कोरोना वायरस: रतनपुर, मल्हार में मेला नहीं लगेगा, हॉस्टलों को खाली करने के आदेश

जिले में तत्काल प्रभाव से आयोजित होने वाले सभी प्रकार के शासकीय एवं गैर शासकीय कार्यक्रमों का आयोजन न किया जाए। पंचायतों की बैठकें ,प्रशिक्षण आदि स्थगित कर दिए गए है।

By: GANESH VISHWAKARMA

Published: 19 Mar 2020, 09:45 PM IST

बिलासपुर . जिले में तत्काल प्रभाव से आयोजित होने वाले सभी प्रकार के शासकीय एवं गैर शासकीय कार्यक्रमों का आयोजन न किया जाए। पंचायतों की बैठकें ,प्रशिक्षण आदि स्थगित कर दिए गए है। कलेक्टर डॉ. संजय अलंग ने अपील की है कि सभी जिला एवं जनपद पंचायत सदस्यों को उनके प्रभार क्षेत्र में समस्त प्रकार के बैठक, भेंट,सामूहिक चर्चाए प्रशिक्षण आदि ऐसे कार्यक्रम जिनमें नागरिक एकत्रित होते हैं। उनको आगामी कुछ दिवसों के लिए निरस्त करने का अनुरोध किया गया है।

रतनपुर एवं मल्हार में नवरात्रि पर्व पर मेला स्थगित
कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने हेतु आगामी 25 मार्च से 2 अप्रैल तक चैत्र नवरात्रि पर्व में मां महामाया मंदिर रतनपुर और मां डिडिनेश्वरी मंदिर मल्हार में आयोजित मेले को स्थगित कर दिया गया है। सभी हॉटल,लॉज, ऑटो चालक, प्रसाद विक्रेता एवं धर्मावलम्बियों से जिला प्रशासन द्वारा अपील की गई है कि नवरात्रि मेला के अलावा भीड़ भाड़ इलाकों ं में जाने से बचें और अपने घरों में ही रहकर उपासना करें।
जिला दण्डाधिकारी ने अनुविभागीय दण्डाधिकारी मस्तूरी एवं कोटा को निर्देशित किया गया है कि मंदिर परिसरों में किसी भी प्रकार का आयोजन नहीं किया जाए। परिसर में हॉट बाजार नहीं लगाया जाए और न ही भीड़ एकत्रित हो। मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को मेला स्थगन की सूचना नही मिलने के कारण परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिये सभी ग्राम पंचायतों, नगरीय क्षेत्रों, रेल्वे स्टेशन , बस स्टॉफ आदि में व्यापक प्रचार.प्रसार करने कहा गया है।

हॉस्टल खाली करने के आदेश
कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए जिले में संचालित सभी अनुसूचित जाति, जनजाति, बालक, बालिका छात्रावास एवं आश्रमों में निवासरत छात्र- छात्राओं का 31 मार्च तक के लिए अवकाश घोषित किया गया है और सभी छात्रावास,आश्रमों को तत्काल बंद करने का निर्देश दिया गया है। आदिवासी विकास विभाग के सहायक आयुक्त सीएल जायसवाल ने इन निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने हेतु सभी छात्रावास,आश्रमों के अधीक्षकों और प्रयास आवासीय विद्यालय छात्रावास रमतला के प्राचार्य को निर्देशित किया है।


श्रमिकों के लाने-ले जाने के लिए अनुमति जरूरी
कोरोना वायरस से संक्रमण के विस्तार से बचाव हेतु श्रम विभाग द्वारा निर्देशित किया गया है कि कोई भी ठेकेदार,सट्टेदार या एजेंट बिना जिला कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी के संज्ञान में लाए हुए श्रमिकों को अन्य राज्यों में लेकर नहीं जाएंगे एवं अन्य प्रदेशों से जिले में लेकर नहीं आएंगे । यह कार्यवाही आगामी 30 अप्रैल तक सुनिश्चित करने कहा गया है।
कोरोना वायरस के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए जिले के बाहर जाने वाले प्रवासी श्रमिकों तथा राज्य में प्रदेश के बाहर से आने वाले श्रमिकों पर निगरानी रखा जाना आवश्यक है । जिससे संक्रमण के विस्तार को रोका जा सके। इस स्थिति को ध्यान में रखते हुए श्रमायुक्त एवं सचिव सोनमणी बोरा द्वारा इस संबंध में कलेक्टर एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को निर्देश जारी किया गया है।

वापस आने वाले श्रमिकों की सूचना दें
कलेक्टर डॉ. संजय अलंग द्वारा कोरोना वायरस के प्रभाव को देखते हुए निर्देशित किया है कि प्रत्येक ग्राम पंचायत में पलायन पंजी संधारण किया जाना आवश्यक है। इस संबंध में उन्होंने जिले के सभी जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि विगत 15 दिनों के भीतर पलायन से गावं वापस आने वाले परिवारों की जानकारी ग्राम पंचायतों में संधारित किये जाने वाले पलायन पंजी में दर्ज कराएं।
इसके साथ ही ग्राम पंचायत के सचिवों को निर्देशित किया जाए कि वे पंचायत क्षेत्र की सतत् निगरानी करें तथा सतर्कता बरतें। पलायन से वापस आने वाले परिवारों में यदि सर्दी , खांसी, निमोनिया, सिरदर्द , बुखार आदि के लक्षण पाये जाते हैं तो इसकी तत्काल सूचना संबंधित मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं स्वास्थ्य विभाग को दें तथा जनपद पंचायत के माध्यम से कलेक्टर को भी उसी समय अनिवार्य रूप से अवगत करायें।

GANESH VISHWAKARMA Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned