घूसखोर पटवारी की प्रताड़ना से तंग किसान ने की खुदकुशी, गिरफ्तार

- किसान छोटूराम ने आत्म हत्या करने से पहले पटवारी को अपनी मौत के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए सुसाइड नोट लिखा। सुसाइड नोट को सब्जी रखने वाले कैरेट में चड्डी में लपेट कर रखा था।

 

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 03 Apr 2021, 11:48 AM IST

बिलासपुर . पत्नी को सुबह 4 बजे खेत देखकर आने की बात कहकर निकले किसान ने खेत किनारे फांसी (chhattisgarh farmer suicide) लगा ली। सुसाइड नोट में पटवारी द्वारा मानसिक रूप से प्रताड़ित करने की बात भी किसान ने लिखी है। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने आरोपी पटवारी को गिरफ्तार कर लिया है। न्यायालय से पटवारी को जेल दाखिल कराया गया है।

पुलिस के अनुसार राजाकापा निवासी किसान छोटूराम कैवर्त पिता पंचराम (58) की 70 डिस्मील जमीन राजाकापा में है। जिसे बेचकर वह बहुरता खार के पास 75 डिस्मील जमीन खरीदना चाह रहा था। राजाकापा स्थित जमीन की ऋण पुस्तिका गुम होने के कारण वह जमीन की रजिस्ट्री कराने लगातार पटवारी के चक्कर लगा रहा था। पटवारी ने ऋण पुस्तिका बनवाने के लिए 5 हजार रुपए की मांग की थी।

छोटूराम ने पटवारी को 5 हजार रुपए अपने रिस्तेदार के साथ जाकर दिया व जल्द ही काम करने के लिए कहा था। इस दौरान पटवारी ने उसे जल्द काम करने का आश्वासन दिया था। रुपए लेने के बाद भी जब काम नहीं हुआ तो छोटूराम मानसिक रूप से परेशान रहने लगा। क्योकी जमीन खरीदर भी रजिस्ट्री को लेकर बार बार छोटू को कह रहा था। पटवारी की लेट लतीफी से परेशान होकर छोटू राम ने खेत से लगे पेड में लटक कर आत्म हत्या कर ली। पुलिस ने मामले में अपराध दर्ज कर जांच पटवारी उत्तम कुमार प्रधान पटवारी हलका नम्बर 10 निगारबंद को गिरफ्तार कर लिया है।

15 से 20 बार लगा चुका था पटवारी का चक्कर
किसान छोटूराम कैवर्त की राजाकापा (farmer suicide) में 70 डिस्मील जमीन है जिसका सौदा व रविन्द्र कश्यप से 7 लाख 25 हजार रुपए में किया था। 1 लाख 25 हजार रुपए बतौर बयाना ले चुका था। ऋण पुस्तिका गुम होने के कारण छोटूराम रजिस्ट्री नहीं करवा पा रहा था। वही रविन्द्र भी सवा लाख देने के बाद जल्द से जल्द जमीन की रजिस्ट्री हो जाए इसके लिए किसान से बात कर रहा था। जमीन की रजिस्ट्री जल्द कराने छोटूराम पटवारी के 15 से 20 बार चक्कर लगा चुका था।

बहुरता खार के खेत बढ़ाने खरीद रहा था 75 डिस्मील जमीन
मृतक छोटूराम की राजाकॉपा व बहुरता खार में कुल जमीन 2 एकड़ 75 डिस्मील थी। बहुरता खार की जमीन ज्यादा थी इस कारण वह अपने बहुरता खार की जमीन को और बढ़ाने के लिए अपने खेत से लगी रामगोपाल यादव की 75 डिस्मील जमीन को 4 लाख में खरीदने सौदा किया था। लेकिन पटवारी की लेट लतीफी की वजह से न तो वह अपना खेत बेच पा रहा था और न ही रामगोपाल का खेत खरीद पा रहा था।

सब्जी कैरेट में रखा था सुसाइड नोट, आखरी में लिखा जय श्री राम
किसान छोटूराम ने आत्म हत्या करने से पहले पटवारी को अपनी मौत के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए सुसाइड नोट लिखा। सुसाइड नोट को सब्जी रखने वाले कैरेट में चड्डी में लपेट कर रखा था। पुलिस ने पंचानामा के दौरान सुसाइड नोट बरामद किया है। सुसाइड नोट में बेटे रज्जू को मां श्यामा बाई का ख्याल रखने की बात लिखी है वही आखिर में जय श्रीराम लिख कर फंद पर झूल गया।

किसान की आत्म हत्या की जानकारी लगते ही पटवारी हो गया था फरार
किसान आत्म हत्या मामले की जानकारी लगते ही पटवारी उत्तम कुमार प्रधान घर से फरार हो गया था। तखतपुर पुलिस ने साइबर सेल की सहायता से मोबाइल डम्प से लास्ट लोकेशन के आधार पर पटवारी को रतनपुर के वार्ड नं. 12 से गिरफ्तार कर लिया।

पटवारी निलम्बित, प्रभार मिला दूसरे पटवारी को
किसान छोटू राम द्वारा आत्म हत्या करने के मामले को एसडीएम आनंद रूप तिवारी ने गंभीरता से लिया है। एसडीएम आनंद रूप तिवारी ने पटवारी उत्तम कुमार प्रधान पिता लखन लाल को शासकीय कार्य में लापरवाही करने का जिम्मेदार मानते हुए तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया है। निलम्बन अवधि में उत्तम प्रधान को सकरी तहसील में अटैच किया गया है वही निगारबंद पटवारी हलका नम्बर 10 का प्रभार पटवारी हलका नम्बर 11 बहुरता की पटवारी लक्ष्मी नायडु को प्रभारी दिया गया है।

अधिया में लगाई थी टमाटर व भाटे की फसल
जिस जगह पर किसान छोटूराम ने आत्म हत्या की है उसी खेत को उसने पांडे महराज से अधिया में बोने के लिया था। पुलिस ने मौके पर पहुंच देखा तो टमाटर व भाठा की फसल लहलहा रही थी।

पूर्व महिला आयोग अध्यक्ष ने की न्यायायिक जांच की मांग
छोटूराम की आत्म हत्या की जानकारी लगते ही पूर्व महिला आयोग अध्यक्ष हर्षिता पांडेय किसान के घर पहुंची। उन्होंने पीडित परिवार को ढाढस बंधाया व मामले की न्यायालिक जांच की मांग की है। हर्षिता पांडेय ने पीडि़त परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी व 25 लाख मुआवजा की मांग करते हुए कहा की प्रदेश में दो साल के अंदर 480 किसानों ने आत्म हत्या कर चुके है।

विधायक ने भेजवाई 15 हजार की सहायता राशी
असम चुनाव में प्रचार प्रसार करने गई संसदीय सचिव रश्मि आशिष सिंह ठाकुर ने किसान के आत्म हत्या करने की जानकारी लगते ही पीडि़त परिवार से संदवेदना व्यवक्त करते हुए 15 हजार रुपए की सहायता राशी उपलब्ध कराई है।

छोटूराम कैवर्त के सुसाइड मामले में पुलिस ने पटवारी पर आत्म हत्या के उकसाने की धारा 306 के तहत अपराध दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है। पटवारी न्यायालय से जेल दाखिल किया गया है। पुलिस सुसाइड नोट को जप्त कर हस्त मिलान एक्सपर्ट के पास भेजने की कार्रवाई कर रही है।
- मोहन भारद्वाज, थाना प्रभारी तखतपुर

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned