बिलास्पुर जिले का ऐसा गांव जहां हर घर में हैं अर्जुन और एकलव्य

बिलास्पुर जिले का ऐसा गांव जहां हर घर में हैं अर्जुन और एकलव्य
Eklavya and arjun in every house in this village

एक तरफ देशभर में लोग क्रिकेट के दीवाने हैं, लेकिन बिलासपुर से लगे एटीआर के गांव शिवतराई में हर बच्चा तीरंदाज बनना चाहता है, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नाम रोशन करना चाहता है। 

डॉ.संदीप उपाध्याय.बिलासपुर. एक तरफ देशभर में लोग क्रिकेट के दीवाने हैं, लेकिन बिलासपुर से लगे एटीआर के गांव शिवतराई में हर बच्चा तीरंदाज बनना चाहता है, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नाम रोशन करना चाहता है। यहां शासकीय सेवक का बेटा हो या फिर एक मजदूर की बेटी हर कोई तीरंदाजी के गुर सीख रहा है। यहां घर-घर में अर्जुन और एकलव्य हैं। महज आठ साल में ही यहां के होनहार बच्चे 94 नेशनल गोल्ड, सिलवर व कांस्य पदक जीत चुके। 

 'पत्रिका' की टीम जब इन बच्चों से मिलने शिवतराई स्थित शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला पहुंची तो वहां बालक-बालिकाएं तीर-धनुष लिए लक्ष्य पर निशाना साध रहे थे। हर एक बच्चा धनुष पर तीर चढ़ाकर नाक की सीध तक डोरी खींचता और आंखें लक्ष्य की ओर। उनका निशाना नहीं चूक रहा था।

सेमल की लकड़ी से धनुष बनाकर की शुरूआत
प्रधान आरक्षक इतवारी राज सिंग ने बताया कि राज्य बनने के बाद उन्हें तीरंदाजी सिखाने के लिए कहा गया। तीरंदाजी का एक टूर्नामेंट देखकर सेमल की लकड़ी का धनुष बनाया। पहली ही बार में उनके एक छात्र ने पाइका में 6वीं रैंक हासिल की।उनके एक छात्र प्रमोद सिंह मरावी ने 2006 में कोच रवि ठाकुर को हराकर उनके हौसले को शीर्ष पर पहुंचा दिया।इतवारी ने 50 हजार रुपए लोन लिया। इससे धनुष मंगाए और वर्ष 2009 में उनके शिष्यों ने दस मेडल हासिल कर लिए।

ये हैं होनहार तीरंदाज
अभिलाष राज : कक्षा - 10वीं, नेशनल मेडल - 13 (5 गोल्ड, 8 सिलवर), लक्ष्य - इंटरनेशनल तीरंदाज बनना
यशपाल सिंह : कक्षा - 10वीं, नेशनल मेडल - 3 (1 गोल्ड, 2 सिलवर), लक्ष्य - इंटरनेशनल तीरंदाज बनना
अमन प्रकाश : कक्षा - 10वीं, नेशनल मेडल - 2 (1 गोल्ड, 1 सिलवर), लक्ष्य - इंटरनेशनल में भारत का नाम रोशन करना
मांगबाई पोर्ते : कक्षा - 12वीं, नेशनल मेडल - 4 (1 गोल्ड, 2 सिलवर, 1 कांस्य), लक्ष्य - गांव का नाम विदेश में रोशन करना
रत्ना मरावी : कक्षा - 10वीं, नेशनल मेडल - 3 (1 गोल्ड, 2 कांस्य), लक्ष्य - इंटरनेशनल तीरंदाज बनना
बिंदेश्वरी मरावी : कक्षा - बीए प्रथम वर्ष, नेशनल मेडल - 2 (2 सिलवर), लक्ष्य - इंटरनेशनल तीरंदाज बनना

सभी होनहार तीरंदाजों की शासन से मांग है कि गांव में एक अच्छी अकादमी खोली जाए।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned