scriptDirt above and poison below: The five rivers of the state are dirty an | ऊपर मैल और नीचे जहर: प्रदेश की पांच नदियां मैली वहीं भूगर्भ जल में मौजूद हैं सभी जहर | Patrika News

ऊपर मैल और नीचे जहर: प्रदेश की पांच नदियां मैली वहीं भूगर्भ जल में मौजूद हैं सभी जहर

प्रदेश में जल की स्थिति सही नहीं है चाहे वो धरती के ऊपर यनि नदियों की बात हो या फिर धरती के नीचे ग्राउंड वाटर में संदूषक की उपस्थिति का मामला दोनों ही मामले में दिक्कत तो दिखती है। प्रदेश देश के उन आठ राज्यों में शामिल है जहां सभी आठ प्रकार के संदूषक ग्राउंड वाटर में उपस्थित हैं।

बिलासपुर

Published: May 21, 2022 05:18:25 pm

- केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का आंकड़ा: देश की 323 नदियां प्रदूषित, पांच छत्तीसगढ़ से
- हसदेव, खारुन, शिवनाथ, महानदी और केलो प्रदूषित
- छत्तीसगढ़ देश के उन आठ राज्यों में शामिल जहां के भूगर्भ जल में मिलते हैं सभी संदूषक
ऊपर मैल और नीचे जहर: प्रदेश की पांच नदियां मैली वहीं भूगर्भ जल में मौजूद हैं सभी जहर
ऊपर मैल और नीचे जहर: प्रदेश की पांच नदियां मैली वहीं भूगर्भ जल में मौजूद हैं सभी जहर
बिलासपुर. पहले धरती के ऊपर यानि नदियों की बात करें तो केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से जारी आंकड़े में बताया गया है कि देश की 323 नदियों में 351 प्रदूषित खंड की पहचान की गई है। इनमें से छत्तीसगढ़ की पंाच नदियां हसदेव, खारुन, शिवनाथ, महानदी और केलो शामिल है। इन नदियों के पांच खंड को प्रदूषित बताया गया है। अब यदि ग्राउंड वाटर की बात करें तो केंद्रीय भूमि जल बोर्ड के आंकड़े के अनुसार प्रदेश के भूजल में लवणता, फ्लोराइड, नाइट्रेट, आर्सेनिक, आयरन, लेड, कैडमियम सहित क्रोमियम जैसे विषाक्त पदार्थ मौजूद हैं। गौर करने वाली बात यह है कि सीजीडब्ल्यूबी के आंकड़े के हिसाब से छत्तीसगढ़ देश के उन आठ राज्यों में शामिल है जहां ये सभी विषाक्त पदार्थ भूजल में उपस्थित हैं।
नदियों का प्रदूषण केटेगरी फोर
प्रदेश की नदियों व उनके खंडों के प्रदूषण को कुल पांच केटेगरी में से केटेगरी फोर में रखा गया है। जिसमें पानी में उपल्बध बोओडी की मात्रा 6-10 मिलीग्राम प्रति लीटर है, लेकिन विषय यह है कि केंद्र्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने अपनी जांच में इसे प्रदूषित पाया है।
नदी प्रदूषित खंड
हसदेव कोरबा से उरगा
खारुन बुंदरी से रायपुर
महानदी आरंग से सिहावा
शिवनाथ सिमगा से बेमता
केलो रायगढ़ से कनकतुरा

भूगर्भ जल में सभी जहर
भूगर्भ जल में आठ प्रकार के विषाक्त पदार्थ होते हैं। प्रदेश में ये सभी आठों विषाक्त पदार्थ किसी न किसी जिले में उपस्थित हैं। देश के आठ राज्यों को छोड़ दें तो अन्य राज्यों में कहीं चार, कहीं पांच या छह पदार्थों की उपस्थिति पाई गई है। इस वर्ष मार्च तक की बात करें तो प्रदेश का एक जिला लवणता प्रभावित है वहीं १९ जिले में फ्लोराइड की समस्या है जबकि १२ जिले के भूगर्भ जल में नाइट्रेट, एक में आर्सेनिक, १७ जिले में आयरन, एक जिले में लेड, एक में केडमियम और एक जिले के भूगर्भ जल में क्रोमियम पाया गया है हलांकि इसे आंशिक प्रभावित बताया गया है।
इन राज्यों में हेल्दी वाटर
आंकड़े के अनुसार देश का अरुणाचल प्रदेश, गोवा, त्रिपुरा और पुद्दुचेरी ही ऐसे राज्य हैं जहां पर केवल एक-एक जिले के भूगर्भजल में विषाक्त पदार्थ की आंशिक मात्रा पाई गई है। जबकि हिमाचल, नागालैंड, उत्तराखंड, अंडमान निकोबार, मेघालय के कुछ जिलों में दो प्रकार के विषाक्त पदार्थ मिले हैं।
ग्राउंड वाटर में विषाक्त पदार्थ

विषाक्त पदार्थ प्रभावित जिले

लवणता 1
फ्लोराइड 19
नाइट्रेट 12
आर्सेनिक 1
आयरन 17
लेड 1
कैडमियम 1
क्रोमियम 1


एक्सपर्ट व्यू
सचिन परते, सहायक भूजलविद
क्षेत्र में पानी अधिक मात्रा में लगातार निकाले जाने के कारण कान्सनट्रेशन अधिक होता है इसके कारण पानी के साथ अशुद्धियां भी आ रही हैं। ग्राउंड वॉटर लेवल नीचे जाने पर ऐसा अधिकतर होता है। उत्तर छत्तीसगढ़ में मुख्य रूप से पानी में कैल्शियम की मात्रा अधिक पाई जाती है। इसका निराकरण प्रदेश में फिलहाल संभव नहीं है। भूगर्मिय जल स्तर बढ़ाने के प्रयास किए जाने पर ही पानी शुद्ध रूप से मिल पाएगा।

प्रदेश में उपाय नहीं, कर रहे क्षेत्र सील
सहायक भू जलविद परते के अनुसार प्रदेश के जिन गांवों में लवण पाए जाते हैं वहां लोक स्वास्थ्य अभियंत्रिकी विभाग की ओर से हैण्ड पंप से निकलने वाले पानी की जांच की जाती है। पुष्टि होने पर गांव और आसपास के क्षेत्रों के गांव के हैण्ड पंप की जांच की जाती है और जहां-जहां पानी अशुद्ध मिलता है वहां के हैण्ड पंप बंद कर क्षेत्र से भूगर्भ से पानी निकालना प्रतिबंधित किया जा रहा है। पानी का उपचार ट्रीटमेंट प्लांट से संभव है, लेकिन यह पानी निकालने की कीमत से 100 गुना महंगा पड़ता है। इसलिए प्रदेश में पानी ट्रीटमेंट करने की व्यवस्था नहीं है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

CBI Raid: दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया के घर पहुंची CBI की टीम, 20 ठिकानों पर चल रही छापेमारीDahi Handi Festival: मुंबई में दो साल बाद कृष्ण जन्माष्टमी की धूम, शहर के कई इलाकों में फोड़ी जाएगी दही हांडीमथुरा, वृंदावन समेत कई जगहों पर आज है जन्माष्टमी की धूम, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त और विधिक्यों मनीष सिसोदिया के घर पर CBI कर रही छापेमारी? जानिए क्या है पूरा मामलाMaharashtra News: महाराष्ट्र के रायगढ़ में हाई अलर्ट, एके-47 सहित हथियार मिलने के बाद जानें अब कैसे हैं हालातJanmashtami 2022: आज दिल्ली-NCR में इन रास्तों पर जाने से बचें, ट्रैफिक पुलिस ने जारी की है एडवायजरीपुजारा और उमेश के बाद अब मोहम्मद सिराज भी खेलेंगे काउंटी क्रिकेट, वारविकशायर के साथ किया करारसरकारी बैठक में शामिल हुए लालू के दामाद, मंत्री तेज प्रताप के साथ बहन मीसा के पति शैलेश भी अधिकारियों को हरकाते दिखे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.