सर मेरी दोनों किडनी खराब है परिवार के पास ट्रान्सफर कर दीजिये, डीजीपी ने तुरंत वाट्सएप पर भेजा आदेश

आमतौर पर शिकायतों में ट्रांसफर, अनुकंपा नियुक्ति, आवास और अन्य समस्याएं शामिल हैं। कुछ दिनों पूर्व डीजीपी अवस्थी से बलरामपुर में पदस्थ महिला आरक्षक हेमलता साहू ने बेटे के कमजोर और सास के लकवाग्रस्त होने की जानकारी दी। साथ ही बताया कि ड्यूटी जाने पर उन्हें परिवार को समय दे पाना मुश्किल होता है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 26 Aug 2020, 10:41 AM IST

बिलासपुर. प्रदेश में पुलिस कर्मचारियों में मानसिक तनाव कम करने के लिए डीजीपी डीएम अवस्थी ने स्पंदन अभियान के तहत वाट्सएप नंबर जारी किया है। इस नंबर पर कर्मचारी डीजीपी से सीधे संवाद कर समस्याएं बता रहे हैं। प्रदेश के कर्मचारियों की समस्याओं का समाधान करते हुए डीजीपी कर्मचारियों को वाट्सएप नंबर पर समस्याओं के समाधान के बाद आदेश भी भेज रहे हैं।

आमतौर पर शिकायतों में ट्रांसफर, अनुकंपा नियुक्ति, आवास और अन्य समस्याएं शामिल हैं। कुछ दिनों पूर्व डीजीपी अवस्थी से बलरामपुर में पदस्थ महिला आरक्षक हेमलता साहू ने बेटे के कमजोर और सास के लकवाग्रस्त होने की जानकारी दी। साथ ही बताया कि ड्यूटी जाने पर उन्हें परिवार को समय दे पाना मुश्किल होता है। उनके पति सकरी बटालियन में पदस्थ हैं। उसने बिलासपुर में पोस्टिंग की मांग की। डीजीपी ने तत्काल हेमलता का ट्रांसफर आदेश उसके वाट्सएप नंबर पर भेजा और सामान पैक करने के निर्देश दिए।

इंजीनियर पत्नी की मांग पर किया स्थानांतरण

एएसआई रेडियो चुमेश कुमार साहू की पत्नी ने डीजीपी को बताया कि वह राजिम नगर पंचायत में इंजीनियर हैं। उनके पति कोरिया जिले में पदस्थ हैं। उनके साथ छोटी बच्ची साथ रहती है, जिसकी देखभाल करने और ड्यूटी करने में परेशानी हो रही है। पति का स्थानांतरण करने की मांग की। डीजीपी ने पत्नी की मांग को देखते डीजीपी ने चुमेश का तत्काल स्थानांतरण रायपुर जिले मेें कर दिया।

पति के साथ रहने की मांग पर किया ट्रांसफर

बिलासपुर में पदस्थ एसआई रूपा ठाकुर ने डीजीपी को बताया कि उनके पति और छोटी बच्ची रायगढ़ में रहते हैं। परिवार से दूर रहने के कारण उन्हें स्वास्थ्यगत परेशानियां हो रही हैं। रूपा ने रायगढ़ स्थानांतरित करने की मांग की। डीजीपी ने स्थानांतरण आदेश तत्काल जारी किया।

पत्नी की मांग पर पति का किया ट्रांसफर

बिलासपुर में रहने वाली उर्मिला ने डीजीपी अवस्थी को बताया कि उनके पति ओसन्त कुमार चन्द्रा पिछले 20 वर्षों से जशपुर में पदस्थ हैं। वे लगातार बिलासपुर स्थानांतरण के लिए आवेदन कर चुके हैं, लेकिन आवेदन पर अब तक विचार नहीं हुआ है। उन्हें बेटे का 11वीं कक्षा में एडमिशन कराना है। डीजपी ने तत्काल उर्मिला के पति का स्थानांतरण आदेश जारी किया।

अनुकंपा नियुक्ति का दिया आदेश

दुर्ग निवासी शुभांगनी सेंगर ने वीडियो कॉल के जरिए डीजीपी को बताया उनके पिता का मार्च महीने में निधन हो गया था। उसे अब तक अनुकंपा नियुक्ति नहीं मिली है। परिवार के भरण पोषण की जिम्मेदारी उसी के कंधों पर है। उसने दुर्ग जिले के आसपास क्षेत्र में नियुक्ति की मांग करते हुए कहा कि ड्यूटी करते हुए वह मां का ख्याल भी रख सकती है। डीजीपी अवस्थी ने शुभांगनी को बालोद जिले में पदस्थापना आदेश जारी कर जल्द ही नियुक्ति पत्र उनके घर भेजने आश्वासन दिया।

आरक्षक को मिला स्थानांतरण

बस्तर के पखनार में कैंप में पदस्थ आरक्षक अखिलेश यादव ने डीजीपी को बताया कि उनका घर राजनांदगांव में हैं। कुछ समय पूर्व उसके बच्चे निधन हो गया था तब से पत्नी मानसिक अवसाद में हैं। घर से दूर रहने के कारण वह पत्नी का उपचार नहीं करा पा रहे हैं। डीजीपी ने राजनांदगांव बटालियन कमांडेंट सूरज राम सलाम को काल कर अखिलेश का स्थानांतरण राजनांदगांव करने का आदेश दिया।

बीमार आरक्षक पहुंचा अपने घर

दंतेवाड़ा के पोटाली कैंप में पदस्थ सशस्त्र बल के आरक्षक केशव कुमार ने बताया कि उनकी दोनों किडनियां खराब हैं। गठियावात और मोतियाबिंद की भी बीमारी उसे हैं। उनका परिवार दुर्ग में है। घर से दूर रहने के कारण उनका स्वास्थ्य लगातार बिगड़ रहा है। उन्होंने दुर्ग में स्थानांतरित करने की मांग की। डीजीपी ने उनका तबादला आदेश जारी करने अधिकारियों को आदेश दिया।

पहले सूचना, फिर तय होती है वीडियो कॉलिंग

डीजीपी के वीडियो कॉलिंग के समस्याएं सुनने की व्यवस्था के लिए कर्मचारियों को वाट्सएप नंबर पर संपर्क करना पड़ता है। पीएचक्यू से एक दिन निर्धारित कर कर्मचारियों को संबंधित दिन और समय की जानकारी दी जाती है। उस दिन और समय के दौरान उनके पास पीएचक्यू से वाट्सएप नंबर पर वीडियो कॉल आता है। इसके बाद कर्मचारी अपनी समस्याओं से डीजीपी को अवगत कराते हैं।

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned