प्रसूता से 20 हजार रु मांगने वाले डॉक्टर को क्लीनचिट, जांच समिति में रखे गए वही पुराने डॉक्टर

जिला अस्पताल: रिश्वत मांगने का दूसरा मामला आया

By: Amil Shrivas

Published: 29 Mar 2019, 06:13 PM IST

बिलासपुर. जिला अस्पताल के डाक्टर सीएम तिवारी को डिलवरी के लिए 20 हजार मांग करने के मामले में सिविल सर्जन ने बुधवार को क्लीनिचिट दी। वहीं गुरुवार को सीएम तिवारी द्वारा आपरेशन कर प्रसव करने के लिए रुपए की मांग की शिकायत पत्र कलेक्टर कार्यालय से सीएमएचओ के पास आया। सिविल सर्जन ने आनन फानन में तीन डाक्टरों की टीम गठित कर सात दिन के अन्दर जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने का निर्देश दिए हैं। जिला अस्पताल में डिलीवरी के लिए आने वाली प्रसूताओं से प्रसव व आपरेशन के नाम पर लगातार लूट खसोट की जा रही है। इसके बावजूद अस्पताल प्रशासन व जिला प्रशासन डाक्टरों पर लगाम नहीं कस पा रहे हैं। इसी माह 10 मार्च को सरकण्डा नूतन चौक में रहने वाले दिनेश श्रीवास अपनी पत्नी लक्ष्मीन बाई को डिलीवरी के लिए जिला अस्पताल लेकर पहुंचे थे। आरोप है कि इस दौरान डॉ. सीएम तिवारी ने महिला के पति से आपरेशन और डिलीवरी के लिए 20 हजार रुपए की मांगे।

ऐसे किया गया गोलमोल
डिलीवरी के लिए 20 हजार रुपए की मांग करने के मामले में सिविल सर्जन का कहना है कि जांच टीम ने रिपोर्ट दी है कि मरीज व उसके परिजन डाक्टर द्वारा पैसे मांगने की सबूत नहीं दे पाये। इसलिए इस मामले में डाक्टर को क्लीन चिट दी गई। जांच टीम ने मरीज के परिजन के शिकायत को दरकिनार कर दिया। उनका है कि डाक्टर ने रुपए की मांग की है, इसके लिए कोई गवाह खड़ा नहीं कर पाए।

क्लीन चिट देने वाले डॉक्टरों को जांच की जिम्मेदारी
सिविल सर्जन द्वारा बनाई गई जांच कमेटी में डॉक्टर अवधेश साय,मनोज जायसवाल, डॉक्टर के के जायसवाल को शामिल किया गया है। 10 मार्च को डॉ. सीएम तिवारी के खिलाफ मिली शिकायत की जांच करने के लिए उस समय के प्रभारी सिविल सर्जन के के जायसवाल ने डॉ. प्रमोद महाजन, डॉ. अवधेश राय, मनोज जायसवाल को जिम्मेदारी दी थी। इस टीम में जांच के लिए प्रमोद महाजन की जगह के के जायसवाल को शामिल किया गया है। डॉक्टर सीएम तिवारी को क्लीनचिट देने वाले डॉक्टर अवधेश राय, मनोज जायसवाल को फिर से जांच टीम में शामिल किया गया है।

जांच टीम ने मुझे जो रिपोर्ट सौंपी है उसमें लिखा है कि मरीज के परिजन डाक्टर द्वारा पैसा मांगने की सबूत नही दे पाए इसलिए क्लीनचिट दी गयी है। सीएम तिवारी के खिलाफ फिर से शिकायत मिली है। जांच के लिए तीन डाक्टरों की टीम बनाई गई है।
एसएस भाटिया, सिविल सर्जन, जिला अस्पताल

Amil Shrivas
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned