डीन व सीएमएचओ ने कहा प्रशस्ति पत्र के लिए हमने किसी के नाम की अनुशंसा नहीं की

- चारों ब्लाक अध्यक्षों ने की कोरोना वारियर्स (corona warriors award) का सम्मान करने की मांग .

By: Bhupesh Tripathi

Published: 16 Dec 2020, 12:24 AM IST

बिलासपुर. कोरोना काल के दौरान (corona warriors award) अपनी सेवा देने वाले कोरोना वारियर्स के साथ भेदभाव तरीके से हुए सम्मान को लेकर स्वास्थ्य विभाग में बवाल मचा है। इस मामले में सीएमएचओ डॉ. प्रमोद महाजन ने पत्रिका से बातचीत में कहा जिन अधिकारियों को कोरोना वारियर्स का सम्मान दिया गया उनकी अनुसंशा मैंने नहीं की है और न ही मुझसे इस मामले में चर्चा की गई है।

इस मामले में मुझसे चर्चा की गई होती तो सबसे पहले उन लोगों का नाम भेजता जो अपने परिवार की चिंता छोड़कर सुबह ९ बजे से रात्रि 2 बजे तक ड्यूटी कर रहे थे जिसमें लैब टेक्नीशियन, एम्बुलेंस चालक, सैंपल लेने के लिए दूरदराज रात तक पहुंचे वाले कर्मचारी मेरी टीम में चपरासी से लेकर चौकीदार ने भी इस संकट के घड़ी में अहम भूमिका निभाई है उनका सम्मान करता या फिर नाम देता। इस मामले में सिम्स की डीन डॉ. तृप्ति नागरिया पत्रिका को बताया कि सिम्स के ऑडिटोरियम में जो कार्यक्रम हुआ उसमें सिम्स के डॉक्टर या किसी अधिकारी के सम्मान के लिए मैंने अनुशंसा नहीं की है। स्वास्थ्य कर्मचारी संघ की ओर से कोरोना वार्ड में डयूटी करने वाले कर्मचारियों का भी सम्मान करने के लिए पत्र लिखा है उस विचार किया जा रहा है। वहीं इस मामले में तखतपुर, बिल्हा, मस्तूरी और कोटा ब्लाक के अध्यक्षों ने सीएमएचओ को पत्र लिखकर साही मायने में कोरोना में ड्यूटी करने वाले कर्मचारियों के सम्मान करने की मांग की है।

438 मितानिनों में 10 को ही मिला प्रशस्ति पत्र
सिम्स ऑडिटोरियम में स्वास्थ्य मंत्री के हाथों 438 मितानिनों को सम्मान पत्र देने के लिए बुलाया था। लेकिन सिर्फ 10 को प्रशस्ति पत्र दिया गया बाकि 428 मितानिनों को प्रशस्ति पत्र नहीं दिया गया जिसे लेकर मितानीन खासे नाराज हंै। बताया जाता है उन्होंने अपनी नाराजगी सीएमएचओ से जताई है। मितानिनों ने कहा है कि मई जून महीने के कड़ी धूप में एक एक घर सर्वे करते थे। तीन महीने से वेतन नहीं मिला है। सरकार द्वारा जोखिम भत्ता देने की बात कही गई थी उसे भी नहीं दिया गया है।

जिन अधिकारियों का सम्मान किया गया है। उनका नाम मेरी ओर से अनुशंसा नहीं की गई है। इस मामले को लेकर कर्मचारियों ने शिकायत की है।
डॉ. प्रमोद महाजन, सीएमएचओ बिलासपुर

अगर कोई अधिकारी या कर्मचारी अच्छा काम करता है। तो उसे प्रशस्ति पत्र के लिए अनुशंसा विभाग प्रमुख द्वारा किया जाता है। जिन डॉक्टर और अधिकारियों को प्रशस्ति पत्र मिला है। उसके लिए विभाग प्रमुख ने अनुशंसा नहीं की है।
- रविंद्र तिवारी प्रांतध्यक्ष प्रदेश कर्मचारी संघ।

सिम्स ऑडिटिरियम में जिन कोरोना वारियर्स का सम्मान हुआ है उसमें किसी के नाम की हमारे द्वारा अनुशंसा नहीं की गई है। जिनका सम्मान हुआ है वो सीएमएचओ कार्यलय की ओर से हुआ होगा।
- डॉ. तृप्ति नागरिया, डीन सिम्स।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned