बजट भाषण में मेयर ने पूर्व सरकार का किया आभार तो उबल उठा सदन, विपक्ष ने घेरा तो मेयर चले गए बाहर, बमुश्किल बजट पास

नगर निगम : बजट पर नहीं हो सकी चर्चा, छाया रहा आवास आबंटन में भ्रष्टाचार और मच्छरों के प्रकोप का मामला

By: BRIJESH YADAV

Updated: 03 Mar 2019, 12:27 PM IST

बिलासपुर. सत्ता परिवर्तन के बाद शनिवार को नगर निगम के सदन का माहौल बदला-बदला रहा। परिसीमन में गड़बड़ी और मच्छरों के बढ़ते प्रकोप के मुद्दों के बीच महापौर किशोर राय ने सदन में अपने पांच वर्ष के कार्यकाल का अंतिम बजट 7 अरब 67 करोड़ का पेश किया। बजट अभिभाषण भी पढ़ा। हंगामा तब हुआ जब उन्होंने अभिभाषण के अंत में बजट में प्रस्तावित योजनाओं को संपन्न कराने पूर्व मुख्यमंत्री और पूर्व मंत्री का अभार प्रकट किया। नेता प्रतिपक्ष इस पर घोर आपत्ति जताते हुए मंच की ओर बढ़े और मेयर को घेर लिया। सभापति पूछते रहे कि बजट पर चर्चा चाहते हैं या नहीं। कांग्रेस पार्षद दल ने वोटिंग कराने की मांग की हंगामा जारी रखा। मौका पाकर मेयर सदन से बर्हिगमन कर गए। इसके बाद कांग्रेस पार्षदों ने सभापति को घेरकर नारेबाजी की और आरोप लगाया कि सत्ताधारी दल के पार्षद संख्या बल में कम थे, इसलिए वोटिंग नहीं कराई।
शनिवार को 55 मिनट विलंब से 11.55 बजे जैसे ही सदन की कार्रवाई शुरू हुई नेता प्रतिपक्ष शेख नजीरूद्दीन ने वार्ड परिसीमन में गड़बडिय़ों को लेकर अतिरिक्त प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा कि घर बैठकर परिसीमन किया गया है। जब वार्ड 66 ही हैं तो परिसीमन की आवश्यकता क्यों, उन्होंने भाजपा पार्षदों से भी सहमति मांगी और परिसीमन को रद्द करने की मांग की। मेयर किशोर राय ने भी इसे सहमति देते हुए अंतिम प्रकाशन के पहले सभी पार्षदों से सुझाव लेकर इसे शासन को भेजने की बात कही। तो पार्षद शहजादी कुरैशी ने घर बैठकर परिसीमन किया है।
इस चर्चा के बीच वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए मेयर ने सदन में 7 अरब 67 करोड़ 22 लाख 78 हजार का बजट प्रस्तुत किया।
पुरानी योजनाओं के लिए भी प्रावधान
सरोवर धरोहर योजना के तहत जतिया तालाब के सौंदर्यीकरण के लिए पूर्व में स्वीकृत 310.06 लाख के चल रहे कार्य के साथ एसटीपी के लिए 187.76 लाख का अतिरिक्त प्रावधान कर निविदा होगी। सके अलावा ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के तहत आगामी माह से कछार में कचरे से खाद और आरडीएफ का निर्माण शुरू कराने, दिल्ली के प्रगति मैदान के तर्ज पर 10 करोउ़ 28 लाख की लागत से विकसित कराए जा रहे सीपत रोड साइंस कॉलेज मैदान को खेल गतिविधियों और बड़े आयोजनों के लिए इस साल लोकार्पित कराने, 6 करोड़ 13 लाख की लागत से सरकंडा नूतन चौक पर निर्माणाधीन सेंट्रल लाइब्रेरी भवन का निर्माण पूर्ण करा इस वर्ष लोकार्पित कराने, आईएचएसडीपी योजना के तहत 6612 आवासों में से शेष 432 आवासों का निर्माण कार्य प्रगति पर होने, 11 साल से चल रही सीवरेज परियोजना के शेष 39 में से 24 स्थान पर कार्य पूर्ण करने और दिसंबर 2019 तक कार्य पूर्ण कराने। 301.60 करोड़ के अमृत मिशन के तहत दो चरण में 35 फीसदी कार्य पूर्ण होने और शेष राशि से 3 उद्यानों का विकास कराने, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 5785 आवासों के लिए निविदा आमंत्रित करने। व्यक्तिगत आवास मोर जमीन मोर मकान के 1948 आवासों में से 443 आवासों का निर्माण पूर्ण होने की जानकारी दी गई। वित्तीय वर्ष 2019-20 के प्रस्तुत बजट में अनुमानित आय 7 अरब 67 करोड़ 22 लाख और 6 अरब 20 करोड़ 95 लाख का प्रावधान किया गया है।
इन प्रस्तावों को दी गई मंजूरी
सदन में 39 प्रस्ताव रखे गए, जिनमें से 32 प्रस्ताव पेंशन और कल्याणकारी योजनाओं के हैं। 33 वें प्रस्ताव में स्मार्ट रोड मिट्टी तेल गली का नामकरण पद्मश्री स्व पंडित श्यामलाल चतुर्वेदी पर कर उनकी प्रतिमा स्थापित करने, 34 वें प्रस्ताव में सत्यम चौक का नामकरण शहीद विनोद चौबे के नाम पर कर उनकी प्रतिमा स्थापित करने, 35 वें नूतन चौक से मोपका चौक तक एसईसीएल के सहयोग से कराई गई प्रकाश व्यवस्था के आधिक्य की राशि 77 लाख 6 हजार 821 रुपए एसईसीएल से मांगने और 36 वां तथा 37 वां प्रस्ताव राजकिशोर नगर व्यवसायिक परिसर के दुकानों के आबंटन का रहा। कांग्रेस पार्षद तैयब हुसैन ने पूछा कि 5 साल बाद एसईसीएल से पैसा मांगने की आवश्यकता क्यों, क्या अफसर इंजीनियर सो रहे थे, उन्होंने निगम के काम में कसावट लाने की बात कही मेयर ने स्वीकार किया। वहीं राजकिशोर नगर के दुकानों के लिए कहा कि निगम के व्यवसायिक परिसर की दुकानों में आज तक ऐसा नहीं हुआ दुकान लेने के लिए भीड़ उमड़ती है पर यहां की दुकानें 9 साल बाद भी नहीं बिकी ऐसे में कैसे निगम की आय बढ़ेगी प्रिमियम को कम करें। मेयर ने कहा गाइडलाइन से बाहर नहीं जा सकते पर सुझाव शासन को भेजेंगे।
रुपया आएगा

विवरण प्राप्त राशि (लाख में)
संपत्तिकर व राजस्व वसूली 4085.00
चुंगी क्षतिपूर्ति, मुद्रांक बार लायसेंस व अन्य 8323.06
दुकान किराया एवं अन्य 1816.20
बैंक ब्याज 500.00
अधोसंरचना एवं अन्य अनुदान 41488.68
निगम की संपत्ति विक्रय से 1715.50
कटौतियों व समायोजन 4166.74
रुपया जाएगा
विवरण व्यय राशि (लाख में)
आवास योजना 7573.26
सीवरेज परियोजना 6500.00
अधोसंरचना विकास 9863.20
केंद्र व राज्य प्रवर्तित योजनाएं 23284.50
वेतन व सामान्य प्रशासन व्यय 2154.00
वेतन, सफाई, ठोस अपशिष्ट, स्वीपिंग 5325.00
वेतन, पेयजल व्यवस्था, पाइप लाइन 1457.72
वेतन व स्ट्रीट लाइट 1000.00
शिक्षा 875.00
अन्य समायोजन, कटौतियां 4062.00


मल्टीलेवल पार्किंग
पुराना बस स्टैंड में 72 वाहनों के लिए 4 लेयर मल्टी लेबल पार्र्किंग का निर्माण कराने के लिए शासन से स्वीकृत 12 करोड़ 17 लाख की राशि से निविदा आमंत्रित करने की कार्यवाही होगी।
सभागृह के लिए शासन से अनुदान लेने
निगम टाउन हाल के पीछे भूखंड पर बैठक के लिए सर्वसुविधायुक्त सभागृह निर्माण कराने प्रथम चरण के निर्माण शासन से 5 करोड़ अनुदान लेंगे।
मिनी स्टेडियम
शहर के बीच गवर्नमेंट स्कूल मैदान को मिनी स्टेडियम के रूप में विकसित कर खिलाडिय़ों को नया मैदान मिलेगा।
महिलाओं के लिए प्रशिक्षण केंद्र
महिलाओं को रोजगारोन्मुखी प्रशिक्षण देकर उन्हें आत्म निर्भर बनाने के लिए अनुदान प्राप्त कर प्रशिक्षण केंद्र का निर्माण कराया जाएगा। सिलाई, कढाई और अन्य विद्याओं का प्रशिक्षण देंगे।
निगम के वाहनों में जीआईएस टैगिंग
निगम के वाहनों के दुरुपयोग और डीजल, पेट्रोल की खपत को नियंत्रित करने के लिए जीआईस टेगिंग सिस्टम से जुड़ेंगे।
यातायात व्यवस्था
शहर में यातायात एवं पार्किंग की व्यवस्था के लिए आमजन से मिले सुझाव के तहत कार्ययोजना तय कर मुख्य मार्ग से संडे बाजार को अन्यत्र विस्थापित करने और दुकान के बाहर सामान रखने वाले कारोबारियों पर कड़ाई तथा रिव्हर व्यू और अन्य चौक -चौराहों पर वेंडरों को जगह उपलब्ध करायी जाएगी।
अधोसंरचना मद
सड़़कों के संधारण, डामरीकरण, डे्रनेज प्लान, वार्डों में सीसीरोड, नाली निर्माण, तालाबों और चौक-चौराहों के सौंदर्यीकरण के लिए 12204.18 लाख का प्रावधान इस मद से किया गया है। पार्षदों की मां गपर वार्डों के लिए 30 करोड़ की प्रावधान किया गया है।

Show More
BRIJESH YADAV Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned