मरवाही उपचुनाव: पंचायत सम्मेलन में कोरोना विस्फोट से राजनीतिक दलों में मची खलबली

मरवाही के पंचायत सम्मेलन में शामिल होने वाले कार्यकर्ताओं की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव (Coronavirus Bilaspur Update) आने से राजनीतिक दलों में खलबली मच गई है।

By: Ashish Gupta

Published: 05 Sep 2020, 09:00 AM IST

बिलासपुर. मरवाही के पंचायत सम्मेलन में शामिल होने वाले कार्यकर्ताओं की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव (Coronavirus Bilaspur Update) आने से राजनीतिक दलों में खलबली मच गई है। किसी भी दल के कार्यकर्ता तत्काल में बड़े कार्यक्रम में सहभागिता निभाने को तैयार नहीं हैं। हालांकि वे सीधे तौर पर मना नहीं कर रहे हैं, पर तिथि आगे बढ़ाने के उनके सुझाव से यह स्पष्ट संकेत मिल रहा है कि कोरोना के कहर के बीच अभी फिलहाल बड़े आयोजन की तिथि टाल दी जाए। तीन दिन में 54 लोग कोरोना पॉजिटिव आ चुके हैं।

30 अगस्त को हुआ था मरवाही पंचायत सम्मेलन
कांग्रेस ने 30 अगस्त को मरवाही पंचायत सम्मेलन का आयोजन किया था, जिसमें टारगेट व उम्मीद से अधिक भीड़ जुट गई। यह देख आयोजकों की आंखों में चमक आ गई। कोरोना काल में आयोजित कार्यक्रम में सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ीं, जिसका परिणाम अब सामने आ रहा है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े बताते हैं कि पंचायत सम्मेलन के पहले पेंड्रा-गौरेला-मरवाही जिले में मात्र 57 लोग कोरोना पॉजिटिव थे।

पंचायत सम्मेलन में शामिल होने वाले पंच-सरपंच और ग्रामीणों ने जब 1 सितंबर को कोरोना जांच कराई तो 20 लोग संक्रमित मिले। इनमें ग्राम गाजन टंगियामार के 15 लोग व मरवाही के 4 और गौरेला का एक व्यक्ति शामिल है। 2 सितंबर को फिर 20 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। 3 सितंबर यानी कि गुरुवार को 14 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। स्वास्थ्य विभाग की मानें तो सम्मेलन में शामिल होने वाले करीब 400 लोगों की जांच की गई है, जिनमें से आधे की रिपोर्ट आनी बाकी है। बता दें कि सम्मेलन में ढाई हजार से अधिक लोग जुटे थे, जिनका पता लगाने में स्वास्थ्य विभाग के पसीने छूट रहे हैं।

कोरोना का डर सताने लगा है अब राजनीतिक दलों को
पंचायत सम्मेलन में कोरोना विस्फोट की जानकारी सार्वजनिक होने से कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी पाॢटयों के रणनीतिकारों और कार्यकर्ताओं में एका नहीं बन पा रहा है। दरअसल, उन्हें भी कोरोना का डर सताने लगा है। भाजपा ने तो पहले से प्रस्तावित सभा-समारोह को स्थगित कर दिया है। केवल बैठक बुलाकर कार्यकर्ताओं तक अपने संदेश पहुंचा रही है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे की भी सभा बुलाने की तैयारी नहीं दिखाई दे रही है।

कांग्रेस की तरफ से इसी हफ्ते वन प्रबंधन के अलावा अन्य सहकारी समितियों का बड़ा सम्मेलन बुलाने की सुगबुगाहट जरूर सुनाई दी थी, जिसमें मरवाही उपचुनाव प्रभारी व राजस्व मंत्री जयभसह अग्रवाल बतौर अतिथि शिरकत करते, लेकिन पंचायत सम्मेलन की कोरोना रिपोर्ट ने कांग्रेसियों को भी सोचने पर मजबूर कर दिया है।

हालांकि अधिकृत तौर पर वन समितियों का सम्मेलन स्थगित तो नहीं किया गया है, लेकिन कांग्रेस की राजनीति से जुड़े सूत्र की मानें तो कांग्रेस कार्यकर्ता तत्काल में दूसरे किसी बड़े सम्मेलन में भीड़ जुटाने को तैयार नहीं हैं। अन्य नेता भी इस सम्मेलन के लिए समय देने में आनाकानी कर रहे हैं। इससे कांग्रेस के रणनीतिकारों की नींदें उड़ गई हैं। बहरहाल, यह तो समय बताएगा कि कांग्रेस यह सम्मेलन कराती है या नहीं।

पूर्व मंत्री अमर दूसरी बार 9 मरवाही के कार्यकर्ताओं की लेंगे बैठक
भाजपा से मरवाही उपचुनाव प्रभारी अमर अग्रवाल 9 सितंबर को मरवाही में डेरा डालेंगे। इस दिन कार्यकर्ताओं की मैराथन बैठक लेते हुए जनता के झुकाव के बारे में जानकारी लेंगे। जनता की सहानुभूति कैसे ली जाए, इस बारे में कार्यकर्ताओं को टिप्स भी देंगे। बैठक की तैयारी को लेकर गुरुवार को भाजपा जिलाध्यक्ष विष्णु अग्रवाल ने मरवाही का दौरा किया। उन्होंने कार्यकर्ताओं को अमर अग्रवाल द्वारा ली जाने वाली बैठक की जानकारी दी।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned