2300 टीबी मरीजों की कोरोना जांच शुरू, मास्क पहनने से टीबी के प्रसार के प्रभाव की होगी जांच

जो लोग आरटीपीसीआर से निगेटिव आए हैं और उन्हें सर्दी-खासी और बुखार आ रहा है तो उनकी सीबी नॉट जांच भी होगी ताकि कोरोना के साथ टीवी के पेशेंट की भी पहचान हो सके क्योंकि कोरोना की तरह टीबी का संक्रमण भी ड्रॉपलेट्स से ही फैलता है, डाक्टरों का मानना है कि इस वजह से टीबी के फैलाव में भी कमी आ सकती है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 20 Nov 2020, 10:05 PM IST

बिलासपुर. टीबी रोग विभाग को निर्देश दिया गया था कि टीबी के मरीजों पर कोरोना का कितना असर पड़ा है। इसके लिए जिले के 2300 टीबी पेशेंट की कोरोना जांच के आदेश सीएमएचओ ने टीबी नियंत्रण विभाग के नोडल अधिकारी को दिए हैं। लेकिन नोडल अधिकारी द्वारा इसकी जांच 15 दिन बाद शुरू की गई है।

टीबी रोग विभाग के प्रभारी डॉ. नगीना टंडन का कहना है कि टीम सर्वे कर रही है एक सप्ताह के अन्दर रिपोर्ट सौंपेगी। इसके बाद ही पता चल पाएगा कि टीबी के मरीजों पर कोरोना का कितना असर हुआ है। उन्होंने बताया कि टीबी के स्टाफ कोरोना मे ड्यूटी कर रहे थे जिसके कारण सर्वे देर से शुरू की गई है।

'कमजोरी’ भी कोरोना का लक्षण, 7 दिन में 50 लोगों की मौत इसी वजह से

जो लोग आरटीपीसीआर से निगेटिव आए हैं और उन्हें सर्दी-खासी और बुखार आ रहा है तो उनकी सीबी नॉट जांच भी होगी ताकि कोरोना के साथ टीवी के पेशेंट की भी पहचान हो सके क्योंकि कोरोना की तरह टीबी का संक्रमण भी ड्रॉपलेट्स से ही फैलता है, डाक्टरों का मानना है कि इस वजह से टीबी के फैलाव में भी कमी आ सकती है। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग ने हाई रिस्क श्रेणी बनाकर इसके दायरे में आने वाले मरीजों की मॉनीटिरिंग का निर्णय लिया है।

मास्क का कितना असर

क्या मास्क पहनने से प्रदेश में टीबी के संक्रमण का फैलाव भी कम हो रहा है? अब छत्तीसगढ़ का क्षयरोग नियंत्रण विभाग इसका व्यापक स्टडी करेगा। कोरोना की तरह टीबी का संक्रमण भी ड्रॉपलेट्स से ही फैलता है। मास्क पहनने से कोरोना से बचाव तो हो ही रहा है, डॉक्टरों का मानना है कि इस वजह से टीबी के फैलाव में भी कमी आ सकती है। मास्क और फिजिकल दूरी से अगर कोरोना संक्रमण रुका है, तो इस बात की पूरी संभावना है कि यही चीजें टीबी को भी रोक सकती हैं।

प्रदेशव्यापारी सर्वे

हेल्थ विभाग टीबी मरीजों की कोरोना जांच के लिए एक बार फिर मुहिम शुरू कर दिया है। इसमें पड़ताल होगी कि टीबी मरीजों में संक्रमण किस तरह फैल रहा है। यही नहीं, लॉकडाउन और कोरोना से इस पूरे साल में टीबी मरीजों की पहचान के लिए चलाए जाने वाले सर्वे अभियान में रुकावट आई है। पूरे प्रदेश में टीबी मरीजों को ढूंढने के लिए भी प्रदेशव्यापी सर्वे किया जा रहा है।

टीबी रोग के मरीजों को कोरोना का कितना असर हुआ है । टीम द्वारा सर्वे शुरू कर दिया गया है। रिपोर्ट सात दिन के अन्दर देने का निर्देश दिया गया है।

-डॉ. प्रमोद महाजन, सीएमएचओ

ये भी पढ़ें: दिवाली खत्म होते ही फिर से बढ़ने लगे कोरोना मरीज

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned