मुझे इसमें राजनीति नहीं करनी, जितनी जरूरत है हमने आज से ही उतनी सप्लाई दे दी

Coal Crisis: देश में कोयले की कमी से आए बिजली संकट की खबरों के बीच केंद्रीय कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी (Coal Minister Pralhad Joshi) बुधवार को बिलासपुर पहुंचे। उनके साथ कोल इंडिया के चेयरमैन प्रमोद अग्रवाल भी आए हैं।

By: Ashish Gupta

Updated: 13 Oct 2021, 11:38 PM IST

बिलासपुर. Coal Crisis: देश में कोयले की कमी से आए बिजली संकट की खबरों के बीच केंद्रीय कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी (Coal Minister Pralhad Joshi) बुधवार को बिलासपुर पहुंचे। उनके साथ कोल इंडिया के चेयरमैन प्रमोद अग्रवाल भी आए हैं। दोनों एयरपोर्ट से सड़क मार्ग से कोरबा चले गए।

इसके पूर्व यहां चकरभाठा एयरपोर्ट पर उन्होंने कहा कि कोयले की कमी पर मुझे राजनीति नहीं करनी है। अभी मुझे तो जो टोटल रिक्वायरमेंट है जितना हम ऑलरेडी कर रहे हैं उसपर फोकस करना है। आज के दिन से हमने दो मिलियन टन कोयले की आपूर्ति शुरू कर दी है। इसके कारण थोड़ा-थोडा स्टाक बढ़ रहा है, मैं आश्वस्त करता हूं कि देश में बिजली उत्पादन के लिए आपूर्ति करने में कोई समस्या नहीं होगी।

कोयल मंत्री जोशी ने कहा कि मैं इधर माइंस वगैरह विजिट करता हूं, रिव्यू भी करता हूं, पहला उत्पादन में तेजी लाने के लिए एसईसीएल का विजिट कर रहा हूं। खदान की समीक्षा कर रहा हूं, मुझे इतना ही कहना है पावर मंत्रालय से जो रिक्वायरमेंट दिया गया था 1.9 मिलियन टन ऐसे डिमांड हमारे सामने था, 20 तारीख के बाद दो मिलियन टन का था, हमने आज से ही दो मिलियन टन की सप्लाई शुरू कर दी है।

41 खदान हैं प्रदेश में
छत्तीसगढ़ की 41 खदानों से कोल इंडिया की कंपनी एसईसीएल कोयला निकालती है। यह देश से निकलने वाले कोयले का 20 फीसदी है। 150 लाख मीट्रिक टन कोयले का सालाना उत्पादन होता है। कोरबा जिले की ही खदानों से एसईसीएल 130 लाख मीट्रिक टन कोयला निकालती है। कोल इंडिया के चेयरमैन प्रमोद अग्रवाल ने मीडिया से बात नहीं की।

इस समय तो 1.1 मिलियन टन की है जरूरत
इस समय देश में डिमांड बढ़ गई है और बारिश के कारण खदानों से कोयला निकालने में परेशानी हो रही थी, इसलिए ऐसी स्थिति थी, लेकिन अब हालात पूरी तरह नियंत्रण में हैं। उन्होंने कहा कि इस समय बिजली कंपनियों की डिमांड 1.1 मिलियन टन है, लेकिन हमने आज की तारीख में ही 2 मिलियन टन का प्रोडक्शन करने लगे हैं। केंद्रीय कोयला मंत्री प्रहलाद जोशी साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड एसईसीएल के मेगा प्रोजेक्ट दीपका, गेवरा व कुसमुंडा खदान का दौरा के लिए निकल गए।

नहीं मिला हेलीकॉटर
केंद्रीय मंत्री को हेलीकाप्टर से बिलासपुर से कोरबा जाना था लेकिन उनको हेलीकाप्टर नहीं मिल पाया। इसलिए उनको सड़क के रास्ते से कोरबा जाना पड़ा। जिसके कारण उनका शेड्यूल दो ढ़ाई घंटा लेट हो गया। बताया जाता है हेलीकाप्टर से आते तो 3 बजे बिलासपुर से रांची लौट जाते।

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ के CM ने संघ को लेकर दिया विवादित बयान, नक्सलियों से की RSS की तुलना

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned