खुद की जमीन पर कॉम्प्लेक्स, और ट्रांसफार्मर सरकारी भूमि पर

कॉम्प्लेक्स और अस्पताल के लिए लगाने वाले ट्रांसफार्मर को बिजली विभाग द्वारा सरकारी जमीन पर लगाया जा रहा है।

By: Amil Shrivas

Published: 15 Jan 2018, 12:30 PM IST

बिलासपुर . कॉम्प्लेक्स और अस्पताल के लिए लगाने वाले ट्रांसफार्मर को बिजली विभाग द्वारा सरकारी जमीन पर लगाया जा रहा है। सरकारी जमीन पर ट्रांसफार्मर लगाने के लिए नगर निगम से अनुमति भी नहीं ली जाती है। जनकार्य व भवन शाखा के अधिकारी को इसकी जानकारी होने के बाद भी इस रोक नहीं लगाई जा रही। वहीं सड़क व नालियों के किनारे ट्रांसफार्मर होने के कारण अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। निजी कॉम्प्प्लेक्स और अस्पताल के लिए ट्रांसफार्मर की अनुमति ली जाती है। लेकिन बिजली विभाग के अधिकारियों से साठगांठ कर कॉम्प्प्लेक्स या अस्पताल वालों की जमीन पर ट्रांसफार्मर लगाने के बजाय सरकारी जमीन पर ट्रांसफार्मर लगा दिए गए हैं। अधिकांश जगहों पर सड़क किनारे तो कहीं नाली के ऊपर ट्रासफार्मर लगाए गए हैं। ट्रंासफार्मर लगाने के दौरान नगर निगम के अधिकारियों से अनुमति भी नहीं ली जाती है। जिसका खामिया यातायात बाधित होने पर भुगतना पड़ता है। बताया जाता है कि बिजली विभाग द्वारा दो बार सर्वे किया गया, लेकिन दोनों बार सर्वे अधूरा रहा। बिजली विभाग के अनुसार शहर में लगभग 250 ट्रांसफार्मर हैं। इसमें से लगभग 53 ट्रांसफार्मर ऐसे हैं, जिन्हे सड़क के ऊपर लगा दिया गया है। सभी ट्रांसफार्मर निजी जमीन में होना था।

क्या हंै नियम
बिजली विभाग के एक अधिकारी के अनुसार निजी काम्पलेक्स व अस्पताल वालों को ट्रांसफार्मर अपने निजी जमीन में लगवाने चाहिए, लेकिन वे लोग ट्रांसफार्मर के लिए सरकारी जमीन को चयनित करते हैं। इसमें बिजली विभाग के अफसरों की मिलीभगत होने के कारण सरकारी जमीन पर ट्रांसफार्मर लगा लिया जाता है।

यहां हो रहा दुरुपयोग
सिरगिट्टी औद्योगिक क्षेत्र, वन विभाग के पास, नेहरू नगर, सरकंडा कपिल नगर, जबड़ापारा, अशोक नगर सहित अन्य जगहों पर ट्रांसफार्मर लगाए गए हंै।

निजी काम्पलेक्स व अस्पताल के लिए ट्रांसफार्मर उनकी जमीन पर ही लगता है। सरकारी जमीन पर लगाने की शिकायत मेरे पास नहीं आई है।
केलाश नारनवरे, ईडी बिजली विभाग

अधिकांश जगहों पर निजी काम्पलेक्स के ट्रांसफार्मर को सरकारी जमीन पर लगा दिया गया है। जिससे अनेक परेशानियां होती है।
सुब्रत कर, प्रभारी, प्रकाश विभाग, नगर निगम

Amil Shrivas
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned