डायरिया का कहर, दर्राभाठा में 101 लोग पीडि़त, दूसरे क्षेत्र में भी मिल रहे मरीज, विभाग ने जारी किया अलर्ट

जिला अस्पताल और सिम्स का आईशुलेशन वार्ड पैक

By: Amil Shrivas

Published: 20 Jul 2018, 03:56 PM IST

बिलासपुर. एनटीपीसी द्वारा गोद लिए गए ग्राम दर्राभाठा में डायरिया का कहर थम नहीं ले रहा। यहां घर-घर में मरीज मिल रहे हैं। अब तक 101 मरीज पाए गए हैं, जिनका इलाज चल रहा है। हालात को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने यहां कैंप लगा रखा है। विभाग की टीम डोर-टू-डोर सर्वे कर रही है।

डायरिया की वजह दूषित पेयजल को बताया जा रहा है। इससे पीएचई ने यहां के कई नलों के पानी की जांच करवाई। दूषित पेयजल वाले 2 बोर व 3 हैंडपंपों को बंद कर दिया गया है। जिले के अन्य क्षेत्रों में भी डायरिया का प्रकोप है। इसे देखते हुए सीएमएचओ ने डॉक्म्टरों के लिए अलर्ट जारी किया है। मस्तूरी ब्लॉक के ग्राम दर्राभाठा में डायरिया का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। यहां तीन दिन में 101 ग्रामीण डायरिया से पीडि़त पाए गए। स्वास्थ्य विभाग द्वारा शिविर लगाकर इलाज किया जा रहा है, लेकिन प्रतिदिन मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। आनन फानन में पीएचई ने गांव के 2 बोर व 4 हैंडपंपों को बंद करा दिया है।

सफाई देते फिर रहे सीएमएचओ
सीएमएचओ डॉ. बीबी बोर्डे डायरिया प्रभावित क्षेत्रों का निरीक्षण कर रहे हैं। मस्तूरी सीपत के दर्राभांठा में डायरिया से एक की मौत हो गई है। वहीं पेंड्रा के सोनबहरा गांव में दो की मौत हो चुकी। जिस गांव में मौत हो रही है, वहां सीएमएचओ जाकर मामला दबाने की कोशिश कर रहे है। बिना पोस्टर्माटम रिपोर्ट के पुरानी बीमारी का हवाला दिया जा रहा है।

एनटीपीसी से आ रहा दूषित पेयजल
ग्रामीणों का आरोप है कि एनटीपीसी का गंदा पानी गांव में आता है। इसी वजह से डायरिया फैल रहा है। स्वास्थ्य विभाग व एनटीपीसी को लेकर को ग्रामीणों में भारी रोष है। दो दिन से गांव में बैठक चल रही है।

सोनबहरा में 8 लोग पीडि़त
जिले के कई क्षेत्रों में डायरिया पांव पसार रहा है। पेंड्रा के ग्राम सोनबहरा में 8 लोग डायरिया से पीडि़त मिले।

शहर में भी कहर, जिला अस्पताल व सिम्स में बिस्तर पैक
शहर के स्लम एरिया में भी डायरिया का कहर शुरू हो गया है। खासकर चांटीडीह, चिंगराज व तालापारा से मरीज इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। इस समय जिला अस्पताल के प्रथम तल में स्थित आइसुलेशन वार्ड के 11 बिस्तर पैक हैं। वहीं सिम्स के वार्ड में सभी 12 बिस्तरों पर मरीज हैं। गुरुवार सुबह जिला अस्पताल में 4 मरीजों को आई वार्ड में रखना पड़ा।

डायरिया पर नियंत्रण पाने के लिए मरीजों को भर्ती कर इलाज किया जा रहा है। दर्राभाठा, पेंड्रा के आसपास गांवों का निरीक्षण किया जा रहा है। सभी पीएचसी-सीएचसी के डॉक्टरों को अलर्ट कर दिया गया है।
डॉ. बीबी बोर्डे, सीएमएचओ

Amil Shrivas
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned