उपचार में हो गए 2 लाख से अधिक खर्च, आरक्षक की पत्नी ने एसपी से लगाई मदद की गुहार

- कोरोना महामारी से संक्रमित होने के बाद से ही आरक्षक की पत्नी का लगातार स्वस्थ्य खराब हो रहा है।

- पुलिस वेलफेयर फंड से उपचार कराने पीड़ित पुलिस परिवार ने पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपा है।

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 18 Dec 2020, 07:04 PM IST

बिलासपुर. कोरोना महामारी से संक्रमित होने के बाद से ही आरक्षक की पत्नी का लगातार स्वस्थ्य खराब हो रहा है। उपचार में लगभग ढाई लाख से अधिक की रकम खर्च हो चुका है, बावजूद इसके सुधार काफी कम है। पुलिस वेलफेयर फंड से उपचार कराने पीड़ित पुलिस परिवार ने पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपा है। पीड़ित परिवार का कहना है कि जितनी कमाई है वह लोन में ही कट जाएगी तो खाएंगे क्या। हर माह तनख्वाह से जो राशि पुलिस सहायता कोष के लिए काटी जाती है उससे उपचार कराया जाए लेकिन पुलिस के आलाधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं।

पीड़ित पुष्पा सिंह ने बताया कि उनके पति आरक्षक विकास कुमार सरकंडा थाने में 112 में पदस्थ हैं। तीन माह पूर्व उन्हें कोरोना संक्रमण हो गया था। लगातार उपचार के कराने के बाद कभी उसकी हालत कभी अच्छी रहती है तो कभी बिगड़ जाती है। कोरोना संक्रमण के चलते अब उन्हें चेस्ट में निमोनिया की परेशानी हो रही है। बीमारी का उपचार कराने के लिए उन्होंने बैंक से 1 लाख का लोन लेकर अपना उपचार कराया था, जिसकी किस्त हर माह लगभग ९ हजार रुपए कट रही है। वहीं उनकी हालत में जरा भी सुधार नहीं हो रहा है। वर्तमान में आरक्षक की पत्नी श्रीराम केयर हॉस्पिटल में दाखिल हैं उनका उपचार चल रहा है।

उपचार में दो लाख रुपए खर्च हो चुके हैं लेकिन आराम नहीं मिल पा रहा है। पीड़ित परिवार का कहना है कि रुपए के अभाव में अब वह अपना उपचार प्राइवेट हॉस्पिटल में नहीं करा पा रहे हैं। उपचार के लिए पीड़ित आरक्षक विकास सिंह ने पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल को आवेदन किया है कि उनकी पत्नी का उपचार हर माह वेतन से कटने वाले पुलिस सहायता कोष से कराया जाए लेकिन अब तक किसी प्रकार का जवाब नहीं मिला है इससे पीड़ित परिवार काफी परेशान है।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned