चुनाव ड्यूटी ने बिगाड़ी स्कूलों में पढ़ाई की रफ्तार, व्यवस्था ठप

चुनाव ड्यूटी ने बिगाड़ी स्कूलों में पढ़ाई की रफ्तार, व्यवस्था ठप

Amil Shrivas | Publish: Sep, 04 2018 05:13:36 PM (IST) Bilaspur, Chhattisgarh, India

समस्या: प्रधानपाठकों के भरोसे चल रहे स्कूल

बिलासपुर. जिले बहुत से स्कूलों में पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों को बिना शिक्षकों के ही पढ़ाई करनी पड़ रही है। ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के अधिकांश स्कूलों का यही हाल है। वजह ये कि शिक्षकों की ड्यूटी चुनाव के लिए मतदाता सूची में लगा दी गई है। स्कूल केवल प्रधान पाठकों के भरोसे चल रहे हैं।

बिल्हा ब्लॉक में 548 सरकारी स्कूलों के शिक्षकों की ड्यूटी मतदाता सूची के कार्य में लगाई गई है। इसके चलते बच्चे स्कूल पहुंचते हैं और कुछ देर के बाद घर लौट जाते हैं। इससे इन बच्चों का भविष्य अंधकारमय बना हुआ है। कुछ महीनों के अंदर त्रैमासिक परीक्षा भी आयोजित होनी है। लेकिन बच्चे जब पढ़ाई ही नहीं कर रहे तो परीक्षा में बेहतर परिणाम कहां से हासिल कर पाएंगे, यह सवाल भी अभिभावकों को सता रहा है। चुनाव ड्यूटी में उन शिक्षकों को भी शामिल किया गया है, जिन्हें इस ड्यूटी से पृथक रखने का आदेश खुद शिक्षा विभाग ने दे रखा है।

अंग्रेजी स्कूल के शिक्षकों की ड्यूटी भी लग गई
सरकारी स्कूलों के बच्चों को बेहतर अंग्रेजी शिक्षा मिल सके, इसके लिए शिक्षा विभाग ने अंग्रेजी माध्यम की शुरूआत की है। इसके चलते तिलकनगर स्कूल में मिडिल और प्राइमरी स्कूल खोला गया है। 20 बच्चों ने एडमिशन भी लिया है। अंग्रेजी माध्यम के बच्चों की शिक्षा प्रभावित न हो, इसके लिए अंग्रेजी माध्यम के शिक्षकों क ी चुनाव ड्यूटी न लगाई जाए। यह फरमान शिक्षा विभाग ने जारी किया था, लेकिन चुनाव ड्यूटी में अंग्रेजी माध्यम के शिक्षकों को भी लगा दिया।

मतदाता सूची का काम अधूरा, शिक्षकों की ड्यूटी बढ़ी 7 दिन और
मतदाता सूची में तैयार करने में लगे शिक्षकों का काम अब तक पूरा नहीं हो सका है। इसके चलते चुनाव ड्यूटी में लगे शिक्षकों की ड्यूटी 7 दिन और बढ़ा दी गई है।

प्रधान पाठकों के भरोसे बच्चे
इन स्कूलों में बच्चों को पढ़ाने के लिए केवल प्रधान पाठक ही मौजूद हैं। तिलक नगर स्कूल में 4 शिक्षक हैं, यहां के चारों शिक्षकों की ड्यूटी लगा दी गई है। शासकीय स्कूल डबरीपारा, शासकीय स्कूल लोधीपारा, शासकीय स्कूल बंधवापारा, शासकीय स्कूल जबड़ापारा, शासकीय स्कूल बालक सरकंडा और अन्य स्कूलों में भी यही हाल है।

चुनाव ड्यूटी तक रहेगी समस्या
चुनाव ड्यूटी होने के कारण स्कूलों में शिक्षक नहीं हैं। लेकिन स्कूल बंद हो ऐसी स्थिति भी नहीं है। प्रधान पाठक पढ़ाई करा रहे हैं। चुनाव ड्यूटी समाप्त होने के बाद स्थिति सामान्य हो जाएगी।
अखिलेश तिवारी, सहायक विकासखंड शिक्षा अधिकारी

Ad Block is Banned